छत्तीसगढ़ पढ़ई तुंहर दुआर पोर्टल पंजीकरण | CG Padhai Tunhar Dwar Registration

छत्तीसगढ़ पढ़ई तुंहर दुआर पोर्टल पंजीकरण इन हिंदी – हमारे देश में कोरोना वायरस का संक्रमण बढ़ता ही जा रहा है। मार्च के शुरुआती दिनों में यह संक्रमण बढ़ता ही गया। शुरू शुरू में यह एहसास नहीं था कि यह संक्रमण इस हद तक बढ़ेगा। शुरू में लोगों ने भी इस बात को समझने में देर कर दी थी। अब कोरोनावायरस बहुत ही भयावह स्थिति में आकर खड़ा हो गया है। भारत में इस वायरस का स्टेज थ्री चल रहा है जिस वजह से लोगों में परेशानी निरंतर बढ़ती ही जा रही है।

गत महीने 25 मार्च 2020 को सरकार ने 21 दिनों का लॉकडाउन घोषित कर दिया। ऐसे में लोगों का सड़कों में घूमना फिरना, ट्रेन और बस में सफर करना, मॉल जाना, शॉपिंग करना बंद कर दिया गया। लोगों ने भी खुद की जिम्मेदारी समझकर घर से निकलना बंद कर दिया।

भारत में हर राज्य में स्कूल, कॉलेज, ऑफिस बंद कर दिए गए ताकि लोगों में संक्रमण का कम से कम खतरा हो सके। लगातार स्कूल, कॉलेज बंद होने से संक्रमण का असर कुछ कम हुआ है लेकिन इससे बच्चों की पढ़ाई में फर्क पड़ने की भी संभावना है।

छत्तीसगढ़ पढ़ई तुंहर दुआर पोर्टल पंजीकरण | CG Padhai Tunhar Dwar Registration

छत्तीसगढ़ सरकार ने इस तरफ एक महत्वपूर्ण कदम उठाने का फैसला लिया है। स्कूली छात्रों को कम से कम पढ़ाई का नुकसान हो, इसके लिए छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने “पढ़ई तुंहर दुआर पोर्टल” का शुभारंभ किया है। इसका मतलब यही है कि अब पढ़ाई आपके द्वार पर होगी। इस योजना के तहत अब बच्चों को कहीं भी जाने की आवश्यकता नहीं है बल्कि खुद के घर में बैठकर आसानी से ऑनलाइन पढ़ाई की जा सकती है बिना परेशानी के। लॉक डाउन में बच्चों की पढ़ाई पर कोई असर नहीं दिखाई देगा।

छत्तीसगढ़ पढ़ई तुंहर दुआर पोर्टल पंजीकरण | CG Padhai Tunhar Dwar Registration

यह देखा जा रहा है कि लॉक डाउन के कारण स्कूली बच्चों की पढ़ाई प्रभावित हो रही है। इस योजना की खास बात यह है कि इस योजना के अंतर्गत बच्चे लाॅक डाउन में भी घर में बैठकर आसानी से पढ़ाई पर ध्यान केंद्रित कर सकेंगे। यह योजना बच्चों को मुफ्त में उपलब्ध करवाई जाएंगी। सामान्यतः लंबी छुट्टियों के बाद बच्चों का मन पढ़ाई में नहीं लगता है लेकिन इस योजना के तहत बच्चे पढ़ाई में अपना ध्यान परस्पर लगा पाने में समर्थ रहेंगे और घर में पढ़ाई संबंधी जानकारी हासिल कर सकेंगे। इस पोर्टल के माध्यम से लाखों बच्चे घर में बैठकर आसानी से शिक्षा ग्रहण कर सकेंगे।

लाॅक डाउन के बावजूद उपयोगी पढ़ई तुंहर दुआर पोर्टल–

जब पूरे देश में लॉकडाउन लगा हुआ है, ऐसे में बच्चों को घर में रहकर अपने समय का सदुपयोग करना बहुत ही जरूरी हो जाता है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के छत्तीसगढ़ “पढ़ई तुंहर दुआर पोर्टल” का शुभारंभ कर एक अच्छा कदम उठाया है। लॉकडाउन होने के बावजूद बच्चे अपने समय का उपयोग करते हुए ऑनलाइन पढ़ाई में ध्यान केंद्रित कर सकेंगे।

इस तरह की ऑनलाइन इंटरएक्टिव कक्षाओं से शिक्षक और बच्चे अपने-अपने घरों से ही वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से जुड़ेंगे और बच्चों का पढ़ाई में मदद करेंगे। यह पोर्टल अन्य राज्यों के हिंदी भाषी छात्रों के लिए भी फायदेमंद होगा।

सबसे बडा ऑनलाइन एजुकेशन प्लेटफार्म – पढ़ई तुंहर दुआर पोर्टल

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल द्वारा “पढ़ई तुंहर दुआर पोर्टल” का शुरुआत किया गया, जो देश में अब तक का सबसे बड़ा ऑनलाइन एजुकेशन प्लेटफॉर्म है। जिसका फायदा लाखों विद्यार्थियों को मिलने वाला है।इस योजना के अंतर्गत बच्चों को क्लास रूम ,स्टडी मैटेरियल, सुविधाएं उपलब्ध कराई जाएंगी, जो बच्चों के लिए बहुत ही फायदेमंद होगा।

छत्तीसगढ़ सरकार के पढ़ई तुंहर दुआर पोर्टल पर मिलने वाली जरूरी सुविधाएं–

इस पोर्टल पर मिलने वाली सारी सुविधाएं बच्चों के लिए बहुत ही फायदेमंद होंगी –

  • 1) इस पोर्टल में बच्चे किताबों को पीडीएफ फॉर्मेट में पढ़ पाएंगे। अगर छात्र चाहे तो किताबों को भी डाउनलोड किया जा सकता है जिससे वे सही तरीके से अपने शिक्षा को आगे बढ़ा सकें।
  • 2) इस पोर्टल में बच्चों को होमवर्क भी दिया जाएगा। किए गए होमवर्क को बच्चे फोटो खींचकर अपलोड करेंगे।उसके बाद शिक्षक भी उनके होमवर्क को जांच कर सकेंगे।
  • 3) इसमें पढ़ाई करने के लिए कहीं आने जाने की आवश्यकता नहीं होगी।घर बैठे ही बच्चे और शिक्षक वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से पढ़ाई कर सकेंगे।
  • 4) इस पोर्टल में विषय का चुनाव भी आसानी से कर सकते हैं।
  • 5) इस सुविधा का लाभ छत्तीसगढ़ के कक्षा एक से दसवीं तक के विद्यार्थी आसानी से प्राप्त कर सकेंगे।
  • 6) राज्य के किसी भी विद्यार्थी को फीस देने की आवश्यकता नहीं होगी।

विद्यार्थी पढ़ई तुंहर दुआर पोर्टल पंजीकरण कैसे करें? How to register on Padhai Tunhar Dwar Portal?

पढ़ई तुंहर दुआर पोर्टल में अध्ययन के इच्छुक विद्यार्थी को रजिस्ट्रेशन करना होगा। इसके बाद ही इस पोर्टल का फायदा उठाया जा सकेगा। पंजीकरण करने के लिए नीचे बताये जा रहे आसान से स्टेप्स को फॉलो करें –

  • 1) सर्वप्रथम विद्यार्थी को ऑफिशियल वेबसाइट http://cgschool.in/Default.aspx पर जाना होगा। जैसे ही ऑफिशियल वेबसाइट पर आएंगे, तो होमपेज आसानी से खुल जाएगा।

छत्तीसगढ़ पढ़ई तुंहर दुआर पोर्टल पंजीकरण | CG Padhai Tunhar Dwar Registration

  • 2) उसके बाद विद्यार्थी पंजीयन का विकल्प आएगा। इस पर क्लिक करना है।

छत्तीसगढ़ पढ़ई तुंहर दुआर पोर्टल पंजीकरण | CG Padhai Tunhar Dwar Registration

  • 3) इसके बाद सभी जानकारी नाम, पता, ईमेल, फोन नंबर ,जिला आदि भरना होगा और पंजीयन का बटन दबाना होगा।
  • 4) इस प्रकार से किसी भी विद्यार्थी का पंजीयन पूर्ण हो जाएगा।

इस पंजीकरण के बाद विद्यार्थी आसानी से इस पोर्टल का फायदा उठाकर पढाई कर सकेंगे।

शिक्षक पढ़ई तुंहर दुआर पोर्टल पंजीकरण कैसे करें?

इस पोर्टल पर शिक्षकों को भी पंजीयन कराना अनिवार्य होगा। उसके बाद शिक्षा किसी भी विषय को पढ़ा सकेंगे।

  • 1) शिक्षक पंजीयन के लिए ऑफिशियल वेबसाइट http://cgschool.in/Default.aspx पर जाना होगा। वहां पर शिक्षक पंजीयन का विकल्प दिखाई देगा। जैसा की आपको नीचे इमेज में दिखाया गया है।

छत्तीसगढ़ पढ़ई तुंहर दुआर पोर्टल पंजीकरण | CG Padhai Tunhar Dwar Registration

  • 2) इस पेज पर जाने पर सारी जानकारी आसानी से भरी जा सकती है। जानकारी भरने के बाद पंजीयन का बटन दबाकर क्लिक किया जा सकता है।

छत्तीसगढ़ पढ़ई तुंहर दुआर पोर्टल पंजीकरण | CG Padhai Tunhar Dwar Registration

 

  • 3) उसके बाद शिक्षकों का पंजीयन भी आसानी से हो जाएगा।

बिना पंजीयन किए शिक्षक और विद्यार्थी इस योजना का लाभ नहीं उठा सकेंगे।गरीब बच्चों को भी सुविधा सही तरीके से मिल पाए इसलिए छत्तीसगढ़ सरकार ने मुफ्त में ही ऑनलाइन शिक्षा देने का प्रावधान किया है। इस पोर्टल का एकमात्र उद्देश्य राज्य के प्रत्येक बच्चे तक शिक्षा का विस्तार है। किसी भी कारण से बच्चे की शिक्षा रुकना सही नहीं होगा।

पढ़ई तुंहर दुआर पोर्टल से लाभ – Benefits of Padhai Tunhar Dwar –

छत्तीसगढ़ “पढ़ई तुंहर दुआर पोर्टल” से बच्चों को ही ध्यान में रखकर बनाया गया है। ऐसा देखा जाता है कि बच्चों को लाॅकडाउन की स्थिति में घर पर बोरियत का एहसास होता है। ऐसे में बच्चे को इस पोर्टल से फायदा हो सकता है। पढ़ाई में ध्यान रहने की वजह से उनका मानसिक विकास सही तरीके से हो पाएगा। साथ ही साथ समय का सदुपयोग भी हो जाएगा। घर का माहौल भी पढ़ने के लिए उचित रहेगा और वह बड़ी आसानी से शिक्षा का महत्व समझ सके।

दूसरे राज्यों को सीख–

छत्तीसगढ़ का यह पोर्टल शिक्षा जगत में नया कदम है। ऐसे विकट परिस्थिति में यह पोर्टल बहुत ही कारगर सिद्ध होगा।छत्तीसगढ़ की तरह ही दूसरे राज्य भी इस प्रकार से शिक्षा जगत में नया कदम उठा सकते हैं। दूसरे राज्यों के लाखों बच्चे ऐसे सुविधा से आसानी से फायदा उठा सकेंगे। इस प्रकार का पोर्टल सभी बच्चों को एक नई दिशा की ओर ले जाकर ज्ञान का विकास कर पाने में सक्षम होगा। भारत देश में प्रत्येक बच्चे को शिक्षा का अधिकार है और इस पोर्टल के माध्यम से बच्चों को अधिकार से वंचित होने से बचाया जा सकता है।

एक ताजा जानकारी के अनुसार सरकारी स्कूलों में ऑनलाइन कक्षाओं के लिए 9000 विद्यार्थियों ने रजिस्ट्रेशन करवा लिया है ,जो एक अच्छा कदम जान पड़ता है।अब तक ऑनलाइन कक्षाएं पहली से दसवीं कक्षा तक ही है आगे चलकर इन कक्षाओं को 12वीं तक करने पर भी विचार किया जा रहा है, जो कि बहुत ही सराहनीय कदम है।

CG Padhai Tunhar Dwar Registration In Hindi

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के इस पहल पर लोगों ने खुशी जाहिर की और अपने बच्चे का रजिस्ट्रेशन करवाने की इच्छा भी जताई है।इस कदम के लिए मुख्यमंत्री की भी तारीफ की जा रही है। अब छत्तीसगढ़ का नाम शिक्षा जगत में किसी से भी छिपा नहीं है।इस पोर्टल की तरह शिक्षा जगत में अन्य कदम उठाने के फायदे हमेशा ही मिलते रहेंगे।

इस पोर्टल में अपने बच्चे का पंजीयन cgschool.in की ऑफिशियल साइट पर जाकर किया जा सकेगा। इस पोर्टल में वह छात्र भी पंजीयन कर सकता है, जो राज्य से बाहर का हो और हिंदी भाषा में शिक्षा प्राप्त करने का इच्छुक हो।

इस के बारे में जानकारी खुद मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने दी और वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए उन्होंने छात्राओं से बात करना भी उचित समझा।इस दौरान उन्होंने इन ऑनलाइन शिक्षा के महत्व को भली-भांति समझाया। मुख्यमंत्री के हिसाब से ऐसी शिक्षा से भी बच्चे अपना सर्वांगीण विकास करने में सक्षम होंगे।

आसमां छूता छत्तीसगढ़ शिक्षा व्यवस्था –

छत्तीसगढ़ राज्य का निर्माण 1 नवंबर 2000 को हुआ। छत्तीसगढ़ मध्य प्रदेश का हिस्सा था। विभाजन के बाद छत्तीसगढ़ की शिक्षा प्रणाली में कुछ कमी नजर आने लगी लेकिन धीरे-धीरे शिक्षा का स्तर बेहतर होता चला गया और अब छत्तीसगढ़ शिक्षा जगत के नए आयाम हासिल करने में अग्रणी होता जा रहा है। बीते कुछ वर्षों से छत्तीसगढ़ का सर्वांगीण विकास देखा जा सकता है इसमें मुख्य स्थान शिक्षा जगत का भी रहा है।

जब हमारा देश गंभीर वैश्विक समस्या कोरोना वायरस से जूझ रहा है। प्रत्येक व्यक्ति समस्या से परेशान और डरा हुआ है। ऐसे में छत्तीसगढ़ के “पढ़ई तुंहर दुआर पोर्टल “योजना यहां विद्यार्थी को शिक्षा का अवसर है।जिसके माध्यम से बच्चे बिना किसी विघ्न के पढ़ाई को जारी रखते हुए आगे बढ़ सकते हैं और समय का सदुपयोग भी कर सकते हैं।

कहा जाता है बच्चे देश का भविष्य है। ऐसे में यदि बच्चों को आधुनिक सुविधाएं दे दी जाएं ,तो उनके कदम हमेशा उज्जवल भविष्य की ओर अग्रसर रहेंगे। छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा पोर्टल के माध्यम से बच्चों को एक अनुपम उपहार दिया गया है, जो बच्चों को लाॅकडाउन की स्थिति में उबरने में मदद करेगी।

दोस्तों, इस लेख के माध्यम से छत्तीसगढ़ पढ़ई तुंहर दुआर पोर्टल (पंजीकरण) PADHAI TUNHAR DWAR REGISTRATION | CG ONLINE STUDY @CGSCHOOL.IN से संबंधित सम्पूर्ण जानकारी दी गयी है। अगर आप इस लेख से जुडी किसी अन्य जानकारी या हमसे सवाल पूछना चाहते हैं। तो आप हमे नीचे कमेंट लिखकर पूछ सकते हैं । हम जल्द से जल्द आप के सभी सवालों के उचित जवान देने की कोशिश करेंगे। साथ ही अगर आप को यह जानकारी पसंद आती है। तो आप इसे अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ शेयर भी कर सकते हैं || धन्यवाद ||

Spread the love

Leave a Comment