Credit Card कार्ड क्या होता है ? और Credit Card कैसे बनवाये ? फुल इनफार्मेशन

Credit Card के बारे में आपने जरूर सुना होगा। क्रेडिट कार्ड डेबिट कार्ड/एटीएम की तरह ही प्लास्टिक का एक कार्ड होता है। लेकिन अक्सर लोगों में क्रेडिट कार्ड और डेबिट कार्ड को लेकर भ्रम बना रहता है। इसलिए आज हम यहां पर आपको बताने जा रहे हैं। कि Credit Card क्या होता है। और इसके लिए आप कैसे अप्लाई कर सकते हैं।

Credit Card kya hota hai

Credit Card कार्ड क्या होता है –

क्रेडिट कार्ड ATM की तरह ही एक प्लास्टिक का कारण होता है। जिसका उपयोग करके आप किसी भी दुकान/ शॉपिंग मॉल का बिल, ऑनलाइन खरीदारी अथवा मनी ट्रांसफर कर सकते हैं।  Credit Card को कैश Advance और कैश विड्रॉल भी कहते हैं। इसके साथ ही Credit Card का उपयोग आप अपने देश के अतिरिक्त विदेश में भी बड़ी आसानी से कर सकते हैं। क्रेडिट कार्ड की सुविधा बैंकों द्वारा उपलब्ध कराई जाती है। जिसमें कुछ धनराशि बैंकों द्वारा उपभोक्ताओं को उधार के तौर पर प्रदान की जाती है। जब भी आप कुछ खरीदना चाहते हैं तो आप Credit Card से पेमेंट कर सकते हैं।

क्रेडिट कार्ड उपयोग करने की सीमा भी होती है। यह आपके कार्ड की अंतिम राशि पर निर्भर करती है। क्रेडिट कार्ड में हमेशा कुछ न कुछ राशि बचा कर रखना चाहिए। क्रेडिट कार्ड बिल का जब आपको भुगतान करना होता है। तो आपको खर्च की गई राशि के साथ ही इसके साथ ही ब्याज का भुगतान भी करना पड़ता है।

Credit Card कितने प्रकार के होते है –

क्रेडिट कार्डसामान्यता तीन प्रकार के होते हैं।  जिनका विवरण कुछ इस प्रकार है –

साधारण उद्धेश्य Credit Card (Revolving Credit Card) –

इस तरह के Credit Card को आप कभी भी कहीं भी उपयोग कर सकते हैं। इस तरह के कार्ड का आम तौर पर कपड़ों की खरीदारी से लेकर भोजन के बिल का भुगतान तक उपयोग किया जाता है।और इसके साथ हवाई सफर के बिल पेमेंट का भुगतान किया जाता है।

स्टोर कार्ड (store card )

स्टोर कार्ड किसी विशेष स्टोर के लिए जारी किए जाते हैं। इन कार्डों का मुख्य उद्देश्य किसी विशेष प्रकार के स्टोर से खरीददारी करने का होता है। अधिकांश इस तरह के कार्ड किसी शॉपिंग मॉल के लिए उपयोग किया जाते हैं। इन कार्डों पर सामान्य से अधिक ब्याज दर होती है।

परंपरागत चार्ज Credit Card –

परंपरागत चार्ज क्रेडिट कार्ड में सामान्य तौर पर किसी खरीददारी या सेवाओं के लिए एक निर्धारित राशि निश्चित समय पर देनी पड़ती है। इस तरह के Credit Card पर सामान्यता किसी भी प्रकार का ब्याज नहीं देना पड़ता है। लेकिन आप को हर महीने इस तरह के क्रेडिट कार्ड का बकाया भुगतान करना होता है। इस तरह के कार्डों को सामान्य रूप में ट्रेवल एंड इंटरटेनमेंट क्रेडिट कार्ड भी कहा जाता है। इसका  उदाहरण अमेरिकन एक्सप्रेस कार्ड हैं ।

कौन-कौन से बैंक में Credit Card के लिए अप्लाई कर सकते हैं –

भारत के सभी प्रमुख बैंक क्रेडिट कार्ड के आवेदन को स्वीकार करते हैं। लेकिन हम यहां आपको कुछ विशेष बैंकों के बारे में बता रहे हैं। जहां से आप क्रेडिट कार्ड के लिए आवेदन कर सकते हैं।

State bank of India, Bank of Baroda, Bank of India, Corporation Bank, Union Bank, Hdfc Bank, Icici Bank,Bank, Hsbc, Syndicate Bank ,vijaya Bank kotak Bank,Canara Bank, PNB Indian overseas Bank,  indusind Bank, Axis

Credit Card के लिए कैसे आवेदन करें –

आप अपनी जरुरत के अनुसार किसी भी बैंक में Credit Card के लिए आवेदन कर सकते हैं। क्रेडिट कार्ड बनवाने के मुख्यता तीन प्रकार होते हैं। जिनके बारे में हम आपको नीचे विस्तृत रूप में बता रहे हैं।

Credit Card kya hota hai

नौकरी वालों के लिए –

यदि आप किसी सरकारी विभाग में काम कर रहे हैं। या फिर किसी प्रतिष्ठित प्राइवेट कंपनी में काम कर रहे हैं। तो आप अपनी आय की रसीद को लेकर बैंक में Credit Card के लिए आवेदन कर सकते हैं। या फिर आप ऑनलाइन ही क्रेडिट कार्ड के लिए आवेदन कर सकते हैं। आप की मासिक आय के अनुसार ही बैंक आपके क्रेडिट कार्ड की धनराशि की सीमा निर्धारित करता है। क्रेडिट कार्ड बनवाने का यह सबसे सरल तरीका है। इस तरीके से बैंक बहुत जल्द ही क्रेडिट कार्ड के आवेदन को स्वीकार कर लेते हैं।

स्वरोजगार वालों के लिए –

अगर आप अपना स्वयं का रोजगार करते हैं। तो भी आप Credit Card बनवा सकते हैं। अपना खुद का व्यापार करने वाले लोग बैंक में जाकर क्रेडिट कार्ड के लिए आवेदन कर सकते हैं। बैंक में आपको अपने प्रति माह आमदनी के कुछ प्रूफ भी दिखाने पड़ सकते है।कभी-कभी स्वरोजगार वाले व्यक्तियों को इनकम टैक्स रिटर्न की रसीद भी दिखानी पड़ जाती है।आपकी आय के अनुसार बैंक क्रेडिट कार्ड की धनराशि की सीमा तय करके आपके आवेदन को स्वीकार कर लेते हैं।

यदि नौकरी और को रोजगार दोनों न हो तो क्या करें –

यदि आप ऊपर बताये गए नौकरी जॉब और  रोजगार दोनों श्रेणी में नहीं आते हैं। तो भी आप क्रेडिट कार्ड के लिए आवेदन कर सकते हैं। और आपका आवेदन बैंक द्वारा स्वीकार कर लिया जाएगा। इसके लिए आपको नीचे बताए के तरीके को अपनाना होगा।

ऐसी स्थिति में आप को सबसे पहले किसी बैंक में खाता खुलवाना होता है। खाता खुलवाने के पश्चात आपको अपने अकाउंट में किसी निर्धारित राशि की FD अर्थात फिक्स डिपाजिट करना होता है। आपके द्वारा की गई फिक्स डिपाजिट धन राशि बैंक में गारंटी के तौर पर जमा रहती है। और फिक्स डिपाजिट की धन राशि के अनुसार ही बैंक आपके Credit Card की धनराशि निर्धारित करती है।

 

Credit Card के लाभ –

क्रेडिट कार्डबनवाने से आपको निम्नलिखित लाभ प्राप्त होते हैं –

1. क्रेडिट कार्ड से आप कभी भी कहीं से ऑनलाइन शॉपिंग कर सकते हैं।

2. क्रेडिट कार्ड के कारण आपको कहीं भी नकद कैश ले जाने की जरूरत नहीं पड़ती है।

3. बहुत से ऑनलाइन और ऑफलाइन स्टोर में क्रेडिट कार्ड से खरीदारी करने पर आप को डिस्काउंट प्रदान किया जाता है।

4. क्रेडिट कार्ड के माध्यम से आप अपने मासिक खरीदारी को व्यवस्थित कर सकते हैं।

Credit Card के नुकसान –

एक तरफ जहां Credit Card के बहुत सारे फायदे हैं। तो दूसरी तरफ उसके कई सारे नुकसान भी हैं। जिंहें आप निम्न प्रकार से समझ सकते हैं –

1. क्रेडिट कार्ड होने के कारण आपको कभी पैसे की कमी महसूस नहीं होती है। इसलिए आप का खर्चा बढ़ जाता है।

2. यदि आप अपने खाते का संचालन सही ढंग से नहीं करते हैं। तो आप पर अधिभार भी लगाया जा सकता है।

3. लेट पेमेंट से आपके Credit Card का स्कोर डाउन हो सकता है।

4. लगभग सभी बैंक के क्रेडिट कार्ड देते समय कहते हैं। कि जीरो प्रतिशत ब्याज दर पर आपको भुगतान करना होगा। लेकिन इसके लिए बहुत सी शर्त पर भी लागू होती हैं। जिनका आमतौर पर लोग पालन नहीं कर पाते हैं। और अधिक राशि का भुगतान करना पड़ जाता है।

5. आजकल ऑनलाइन हैकिंग काफी बढ़ चुकी है। जिसके कारण कभी-कभी क्रेडिट कार्ड हैक हो जाता है। जिससे आपको भारी मात्रा में आर्थिक क्षति पहुंच सकती है।

तो दोस्तों यह थी Credit Card के बारे में कुछ जानकारी। आशा करते हैं आप को यह जानकारी काफी अच्छी लगी होगी। इस जानकारी को आप अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करें। साथ ही यदि आपको किसी भी प्रकार का सवाल हो तो आप नीचे कमेंट बॉक्स में कमेंट कर सकते हैं।

Leave a Comment

1 Shares
Share1
+1
Tweet
Pin