Capt Amarinder Singh Contact Number, Mobile Number, WhatsApp Number, Address | कैपटन अमरिंदर सिंह जी की जीवनी

पंजाब देश का ऐसा राज्य है जो कृषि प्रधान प्रदेश होने के बावजूद भी आर्थिक रूप से मजबूत , विकसित और समृद्ध प्रदेश है | पंजाब का अपना एक अलग इतिहास है | इसका एक भाग भारत में और दूसरा भाग पाकिस्तान में है | कृषि के क्षेत्र में यहाँ सबसे अधिक गेहूं का उत्पादन होता है | यहाँ भारत के कुल गेहूं उत्पादन का 60 % होता है | साथ ही चावल का 40 % होता है | कृषि पर आधारित होने के बावजूद भी यहाँ देश के कोने कोने से लोग रोज़गार की तलाश में आते हैं | और उन्हें यहाँ से रोजगार प्राप्त भी होता है | ऐसे खुशहाल और सुविधा सम्पन्न प्रदेश के मुख्यमंत्री है Capt Amarinder Singh | जिन्होंने पंजाब के विकाश में अपना अहम योगदान दिया है |

Capt Amarinder Singh Contact Number, Mobile Number, WhatsApp Number, Address | कैपटन अमरिंदर सिंह जी की जीवनी

मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह जी से प्रदेश का हर एक नागरिक मुलाकात करना चाहता है | लेकिन एक मुख्यमंत्री को हर एक व्यक्ति से मिल पाना काफी मुश्किल होता है | लेकिन कई बार कुछ ऐसे काम आ जाते हैं की हमें मुख्य मंत्री तक अपनी बात पहुचाना बहुत जरुरी हो जाता है | इसलिए आज हम आपको इस आर्टिकल के माध्यम से Capt Amarinder Singh Contact Number, Mobile Number, WhatsApp Number, Address से जुडी जानकारी प्रदान करेंगें | जिसका उपयोग करके आप मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह जी से सम्पर्क कर सकतें हैं |

कैपटन अमरिंदर सिंह जी का परिचय –

पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह जी पंजाब विधान सभा के सदस्य है | इनका जन्म 11 मार्च 1942 को पटियाला में हुआ था | इनके पिता जी का नाम यादविंदर सिंह है | और माता का नाम मोहिंदर कोर है | इनकी पत्नी का नाम प्रणीत कोर है | , ये भी राजनीतिज्ञ है | Capt Amarinder Singh जी राजनीती में आने से पूर्व भारतीय सेना में थे ,संन 1963 में वे भारतीय सेना में सम्मलित हुए थे और 1965 में अमरिंदर सिंह जी ने इस्तीफा दे दिया था | इसके बाद जब पाकिस्तान से युद्ध छिड़ने की सम्भावना पैदा हुई तो अमरिंदर जी फिर से 1966 में सेना में शामिल हो गए और जब युद्ध समाप्त  हो गया तब अमरिंदर जी ने फिर से इस्तीफा दे दिया था |

कैपटन अमरिंदर सिंह जी का परिवार –

अमरिंदर सिंह जी की पत्नी लोक सभा सांसद रह चुकी है | और साल 2009 से 2014 के बिच में भारत सरकार मिनिस्ट्री ऑफ़ एक्सटर्नल अफेयर्स  में भी शामिल होकर काम कर चुकी है |इनकी बहन की शादी फौरन में रह चुके नटवर सिंघ जो की फ़ौरन में मिनिस्टर भी रह चुके है | ,उनसे  हुई है | इनकी पत्नी के बहन के पटी  मतलब की अमरिंदर जी के बहनोई सिमरनजीत मन एक आईपीएस अफसर है | Capt Amarinder Singh जी के दो बच्चे है | एक बेटी जय इन्दर सिंह और बेटा  रनिंदर सिंह है |

Capt Amarinder Singh जी की शिक्षा –

अपनी स्कूल की पढ़ाई पूरी करने के बाद अमरिंदर जी ने आगे की पढ़ाई देहरादून के दून कॉलेज से करनी चाही | इसिलए ये देहरादून चले गए | और आगे की पढ़ाई वह से की इसके बाद इन्होने इंडियन मिलिट्री स्कूल और नेशनल डिफेन्स अकादमी ज्वाइन की सन 1963 में Capt Amarinder Singh ने नेशनल डिफेंस अकादमी और इंडियन मिलिट्री अकादमी से ग्रेजुएशन की और भारतीय सेना का का हिस्सा बन गए | और सिख रेजिमेंट में कैप्टन बने और भारत पाक युद्ध में योगदान दिया |

कैपटन अमरिंदर सिंह जी सामाजिक जीवन –

सन 1980 में अमरिंदर सिघ जी ने  कांग्रेस प्रत्याशी रूप में  चुनाव लड़ा और जित दर्ज की 1984 में अमरिंदर जी ने कांग्रेस से भी इस्तीफा दे दिया था | और इसके बाद अकाली दल में शामिल हो गए  अकाली दल के प्रत्याशी के रूप में राज्य सभा का चुनाव जितने के बाद अमरिंदर सिंह जी राज्य के कृषि और वन मंत्री रहे | इसके बाद Capt Amarinder Singh ने खुद एक दल की स्था |पना की जिसका नाम शिरोमणि अकाली दल रखा बाद में इस दल ने कांग्रेस का समर्थन किया | और अमरिंदर सिंह जी  पंजाब के कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष रहे | और सन 2002 से   2007 तक पंजाब के मुख्यमंत्री रहे सन 1963 में भारतीय सेना में शामिल किया गया | और दूसरी बटालियन सिख रेजिमेंट में तैनात किया गया |

इसी रेजिमेंट में अमरिंदर सिंह जी के पिता जी और दादा जी ने अपनी सेवाएं दी थी | अमरिंदर भारत तिब्बत सिमा पर दो वर्ष तक तैनात रहे  और पश्चिमी कमान के जेसीओ  इन सी लेफ्टिनेंट जनरल हरबक्श सिंह जी का एड डी कैंप नियुक्त किया गया था | अमरिंदर सिंह जी के पिता जी को जब इटली का राजदूत नियुक्त किया गया | तब उन्होंने सेना से इस्तीफा दे दिया क्युकी उनके घर पर उनकी आवश्यकता थी लेकिन जब पाकिस्तान के साथ भारत का युद्ध हुआ तब उन्होंने तत्काल सेना में फिर से शामिल होने का निर्णय लिया और शामिल हो गए | और युद्ध के अभियानों में जी जान से हिस्सा लिया सेना में उनका सफर इतना ही था |

कैपटन अमरिंदर सिंह जी का राजनितिक जीवन –

सन 1980 में अमरिंदर सिंह जी को सांसद चुना गया तब तब इनके  राजनितिक करियर की शुरुआत हुईलेकिन उन्होंने वर्ष 1984 में  ओप्रशन ब्लू स्टार के समय  सेना के स्वर्ण मंदिर में घुसने के विरोध में कांग्रेस और लोकसभा दोनों से इस्तीफा दे दिया था | 5 मई 1986 को स्वर्णमंदिर में अर्धसैन्य बलो प्रवेश के खिलाफ होने की वजह से केबिनेट से भी इस्तीफा दे दिया था | जिस अकाली दल की स्थापना उन्होंने की कुछ समय बाद यह अकाली दल कांग्रेस में शामिल हो गया अमरिंदर ने 1998 में पटियाला से कांग्रेस की तरफ से संसदीय चुनाव लड़ा लेकिन इस चुनाव में Capt Amarinder Singh को सफलता नहीं मिली और 1999  से 2002 तक कांग्रेस पंजाब इकाई के प्रमुख के रूप में उन्होंने अपनी सेवा दी |

Capt Amarinder Singh जी लेखक के रूप में –

अमरिंदर सिंह जी को लिखने का भी शोक है | राजनीती के साथ साथ अमरिंदर जी लेखन कार्य भी करते है | लिखते समय वे अनुभवों को लिखते है | अमरिंदर जी ने सीखो के इतिहास के बारे में बहुत कुछ लिखा है | Capt Amarinder Singh ने कई किताबे लिखी है | जिसमें ए रिज टू फार, लेस्ट वी फॉरगेट, द लास्ट सनसेट: राइज एंड फाल ऑफ़ लाहौर दरबार, द सिख्स इन ब्रिटेन: 150 इयर्स ऑफ़ फोटोग्राफ आदि प्रमुख है | इसके अलावा तात्कालिक समय में ‘ऑनर एंड फिदिलिटी: महान युद्ध सन 1914 – 1918 में भारत का सैन्य योगदान’ 6 दिसम्बर 2016 को चंडीगढ़ में लोकार्पित हुआ |

कैपटन अमरिंदर सिंह जी के बारे में अन्य जानकारी –

क्या आप सभी जानते है | की अमरिंदर जी को राजनीती में कोण लाया था | अमरिंदर जी की बढ़ती प्रशंशा को देख राजीव गाँधी इन्हे कांग्रेस के लिए सिख लीडर के तोर पर चुनाव लड़ने के लिए लेकर आये थे | इन्होने कई बार कई पदों से इस्तीफा दिया क्युकी अमरिंदर जी एक नेक व्यक्ति है | और वो हमेशा अपने दिल की सुनते है | अपने परिवार का एकेले होने की वजह से इन्होने सेना से भी इस्तीफा दिया लेकिन जब भारत पाक युद्ध हुआ तब सभी को पता था | की Capt Amarinder Singh इस्तीफा दे चुके है | लेकिन फिर भी फौज ने उन्हें बुलाया और अमरिंदर जी जंग के दौरान फिर से सेना में गए लेकिन उन्होंने मैदान में जंग लड़ने की जगह एडमिनिस्ट्रेटिव कार्य संभालना सही समझा |

अमरिंदर जी पंजाब की एक प्रभावशाली हस्ती है | ये भारत की सबसे पुरानी राजनितिक पार्टी  इंडियन नेशनल कांग्रेस के अध्य्क्ष है | इस बार अमरिंदर जी ने पंजाब के चैबीसवें मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ग्रहण की थी Capt Amarinder Singh ने  इस साल होने वाले पंजाब विधानसभा चुनाव में पटियाला सीट से चुनाव जीता और पंजाब  की रजनीति में अमरिंदर जी ने अपना इतिहास बना दिया. क्युकी इनकी पार्टी 117 विधान सभा सीटों में से कुल 77 सीटों से बहुमत वोट से जित हासिल की है |

Capt Amarinder Singh Contact Number, Mobile Number, WhatsApp Number, Address –

यदि किसी कारणवश आप कैपटन अमरिंदर सिंह जी से सम्पर्क करना चाहतें हैं , तो आप नीचे दी गई सम्पर्क डिटेल्स का उपयोग करके सम्पर्क कर सकतें हैं  –

कैप्टन अमरिंदर सिंह कॉन्टैक्ट नंबर –

ऑफिस नंबर- 0172-2740325/2740769
रेजिडेंट नंबर – 0172-27413220
मोबाइल नंबर – 9871200042
फैक्स नंबर – 0172-2743463

कैप्टन अमरिंदर सिंह ईमेल –

ईमेल ऐड्रेस – cmo@punjab.gov.in

hargharcaptain@gmail.com

कैप्टन अमरिंदर सिंह सोशल अकाउंट –

Check facebook – https://www.facebook.com/capt.amarinder

Check Twitter – https://twitter.com/capt-amarinder

कैप्टन अमरिंदर सिंह ऐड्रेस –

पर्सनल एड्रेस – H.no 1669, न्यू मोती बाग कॉलोनी

पटियाला

ऑफिस ऐड्रेस – पंजाब सीएम ऑफिस रूम नंबर 25,

5th फ्लोर civil secretariat, chandigarh,

india pincode – 160001

दोस्तों आज हमने आपको पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर जी के जीवन के बारे में बताया अमरिंदर जी का जीवन संगर्ष से कम नहीं था | इन्होंने कई जगह अपने योगदान दिए पंजाब में भारतीय कांग्रेस की छाप ही अमरिंदर सिंह जी के कारण आयी है | अगर आपको ये आर्टिकल पसंद आया तो कमेंट करे और हमे बताये आपको आर्टिकल केसा लगा |

Spread the love

1 thought on “Capt Amarinder Singh Contact Number, Mobile Number, WhatsApp Number, Address | कैपटन अमरिंदर सिंह जी की जीवनी”

  1. Namaste sar main katla se bol rahi hun village katla se district gurdaspur tehsil pathankot mere gaon mein light nahin hoti hai raat se lekar subah Tak bich mein se light Kat Di jayegi jaati hai pohe se post se mujhe nahin batao kaun sa gaon hai but instead I am not main yahan ki rahane wali nahin 12 sal se I hun meri shaadi Hui hai is gaon ka jod ghatana aaj bhi wahi hai ki yahan light nahin hoti agar aap yahan ke MLA aur rashtrapati aur hamare aankhen to yah kya ho raha hai aapke Punjab mein aur aadhe aapki aadhe aap ki laparvahi se Mar rahe hain

    Reply

Leave a Comment