[धारा 138] Cheque Bounce होने पर क्या करें ? चेक बाउंस होने पर क्या सजा मिलती है ? Cheque Bounce Charges

शायद हममें से कोई भी ऐसा व्यक्ति नहीं होगा | जिससे Cheque Bounce के बारे में पता ना हो | क्योंकि आज के समय में सभी लोग बैंक से लेन देन करते हैं | और अक्सर चेक द्वारा ही लेन देन किया जाता है | हो सकता है कि आपने कभी  चेक बाउंस होने की समस्या का सामना किया हो | और यदि आपको Cheque Bounce के बारे में नहीं पता है | तो फिर आपको चेक बाउंस क्या होता है ? और Cheque Bounce होने पर किन समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है ? चेक बाउंस होने पर क्या करना चाहिए ? इसके बारे में जानकारी जरूर प्राप्त कर लेनी चाहिए |

[धारा 138] Cheque Bounce होने पर क्या करें ? चेक बाउंस होने पर क्या सजा मिलती है ? Cheque Bounce Charges

क्योंकि कई बार पूरी जानकारी ना होने से आपको काफी परेशानी का सामना करना पड़ जाता है | आज आप इस आर्टिकल के माध्यम से Cheque Bounce क्या होता है ? Cheque Bounce होने पर क्या करना चाहिए ? इन सभी सवालों का जवाब प्राप्त करेंगे |

Cheque Bounce क्या होता है –

चेक से संबंधित जानकारी प्राप्त करने से पहले हमें यह जानना बेहद आवश्यक है | कि Cheque Bounce क्या होता है ? और कब हमारा चेक बाउंस हो जाता है ? बात करें चेक बाउंस होने की तो जब आप किसी व्यक्ति को चेक काट कर देते हैं | लेकिन आपके अकाउंट में पर्याप्त बैलेंस नहीं होता है | ऐसी स्थिति में आपका Cheque Bounce हो जाता है | जिसके कारण आपको कई तरह की परेशानी और आर्थिक नुकसान का भी सामना करना पड़ता है |

कितने समय के लिए चेक वैध होता है –

वैसे यह बात तो सभी लोग जानते हैं | कि चेक जारी होने की डेट से लेकर अगले 3 महीने तक ही चेक वैध होती है | इस दौरान आप कभी भी अपना चेक अकाउंट में लगा सकते हैं | यदि आप 3 महीने बाद चेक लेकर बैंक जाएंगे | तो बैंक आपका चेक क्लियर नहीं करेगा | क्योंकि वह चेक अमान्य हो जाता है | और उस चेक की कोई वैल्यू नहीं रह जाती है | जिसके कारण आपको खाली हाथ ही बैंक से वापस आना पड़ेगा |

Cheque Bounce Charges In SBI –

चेक जारी करने वाले व्यक्ति के अकाउंट में अपर्याप्त बैलेंस होने पर –

1. Inward cheque return charges –

For SME Segment = ₹632.5/- (₹550+ST)

For Other Segment

Upto ₹1,00,000/- = ₹345/- (₹300+ST)

Above ₹1,00,000/- = ₹460/- (₹400+ST)

2 . Outward cheque return charges –

For All Segment

Upto ₹1,00,000/- = ₹172.5/- (₹150+ST)

Above ₹1,00,000/- = ₹287.5/- (₹250+ST)

3. Technical reasons (No/Mismatch सिग्नेचर , गलत नाम , ओवरराइटिंग अन्य)

For All Segment = ₹172.5/- (₹150+ST)

और अधिक यहाँ क्लीक करके देखें 

Cheque Bounce होने पर क्या करें –

अक्सर हम सभी लोग चेक बाउंस होने के बारे में सुनते रहते हैं | हमारे आसपास कई ऐसी मामले आए दिन होते हैं | जिनमें Cheque Bounce हो जाता है | Cheque Bounce होने पर हमें क्या करना चाहिए | इसके बारे में जानकारी होना बेहद आवश्यक है | जिससे आपका नुकसान होने से बच जायेगा | जैसा कि आप सभी लोग जानते हैं | Cheque Bounce तभी होता है | जब अकाउंट में पर्याप्त बैलेंस नहीं होता है | जब चेक बाउंस होता है | तो बैंक द्वारा ग्राहक को एक रसीद प्रदान की जाती है | जिसमें चेक क्यों बाउंस हुआ है | इसकी पूरी जानकारी लिखी होती है |

ज्यादातर मामलों में Cheque Bounce अकाउंट में बैलेंस ना होने से ही होता है | Cheque Bounce होने की स्थिति में 30 दिन के अंदर देनदार को एक लीगल नोटिस भेजना होता है | इसके लिए किसी वकील की भी मदद ली जा सकती है | इसके बाद भी यदि चेक जारी करने वाला देनदार आपको पैसे नहीं देता है | तो आप नोटिस भेजने के 15 दिन बाद जिले के कोर्ट में किसी वकील की मदद से केस दर्ज करा सकते हैं | जिसके बाद कोर्ट आरोपी व्यक्ति को सजा के साथ जितनी राशि की चेक होगी | उसका दोगुना दंड सुना सकते हैं | इसलिए यदि चेक बाउंस हो जाता है | तो सही समय पर कार्यवाही करने से आपका पैसा डूबने से भी बच जाएगा | और संबंधित आरोपी को दंड भी मिल जाएगा |

Cheque Bounce होने पर क्या कार्रवाई की जा सकते है –

Cheque Bounce होने की स्थिति में बैंक द्वारा ग्राहक को एक रसीद प्रदान की जाती है | जिसमें Cheque Bounce क्यों हुआ है | इसके बारे में पूरी जानकारी दी जाती है | बैंक द्वारा इस रसीद में लिखी तारीख के अंदर 3 महीने के अंदर फिर से चेक जमा करने को कहा जाता है | लेकिन यदि ग्राहक कानूनी तौर पर कार्यवाही करना चाहता है | तो चेक बाउंस होने की रसीद प्राप्त होने के 30 दिनों के भीतर चेक जारी करने वाले व्यक्ति को नोटिस भेजा जाता है | जिस में मुख्य रुप से सभी अहम तथ्य जैसे – चेक डिपाजिट करने की डेट , चेक का अमाउंट और चेक कब बाउंस हुआ यह सभी जानकारी दी जाती है |

यदि लीगल नोटिस भेजने के बाद 1 महीने के अंदर चेक जारी करने वाला व्यक्ति लेनदार को पेमेंट नहीं करता है | तो लेनदार नेगोशिएबल इंस्ट्रूमेंट एक्ट के सेक्शन 138 के अंतर्गत अपराधिक शिकायत दर्ज करा सकता है |

अपराधिक केस दर्ज कराने में सबसे ध्यान देने वाली बात यह है | कि लेनदार को 30 दिन के अंदर ही अपनी शिकायत कोर्ट में दर्ज करानी होती है | यदि 30 दिन के बाद शिकायत दर्ज कराई जाती है | तो आपको देरी का उचित कारण बताना होता है | यदि बताया गया कारण उचित नहीं हुआ , तो कोर्ट आपका केस सुनने से इनकार भी कर सकता है | कोर्ट द्वारा सुनवाई करने पर यदि देनदार दोषी पाया जाता है | तो उसे Cheque Bounce होने के दंड के रूप में चेक की धनराशि का दोहरा जुर्माना और 2 साल की सजा सुनाई जा सकती है |

सिविल केस फाइल करें –

Cheque Bounce होने पर आपराधिक मामला दर्ज करने के साथ-साथ एक अलग से सिविल केस फाइल करना चाहिए | जिससे आप चेक धन राशि के साथ-साथ ब्याज का भी दावा कर सकते हैं | आप सिविल केस उसी शहर में फाइल कर सकते हैं | जहां पर आपन रहते हैं | या जहां पर आपने चेक जमा किया है |

नोट – यदि चेक आपको गिफ्ट या डोनेशन के तौर पर जारी किया गया है | तो आप केस फाइल नहीं कर सकते हैं |

बार बार Cheque Bounce होने पर –

यदि आपका Cheque Bounce होता है | तो यह एक अपराध है | और यदि आप यह बार बार करते हैं | तो आपको जुर्माने के साथ-साथ जेल भी जाना पड़ सकता है | इसके साथ ही बैंक आपको चेक सुविधा से वंचित भी कर सकती है | और आपका बैंक अकाउंट भी बंद कर सकती है | लेकिन रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया द्वारा जारी दिशा निर्देश के अनुसार यदि किसी व्यक्ति का एक करोड़ की कीमत के चेक चार बार बाउंस होता है | तभी बैंक उसके खिलाफ यह कार्रवाई कर सकती है |

धारा 138 क्या है –

यदि जारी किया गया चेक अकाउंट में पर्याप्त बैलेंस ना होने के कारण बाउंस हो जाता है | तो यह एक अपराध की श्रेणी में आता है | जिसके लिए चेक जारी करने वाले व्यक्ति को 2 साल की सजा और चेक अमाउंट की दोगुनी रकम का जुर्माना हो सकता है | लेकिन इसके लिए कुछ शर्तें भी निर्धारित की गई हैं –

  • चेक बाउंस होना अपराध की श्रेणी में तब ही आता है | जब बैंक में 6 महीने या उतने समय के अंदर पेश किया गया हो | जितने समय तक उसकी वैधता है |
  • चेक प्राप्त करने वाले व्यक्ति द्वारा बैंक में चेक बाउंस होने की जानकारी मिलने के 30 दिनों के अंदर चेक जारी करने वाले व्यक्ति को लीगल नोटिस भेजकर बताया जाना चाहिए | कि आपका Cheque Bounce हो गया है | और चेक अमाउंट का पेमेंट किया जाए |
  • यदि चेक जारी करने वाला व्यक्ति लीगल नोटिस प्राप्त करने के 15 दिनों के अंदर चेक अमाउंट का पेमेंट ना करें | तब चेक प्राप्त करने वाला व्यक्ति आगे की कार्रवाई कर सकता है |

तो दोस्तों यह थी चेक बाउंस होने के बारे में आवश्यक जानकारी | यदि आपको Cheque Bounce होने पर क्या करें ? चेक बाउंस होने पर क्या सजा मिलती है ? जानकारी अच्छी लगे तो अपने दोस्तों के साथ जरुर शेयर करें | साथ ही यदि आपका किसी प्रकार का सवाल हो तो निचे कमेंट बॉक्स में कमेन्ट करें || धन्यवाद ||

Spread the love

50 thoughts on “[धारा 138] Cheque Bounce होने पर क्या करें ? चेक बाउंस होने पर क्या सजा मिलती है ? Cheque Bounce Charges”

  1. सर जिस पार्टी ने चेक मे जो राशि डाली गयी है अगर उसका इंकम टैक्स नहीं भरा हो तो आगे क्या होगा

  2. एक व्य्क्ती ने मुजसे 65 लाख का चेक लिया मेरे भाई कि जमानत के तोर पे फिर मेने उसको 25 लाख भी दे दिये उसके बाद उसने 65 लाख का चेक बाउंस करवा के केस कर दिया मेने केस भी लडा हे ओर 25 लाख कि रस्सिद भी पेस कर दि अब किया फेस्ला हो सक्ता हे

  3. सर जैसे कोई ब्यक्ति 2 लाख की चेक दिया है और वो बैंक मे 3 बार बाउन्स हुआ हो तो उसका क्या प्रोसेस है।
    SIR PLEASE HELP US.
    THANK YOU

  4. पर्सनल लोन में defaltor हूँ। बैंक आगे क्या prosses करेगा। मेरी कंडिशन नहि ह किस्त देने की

  5. Agar cheque signature ki wajah se bouncer Hota hai parti ne सिग्नेचर गलत करके दिया और बाउंस हो गया

  6. mene kisi se 6 month pahle interst par 60000 rs liye the but but me last 3-4 month se uski interst amiunt nahi de paya usne mera check bounce kara diya hai or mujhe notice bheja hai mujhe court me aane ke liye bola hai or me uska paisa dena bhi chatha hu but kuch time chaiye mujhe kya karna hoga … me nahi chatha ki court me baat jaye but time nahi hai mere pass please suggest …

  7. Maine ek dost ko 130000 rs cheque se aur 60000 cash jarurat pe diya apna gold loan pe rakh ke jarurT pe diya tha lekin ab wo bahane bana raha hai jabki mera gold bhi chala gaya aur meri beti ko cancer ho gaya maine unko bataya bhi lekin unhone koi paisa nahi diya kya kare mera bhi accident ho rakha hai lekin jab magne jata hu tab wo bahana bana deta hai phone nahi utara hai 18 mahine se upar ho gaya hai unhone muje cheque blank di thi sign karke

    • ydi aapka dost aapke paise vapas nahi kar rha hai. to aapko police ki help leni chahiye. aur aapko blank cheque kyo di thi. kya aapne cheque bharkar bank me jama kiya tha ya nahi.

  8. Abhi cheque nahi jama kiya hai kyoki mai beti ke ilaj ki wajah se 15 mahine se mumbai me tha abhi 1 mahine pahle hi wapsi ata hu au phir 26 ko jana hai kya kare police me uski jan pachan hai local police help nahi karegi cheque me amount nahi bara kai din se unki dukan me ja raha hu lekin paisa nahi de rahe hai bar bar bahane bana deta hai

  9. एकाउंट भी बंद करा दिया है जब मैं मुम्बई में था तो अब क्या रास्ता हो सकता है मैं जब भी मागने जाता हूं हमेसा बहाने बना देर है चेक sign करके दिया हुआ है वो बैंक वालो को भी परेशान कर रहा है मैनेजर भी परेशान है ऐसे में मैं क्या कर सकता हु प्ल्ज़ सीजेशन दे

  10. Paise lene ke bad dene ke liye cheq diya bar bar paise magne par bahane banane ke account hi band kar diya hai lekin mere pas paise ki video recording hai aise me kya ho sakta hai

    • आप पुलिस की सहायता ले सकती हैं . जिससे आपको जल्द से जल्द आपके पैसे वापस मिल सकते हैं

  11. Dear sir ,
    Maine 18 saal ke ldke ko 170000 cash de diye uske badle 170000 ke 2 chack le liye ab wo bol raha hai ki Jo karna hai Kar le mera chack laga de…

  12. Maine August me 1 cheque Jama kiya tha or bo bounce ho gaya hai Maine message or call ke jariye us vyakti ko suchhit kar diya tha par abhi tak unhone meri bat ko najarandaj kar ke rakha hai to aap bataiye ki Mai ab us vyakti ke sath me kya kar sakta hu please eshke bare me mujhe jarur bataye

  13. sir mera chek 2008 m 2 chek gayab ho gye the to mene benk ko suchna de kar reciving le li thi uske 7 saal bad 3 lakh ka amount bhr kar cash kar diya jabki maine apna khata 2011m band kar diya tha plese mujhe sahi jankari pradan karen aapki badi krapa hogi

  14. Sir
    मैं एक कम्पनी में 2008 तक काम करताथा उसके बाद से एक दूसरी कम्पनी में काम करने लगा
    पहली कम्पनी में २०१४ में बैंक अकाउंट npa होगंया और मालिक से पुराने रिलेशन होने की वजह से चेक साइन authority कुछ दिन के लिए बनादिया गया blank चेक साइन करवाकर कम्पनी के निदेशक के पास रहता था उन्होंने उन cheques को suppliers को dediya और बाउन्स होगाया में ना ही कम्पनी का employee ना director ना share holder था बल्कि गुड फ़ेथ में साइन किया था उन cheques पर company ke director साथ में थे जो कम्पनी का सारा काम देखते थे और उन्होंने ही चेकुएस दिये थे sir बताएँ इसमें कम्पनी और निदेशक ज़िम्मेदार hein या good faith par sign करने के लिए
    धन्यवाद sir

    • Vqise vo log jimmedar nahi hai. Aur aap kisi pr kitna vishvash karte hai. Ye aapka personal matter hai. Check aapke sign se jari hua hai isliye sari responsibility aapki hi hai. Baki aap ydi cheque jari karne me un logo ka hastakshep sabit kar sake to alg bat hai.

  15. मेरा एक चेक किसी को दिया हुआ था 9 /12/18 का 3 दिन बैंक बन्द थे। आज अकॉउंट में पेमेंट जमा कर दिया फिर भी चेक बाउंस कर दिया बैंक ने। बैंक पर कोई कार्यवाही कर सकते हैं क्या। या बाउंस हट सकता है किसी तरह से।कोई सुझाव हो तो बताये।

  16. यदि चेक जारी करने वाला व्यक्ति लीगल नोटिस प्राप्त करने के 15 दिनों के अंदर चेक अमाउंट का पेमेंट ना करें | तब चेक प्राप्त करने वाला व्यक्ति आगे की kya kar कार्रवाई सकता है ?

  17. Sir namastey ..mere papa ne 1 aadami se 10 lakh r/s liye the mere papa ne pure pede vapus lota diye or byaj ke tor par 4 lakh bhi de diye .kuch samay baad us admi ke pass jise 10 lakh liye the vo 10 lakh usne mere papa ke plot ke kagjooo ke apne pass rakh kar diye the to mere papa ne saare pede bhi lota diye or byaj ke tor par 4 lakh bhi de diye fir mere papa useee jamin ke kagajj vapus lene gaye tab us Adami ne kaha ki apne byaj ke 1 lekh or bante he tab mere papa ne kaha mere pass abhi nahi he par mere pass vayvstaaa hote hi me aapko return kar dungaaa par abhi mujhe plot ke kagajoooo ki jarooratttt he to us admi ne mere papa se 5-5 lakh ke 2 chek garnti me or 1 kore stamp papar par sign le liye baad me usneee chek bounse ka case daal diya ab bol raha he mere 10 lakh to baki he or bath bhi chahiye .kyki usne chak par jo date likhaviii thi vo 14 lakh de diye uske baad ki .ab vo vyaktiiii pede ke liye blakmail kar raha he or chek bounce ka case bhi kar diya he ab me kya karuuuu please sir help me

  18. नमस्कार sir
    मैंने एक पार्टी को चेक पर साइन करके ब्लेंक चेक डियस था, बाद में उस बैक से खाता बन्द कर नए बैंक से उस खा ते से लेन देन पार्टी को करने लगा बाद में उस से संबंध बिगड़ गए और उसने उस बन्द खाते के चेक को जादा रकम लगा के केस कर दिया है क्या करूँ बताया

  19. Meri papa se ek admi ne dhamka ke 301700 ki 3 check le gayi our bounce kardiya . bounce karne ke badh court me case Kiya. Mager 3 check me 301700 amount ki 1case Kiya jishko court ne kharag Karen di.court me koi probe thik se de nahi pai.abb agla step kya le Sakti he .our me to papa is case sensitive kesi chootkara pa Sakti hain.

Leave a Comment