होम लोन के लिए कितना सिबिल स्कोर होना चाहिए? महिलाओं के लिए होम लोन 2023

|| होम लोन के लिए कितना सिबिल स्कोर होना चाहिए?, लोन लेने के लिए सिबिल स्कोर कितना होना चाहिए, महिलाओं के लिए होम लोन 2023, होम लोन के लिए क्या डॉक्यूमेंट चाहिए, होम लोन कितने परसेंट मिलता है?, 30 लाख के लिए ईएमआई 20 साल के लिए होम लोन, सिबिल हटाने का तरीका, For home loan how much cibil score is needed? ||

एक बंगला बने न्यारा…। बेशक यह एक हिंदी फिल्म का गीत है, लेकिन यह एक आम आदमी की जिंदगी का सपना और सच्चाई भी है। हर किसी का सपना अपना ड्रीम होम (dream home) पाने का होता है। इसके लिए आदमी जी तोड़ कोशिश करता है।

बैंक में लोन के लिए अप्लाई करता है, लेकिन फर्ज कीजिए यदि किसी वजह से जैसे-सिबिल स्कोर (CIBIL score) कम होने की वजह से उसका होम लोन (home loan) आवेदन रिजैक्ट (reject) हो जाए तो निश्चित रूप से उसे बहुत धक्का लगेगा।

एक आम आदमी को पहले ही सिबिल स्कोर को लेकर थोड़ा सावधानी बरतनी चाहिए ताकि उसकी होम लोन अथवा क्रेडिट कार्ड एप्लीकेशन कभी न रूके। आज इस पोस्ट में हम आपको बताएंगे कि होम लोन के लिए कितना सिबिल स्कोर होना चाहिए। आइए, शुरू करते हैं-

Contents show

सिबिल स्कोर क्या होता है? (What is CIBIL score?)

दोस्तों, आपको जानकारी दे दें कि यह एक तीन डिजिट (digit) का स्कोर होता है, जो आपकी क्रेडिट क्षमता/योग्यता (credit eligibility) को दर्शाता है। यह 300 से 900 के बीच होता है। यदि किसी ने एक बार क्रेडिट अथवा लोन लिया है तो उसका क्रेडिट स्कोर अवश्य होगा। इसी के आधार पर बैंक यह तय करता है कि संबंधित व्यक्ति को लोन देना है या नहीं।

होम लोन के लिए कितना सिबिल स्कोर होना चाहिए? For home loan how much cibil score is needed?

आपको बता दें कि सिबिल स्कोर (CIBIL score) जितना अधिक होता है, व्यक्ति की क्रेडिट क्षमता उतनी ही बेहतर समझी जाती है। आम तौर पर इसका पैमाना इस प्रकार रहता है-

  • 900 से 800 एक्सीलेंट (excellent)
  • 799 से 740 बहुत अच्छा (best)
  • 739 से 670 अच्छा (good)
  • 669 से 580 ठीक (average)
  • 579 से 300 खराब (bad)

सिबिल स्कोर कैसे बनता है? (How CIBIL score is collected?)

सिबिल स्कोर के मामले में आपके दिमाग में यह प्रश्न अवश्य पैदा हो सकता है कि आखिर यह बनता कैसे है? दोस्तों आपको बता दें कि इसके आधार इस प्रकार से हैं-

  • आप समय पर कर्ज चुका रहे हैं अथवा नहीं-30 प्रतिशत
  • सिक्योर्ड अथवा अनसिक्योर्ड लोन-25 प्रतिशत
  • क्रेडिट एक्सपोजर-25 फीसदी
  • कर्ज का इस्तेमाल-20 प्रतिशत

दोस्तों, बहुत से लोगों के भीतर एक भ्रम रहता है कि सिबिल स्कोर (CIBIL score) और क्रेडिट स्कोर (credit score) अलग अलग होते हैं। लेकिन आपको स्पष्ट कर दें कि यह एक ही होता है।

इसके अतिरिक्त लोग समझते हैं कि क्रेडिट स्कोर बैंक का होता है, लेकिन आप क्लियर कर लीजिए कि यह बैंक का नहीं होता, बल्कि व्यक्ति का होता है, जो कि उसके वित्तीय लेन-देन एवं लोन भुगतान आदि पर निर्भर करता है।

होम लोन लेने के लिए कितना सिबिल स्कोर होना चाहिए? (How much CIBIL score is needed for home loan?)

अब सवाल यह उठता है कि होम लोन लेने के लिए कितना सिबिल स्कोर होना चाहिए। दोस्तों, आपको बता दें कि इसके लिए अधिकांश बैंक/वित्तीय संस्थान (banks/financial institutions) 750 अथवा इससे अधिक क्रेडिट स्कोर को ही अच्छा मानते हैं। यदि आपकी सिबिल इससे अधिक है तो उसे आउटस्टैंडिंग (outstanding) की श्रेणी में रखा जाता है।

लेकिन यदि आपकी सिबिल 750 से कम है तो बैंक लोन देने में आनाकानी करते हैं, अथवा अधिक ब्याज दर पर लोन देते हैं, क्योंकि वह इसे जोखिम भरा समझते हैं। आपको यह भी जानकारी दे दें कि जितना कम सिबिल स्कोर होगा, बैंक आपको लोन देना उतना ही जोखिम भरी श्रेणी में रखेगी।

यदि सिबिल खराब है तो कैसे लोन मिलेगा? (If CIBIL is not good, how you can get a loan?)

दोस्तों, आपको बता दें कि यदि आपकी सिबिल खराब है, लेकिन आपको अर्जेंसी में लोन चाहिए तो आप गैंर बैंकिंग वित्तीय कंपनियों (non banking finance companies) यानी एनबीएफसी (NBFC) से लोन के लिए आवेदन कर सकते हैं।

ये कम क्रेडिट स्कोर वाले ग्राहकों को भी तुरंत लोन दे देती हैं, अलबत्ता इस सुविधा के लिए यह कंपनियां ग्राहकों से बैंकों की तुलना में अधिक ब्याज दर से पैसा वसूलती हैं।

यह तो आप जानते ही हैं कि आपका सिबिल स्कोर आपकी क्रेडिट इंफार्मेशन रिपोर्ट (credit information report) में दी गई जानकारी पर आधारित होता हैं।

सिबिल स्कोर कितने दिन में अपडेट होता है? (In how many days CIBIL score get updated?)

दोस्तों, आपको जानकारी दे दें कि सिबिल स्कोर को अपडेट होने में किसी भी क्रेडिट ट्रांजेक्शन के पश्चात करीब 45 दिन का समय लगता है।

यदि बैंक की ओर से सिबिल/क्रेडिट ब्यूरो (cibil/credit bureau) को ट्रांजेक्शन रिपोर्ट देरी से भेजी जाती है तो इसे अपडेट होने में करीब दो माह यानी 60 दिन का समय लग जाता है।

अपना सिबिल स्कोर कैसे चेक करें? (How to check your CIBIL score?)

दोस्तों, आप अपना सिबिल स्कोर आनलाइन चेक (online check) कर सकते हैं। आप चाहें तो सीधे क्रेडिट वेबसाइट पर जाकर अथवा बैंकों की वेबसाइट से सिबिल स्कोर चेक कर सकते हैं। सिबिल रिपोर्ट ले सकते हैं। नियम यह है कि साल में एक क्रेडिट इंफार्मेशन रिपोर्ट आपको मुफ्त दी जाती है।

इसके अतिरिक्त कुछ वेबसाइट इसके लिए कुछ फीस चार्ज करती हैं, तो कुछ इसे मुफ्त में भी आपको प्रदान कर देती हैं। कई वेबसाइट इसके लिए प्लान भी जारी करती हैं, इसे आप अपनी सुविधा अनुसार चुन सकते हैं। सिबिल स्कोर चेक करने के स्टेप्स (steps) इस प्रकार से हैं-

  • सबसे पहले सिबिल की आफिशियल वेबसाइट https://www.cibil.com/ पर जाएं।
  • अब get your cibil score के आप्शन पर क्लिक करें। यहां आपको अपना फ्री सालाना स्कोर मिलेगा। अब आपके सामने एक फाॅर्म खुल जाएगा।
ऑनलाइन फ्री सिविल स्कोर कैसे चेक करें? सिविल स्कोर चेक करने के तरीके
  • इसमें आपको अपना नाम, ईमेल आईडी एवं पासवर्ड टाइप करना होगा। इसके साथ ही एक आईडी प्रूफ पैन कार्ड/आधार कार्ड/वोटर आईडी/ आदि अपलोड करें। अपना पता, पिनकोड, जन्म तिथि एवं मोबाइल नंबर डालें।
  • इसके बाद accept and continue पर क्लिक करें।
ऑनलाइन फ्री सिविल स्कोर कैसे चेक करें? सिविल स्कोर चेक करने के तरीके
  • अब आपको आपके मोबाइल नंबर (mobile number) पर एक छह अंकों का एक ओटीपी मिलेगा।
  • आपको इस ओटीपी (OTP) को बाक्स में दर्ज कर continue के आप्शन पर क्लिक करना होगा।
  • इसके पश्चात go to dashboard चुनकर check your credit score पर क्लिक करें।
  • अब आपको myscore.cibil.com पर redirect कर दिया जाएगा।
  • यहां member login पर क्लिक करके login करने के पश्चात आप अपना सिबिल स्कोर जांच सकते हैं।

एसबीआई के इस उदाहरण से ऐसे जानें लोन से पहले सिबिल रिपोर्ट पाने का तरीका-

मान लीजिए कि आप एसबीआई से होम लोन लेना चाहते हैं और इसके लिए अपना क्रेडिट स्कोर जानना चाहते हैं तो आपको यह steps फाॅलो करने होंगे-

  • सबसे पहले एसबीआई loans की आनलाइन वेबसाइट के इस लिंक https://homeloans.sbi/getcibil पर जाएं।
  • यहां get your cibil के आप्शन पर क्लिक करें।
  • इसके पश्चात आपके सामने एक फार्म खुल जाएगा।
  • इस फार्म में आपको अपनी पर्सनल डिटेल्स (personal details) जैसे-नाम, मोबाइल नंबर, ईमेल आईडी, पिनकोड सहित पता, जन्म तिथि, पैन कार्ड नंबर आदि भरना होगा।
  • इसके पश्चात एक ओटीपी के जरिए अपने मोबाइल नंबर को वैरिफाई (verify) कराना होगा।
  • साथ ही स्वीकृति देनी होगी कि बैंक आप द्वारा दी गई जानकारी के आधार पर आपको काॅल कर सकता है अथवा उसका कोई प्रतिनिधि आपसे संपर्क कर सकता है।
  • अब बैंक की ओर से आपकी सिबिल रिपोर्ट (CIBIL report) पीडीएफ फाॅर्मेट (PDF format) में आपके द्वारा प्रदान की गई ईमेल आईडी पर भेज दी जाती है।
  • इसे ओपन (open) करने के लिए छह अंकों का एक ओटीपी भी आपके मोबाइल पर भेजा जाता है।
  • इस ओटीपी को डालकर ही आप पीडीएफ काॅपी को ओपन कर सकेंगे।
  • आपकी पूरी सिबिल रिपोर्ट आपके सामने होगी।

कितने अंतराल के पश्चात अपना सिबिल स्कोर जांचते रहें? (After how much time you have to check your CIBIL?)

मित्रों, अब आप जान ही गए होंगे कि होम लोन के लिए आपका बेहतर सिबिल स्कोर (cibil score) होना कितना जरूरी है। हमारी आपको सलाह है कि आप प्रत्येक तीन माह के अंतराल पर अपना सिबिल स्कोर जरूर चेक करते रहें।

इससे लाभ यह होगा कि यदि कोई त्रुटि अथवा कमी रहेगी तो आप इसे आसानी से सुधार सकते हैं। ऐसे में जब भी आप होम लोन के लिए अप्लाई करेंगे तो आपका आवेदन सिबिल स्कोर की वजह से कम से कम रिजेक्ट नहीं होगा।

होम लोन के लिए अपना सिबिल स्कोर कैसे बढ़ाएं? (How to increase your CIBIL for home loan?)

दोस्तों, अब हम आपको एक बेहद महत्वपूर्ण जानकारी देने जा रहे हैं। वो ये कि होम लोन के लिए आप अपना सिबिल स्कोर कैसे बढ़ा सकते हैं। इसके तरीके इस प्रकार से हैं-

  • अपने क्रेडिट कार्ड के बिल का वक्त पर और पूरा पेमेंट करें।
  • आपका जो क्रेडिट कार्ड है, उसकी लिमिट का 30 प्रतिशत अथवा उससे कम ही इस्तेमाल करें।
  • यदि आपकी सिबिल रिपोर्ट में कोई त्रुटि दिखे तो उसे ठीक करें।
  • एक साथ कई जगह होम लोन अप्लाई करने से बचें। आपको बता दें कि प्रत्येक क्रेडिट क्वेरी आपके सिबिल स्कोर को कुछ प्वाइंट कम कर देती है।

भारत में कौन कौन से क्रेडिट ब्यूरो सीआईआर तैयार करते हैं? (Which credit bureaus prepare cir in india?)

मित्रों, अब हम आपको बताएंगे कि भारत में कौन कौन से क्रेडिट ब्यूरो सीआईआर (cir) यानी क्रेडिट इंफार्मेशन रिपोर्ट (credit information report) तैयार करते हैं। आपको बता दें कि भारत में मुख्य रूप से चार क्रेडिट ब्यूरो काम कर रहे हैं। इनमें सबसे पुराना क्रेडिट ब्यूरो ट्रांसयूनियन (transunion) है, जिसे सिबिल (CIBIL) भी पुकारा जाता है।

इसके अलावा एक्सपेरियन, इक्वीफैक्स एवं हाईमार्क क्रेडिट ब्यूरो भी बहुत से बैंकों एवं वित्तीय संस्थानों के लिए व्यक्तियों एवं संगठनों की क्रेडिट इंफार्मेशन रिपोर्ट तैयार करते हैं। यह चारों क्रेडिट ब्यूरो रिजर्व बैंक आफ इंडिया (reserve Bank of India) यानी आरबीआई (RBI) से रजिस्टर्ड हैं।

दोस्तों, आपको बता दें कि क्रेडिट ब्यूरो बनाने के पीछे मकसद फाइनेंस सिस्टम को दुरूस्त करना, एनपीए (NPA) यानी नाॅन परफाॅर्मिंग एसेट्स (non performing assets) को कम करना एवं लोन देने वालों की क्वालिटी (quality) में सुधार करके उनकी कार्यक्षमता बढ़ाना था।

एक सीआईआर में क्या क्या जानकारी होती है? (What information does a cir contain?)

साथियों, आपको बता दें कि एक क्रेडिट इंफार्मेशन रिपोर्ट आपकी क्रेडिट हिस्ट्री (credit history) की जानकारी है। आइए, जान लेते हैं कि इसमें मुख्य रूप से क्या-क्या जानकारी होती हैं। यह इस प्रकार से है-

  • एकाउंट्स की संख्या (number of accounts)।
  • एकाउंट्स के प्रकार (types of accounts)।
  • क्रेडिट लिमिट (credit limit)।
  • लोन अमाउंट (loan amount)।
  • पेमेंट हिस्ट्री (payment history)।
  • लोन रिकाॅर्ड (loan record) आदि।

सिबिल रखें दुरूस्त, ताकि होम लेने में दिक्कत न हो

बहुत से लोग आम तौर पर सिबिल को लेकर बहुत जागरूक नहीं होते। उनका इस शब्द से पाला ही तभी पड़ता है, जबकि वह लोन लेने के लिए आवेदन करते हैं। यदि किसी को इमरजेंसी में लोन लेना पड़ता है तो सिबिल के अभाव अथवा कम होने की स्थिति में उसे एनबीएफसी के चक्कर में पड़ना पड़ता है, जहां उसे फंची दर से ब्याज चुकाना पड़ता है।

यदि कोई व्यक्ति आय उपार्जन के साथ ही सिबिल के प्रति जागरूक हो जाए तो बेहतर है। सिबिल दुरूस्त रखने से उसे कभी भी लोन लेने के लिए समस्या का सामना नहीं करना पड़ेगा। जैसा कि हमने आपको फपर बताया कि होम लोन लेने के लिए आवश्यक है कि सिबिल स्कोर 750 अथवा उससे अधिक हो।

ऐसे में उसे लोन लेकर उसके समय से repayment पर ध्यान देना होगा। क्रेडिट कार्ड पेमेंट पर ध्यान देना होगा। साथ ही कोशिश करनी होगी कि वह एक वक्त में एक ही लोन ले और उसका समय से भुगतान करे। ऐसा करने से उसका सिबिल स्कोर दुरूस्त रहेगा और उसे होम लोन में कोई प्राॅब्लम नहीं होगी। उसका लोन आवेदन आसानी से मंजूर हो जाएगा।

सिबिल स्कोर क्या होता है?

यह तीन डिजिट का नंबर होता है, जो व्यक्ति की क्रेडिट क्षमता को दर्शाता है।

सिबिल स्कोर अपडेट करने में कितना समय लगता है?

आम तौर पर किसी भी क्रेडिट ट्रांजेक्शन के बाद सिबिल स्कोर अपडेट करने में 45 दिन का समय लग जाता है।

होम लोन लेने के लिए सिबिल स्कोर कितना होना चाहिए?

होम लोन लेने के लिए सिबिल स्कोर 750 अथवा इससे अधिक होना चाहिए।

क्या सिबिल खराब होने पर भी लोन मिल सकता है?

जी हां, लेकिन ऐसी स्थिति में आपको एनबीएफसी से लोन के लिए आवेदन करना पड़ेगा। एक और दिक्कत है कि वह आपसे उच्च ब्याज दर भी वसूलेंगे।

क्या सिबिल रिपोर्ट देने के लिए बैक फीस भी वसूलते हैं?

बहुत से बैंक एवं वित्तीय संस्थान इसके लिए फीस वसूलते हैं, जबकि बहुत से इस कार्य को फ्री में करते हैं।

क्या सिबिल रिपोर्ट आनलाइन निकलवाना संभव है?

जी हां, सिबिल रिपोर्ट आनलाइन निकलवाई जा सकती है।

दोस्तों, हमने आपको जानकारी दी कि होम लोन के लिए सिबिल स्कोर कितना होना चाहिए। उम्मीद है कि यह जानकारी आपके लिए उपयोगी साबित होगी। आप अपना सिबिल स्कोर बेहतर बनाकर लोन हासिल कर सकेंगे। यदि आप इसी प्रकार की जानकारीप्रद पोस्ट हमसे चाहते हैं तो नीचे दिए गए कमेंट बाक्स में कमेंट करके हमें बता सकते हैं। आपकी प्रतिक्रियाओं एवं सुझावों का हमेशा की भांति स्वागत है। ।धन्यवाद।।

—————————–

Leave a Comment

सवर्ण 10% आरक्षण लाभ कैसे मिलेगा ? मोबाइल से Slow Motion Video कैसे बनाए? दिल्ली रोजगार बाजार पोर्टल ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन आत्मनिर्भर कृषक समन्वित विकास योजना 2023 मुख्यमंत्री बालक बालिका प्रोत्साहन योजना 2023 ऑनलाइन आवेदन