बिजनेस टर्नओवर क्या होता है? इसकी गणना कैसे करें? (What is business turnover? How it is calculated?)

|| बिजनेस टर्नओवर क्या होता है? इसकी गणना कैसे करें? What is business turnover? How it is calculated?, टर्नओवर मीनिंग इन हिंदी, टर्नओवर मीनिंग इन एकाउंटिंग, टर्नओवर कैसे निकालते हैं?, प्लीज टर्न ओवर का मतलब क्या होता है?, टर्नओवर को हिंदी में क्या कहते हैं? ||

यदि आप काॅमर्स अथवा अर्थशास्त्र के छा़त्र हैं तो आपने बिजनेस टर्नओवर (business turnover) शब्द जरूर सुना होगा। जैसे कि कंपनी का फलां साल का टर्नओवर इतने लाख अथवा करोड़ का रहा आदि। बहुत से लोगों को लगता है कि यह किसी बिजनेस से होने वाला लाभ है।

क्या आप जानते हैं कि बिजनेस टर्नओवर क्या होता है? (what is business turnover?) इसकी गणना कैसी की जाती है? (How it is calculated?) यह बिजनेस में किस चीज का इंडिकेटर (indicator) होता है?

यदि नहीं तो आज आपको आपके इन सारे सवालों के जवाब मिलने वाले हैं। आज इस पोस्ट (post) में हम आपको बिजनेस टर्नओवर के संबंध में विस्तार से बताएंगे। आशा करते हैं कि यह पोस्ट आपको पसंद आएगी-

टर्नओवर का क्या अर्थ है? (What is the meaning of turnover?)

यदि टर्नओवर के अर्थ (meaning of turnover) की बात करें तो यह अलग अलग मामलों में अलग अलग है। नौकरी छोड़ना, कुल बिक्री, खरीद- बिक्री दर, उलटना आदि यह सभी टर्नओवर के ही अर्थ हैं।

बिजनेस टर्नओवर क्या होता है? इसकी गणना कैसे करें? (What is business turnover? How it is calculated?)

टर्नओवर के कितने प्रकार हैं? (Turnover are of how many types?)

उम्मीद करते हैं कि अब आपको टर्नओवर का अर्थ स्पष्ट हो गया होगा। अब हम आपको बताते हैं कि टर्नओवर के कितने प्रकार हैं-

एंप्लाई/लेबर टर्नओवर (employee/labour turnover)-

यह टर्म एचआर मैनेजमेंट में इस्तेमाल की जाती है। एंप्लाई टर्नओवर की बात करें तो इस मामले में टर्नओवर का अर्थ होता है कि एक निश्चित अवधि में कितने कर्मचारियों ने काम छोड़ा और कितने कर्मचारियों को उनके स्थान पर रखा गया। यह कर्मचारी टर्नओवर दर (employee/labour turnover rate) भी कहलाती है।

शेयर टर्नओवर (share turnover)-

शेयर टर्नओवर टर्म शेयर मार्केट में इस्तेमाल की जाती है। वहां इसका इस्तेमाल किसी शेयर की कीमत एवं उसकी मात्रा के लिए किया जाता है। जैसे किसी निश्चित अवधि में कितने शेयरों को किस कीमत पर ट्रेड किया गया। यह शेयर टर्नओवर कहलाता है।

बिजनेस टर्नओवर (business turnover)-

इस टर्म को बिजनेस के मामले में यूज किया जाता है। कंपनी साल भर में कितना कारोबार करती है, वही उसका टर्नओवर कहलाता है। अब इसे हम आगे विस्तार से जानेंगे।

बिजनेस टर्नओवर क्या होता है? (What is business turnover?)

अधिकांशतः टर्नओवर शब्द का प्रयोग बिजनेस टर्नओवर के मामले में देखने को मिलता है। अब इसका अर्थ जान लेते हैं। साधारण लफ्जों में कहें तो किसी बिजनेस में किसी निश्चित अवधि में वस्तुओं/सेवाओं की बिक्री द्वारा अर्जित कुल पूंजी अथवा आय उसका टर्नओवर कहलाती है। इसे ऐसे भी समझ सकते हैं-

मान लीजिए रवि ने एक साल में 20 रूपये प्रति कप की दर से 5000 कप बेचे हैं तो उसका सालाना बिजनेस टर्नओवर (business turnover) 1 लाख रूपये होगा।

इसमें उत्पाद पर दी गई डिस्काउंट एवं वैट (discount/VAT) आदि को शामिल किया जाता। इसे सकल राजस्व (gross revenue) अथवा कुल कमाई (total income) की संज्ञा भी दी जाती है।

बिजनेस टर्नओवर का क्या महत्व है? (What is the importance of business turnover?)

बिजनेस टर्नओवर (business turnover) का महत्व क्या है, इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि इसे किसी व्यवसाय के प्रदर्शन का एक मानक माना जाता है। बिजनेसमैन इसी से पता लगाता है कि बिजनेस कैसा चल रहा है। उसका बिजनेस शुरू करने का जो लक्ष्य (target) था, वह वहां तक पहुंच पाया है या नहीं।

यदि वह ठीक नहीं चलता तो उसके लिए उपाय करता है। योजनाएं बनाता है। साधारण शब्दों में कहें कि यदि बिजनेस टर्नओवर बेहतर है तो इसे कामयाब बिजनेस माना जाता है, इसके विपरीत बिजनेस टर्नओवर कम होने की स्थिति को बिजनेस के लिए ठीक नहीं माना जाता।

इससे बिजनेस की लागत एवं कार्यशील पूंजी की आवश्यकता बढ़ जाती है, इस वजह से लाभ कम हो जाता है। इसके उपाय के लिए बिजनेसमैन बिजनेस की बिक्री लागत कम करने समेत कई उपाय करता है।

बिजनेस टर्नओवर के खास खास बिंदु क्या हैं? (What are the main features of business turnover?)

आइए, अब एक नजर बिजनेस टर्नओवर के खास खास बिंदुओं पर डाल लेते हैं, जो कि इस प्रकार से हैं-

  • -बिजनेस की कुल कमाई उसका बिजनेस टर्नओवर कहलाती है।
  • -बिजनेस टर्नओवर व्यवसाय के प्रदर्शन का मापक अर्थात पर्फार्मेंस इंडिकेटर (performance indicator) है।
  • -यदि आपने अभी बिजनेस शुरू किया है तो यह आपके निवेश (investment) को सुरक्षित रखने में मदद करता है।
  • -निवेश के लिए व्यवसाय के सही स्तर का आंकलन करने में मददगार होता है।
  • -प्रोडक्ट की बिक्री (sales of product) का सही ट्रैक रखने में मददगार।
  • -किसी भी बिजनेस का टर्नओवर निर्धारित नहीं होता। वह साल दर साल कंपनी के उत्पाद एवं उसकी मार्केट में मांग एवं आपूर्ति (demand and supply) पर निर्भर करता है।
  • -यदि किसी कंपनी का टर्नओवर बहुत अच्छा है लेकिन उसके खर्च टर्नओवर से अधिक हो जाते हैं तो कंपनी घाटे (loss) में चली जाती है।
  • -बहुत से लोग कंपनी के शेयरों में निवेश उसका अच्छा टर्नओवर देखकर करते हैं। हालांकि, यही उनके निवेश का इकलौता आधार नहीं होता।

बिजनेस टर्नओवर की गणना कैसे करें? (How to calculate business turnover?)

अब बात आती है बिजनेस टर्नओवर (business turnover) की गणना यानी कैलकुलेशन (calculation) की। अब समझ लेते हैं कि यह कैलकुलेशन कैसे की जा सकती है? इसका सबसे सरल फाॅर्मूला है-

बिजनेस टर्नओवर= बिक्री किए गए उत्पादों की कुल संख्या×उत्पादों की कीमत।
(Business turnover=Total sales×rate of product quantity)

बिजनेस टर्नओवर लाभ से किस प्रकार अलग है? (How business turnover is different from profit?)

बहुत से लोग बिजनेस टर्नओवर (business turnover) एवं लाभ (profit) को एक ही कैटेगरी (category) में रखते हैं, लेकिन यह दोनों अलग अलग टर्म्स (terms) हैं। आइए, आपको बताते हैं बिजनेस टर्नओवर अलग अलग कैसे हैं।

  • बिजनेस टर्नओवर (business turnover) किसी भी बिजनेस का सकल राजस्व (gross revenue) यानी उसकी कुल कमाई होती है, वहीं लाभ बिजनेस की कुल कमाई से उसके कुल खर्चों को घटाकर निकलने वाली आय होती है।
  • किसी भी बिजनेस स्टेटमेंट (business statement) का शुरूआती प्वाइंट बिजनेस टर्नओवर जबकि उसका आखिरी प्वाइंट प्राफिट होता है।

बिजनेस एवं टर्नओवर के अंतर को आप इस एक उदाहरण से भी समझ सकते हैं-

मान लीजिए राहुल ने एक ट्यूब लाइट के 500 पीस सोहन से 15 रूपये प्रति लाइट की दर से खरीदे एवं मोहन को 30 रूपये प्रति पीस की दर से बेचे। ऐसे में राहुल का बिजनेस टर्नओवर (business turnover) 15,000 रूपये हुआ। वहीं, उसका प्राॅफिट (profit) यानी लाभ प्रति पीस 30-15 यानी 15 रूपये एवं कुल प्राफिट 500×15= 7500 रूपये हुआ।

बिजनेस टर्नओवर का कितने प्रतिशत लाभ होना चाहिए? (Business turnover’s how much percentage should be profit?)

यदि किसी बिजनेस का टर्नओवर अच्छा है तो उसके कितने प्रतिशत को लाभ माना जाना चाहिए? विशेषज्ञ मानते हैं कि एक सामान्य नियम (general rule) के रूप में बिजनेस टर्नओवर के 20 प्रतिशत शुद्ध लाभ मार्जिन (net profit margin) को बेहतर माना जाता है। यहां 10 फीसदी शुद्ध लाभ मार्जिन को औसत एवं 5 प्रतिशत शुद्ध लाभ मार्जिन को निम्न माना जाता है।

व्यापारी अपने बिजनेस की की शुद्ध आय (net income) बढ़ाने को प्रयत्नशील रहते हैं। वे इसीलिए बिजनेस टर्नओवर को परफार्मेंस इंडिकेटर (performance indicator) के रूप में इस्तेमाल करते हुए जिस जगह उन्हें बेहतर प्लानिंग (planning) की आवश्यकता होती है, करते हैं। जैसे वे अपनी बिक्री लागत घटाते हैं या माल कम कीमत पर खरीदने की कोशिश करते हैं आदि।

किसी कंपनी का टर्नओवर देखकर शेयर बाजार में निवेश करते हैं लोग

बहुत से लोग ऐसे होते हैं, जो शेयर बाजार में निवेश करते हैं। इसके लिए वह किसी खास कंपनी के टर्नओवर को भी आधार बनाते हैं। यद्यपि यह उनके निवेश का एकमात्र पैमाना नहीं होता।

इसके बावजूद यह उनके निवेश निर्णय (investment decision) में एक अहम भूमिका अवश्य अदा करता है। यह तो आप जानते ही होंगे कि ऐसी कंपनियों की शेयर बाजार में लिस्टिंग (listing) भी बेहतर होती है।

दरअसल, अच्छे टर्नओवर वाली कंपनी के शेयर खरीदने के पीछे निवेशक का मकसद उसके जरिए अच्छी आय अर्जित करना ही होता है।

बिजनेस टर्नओवर से क्या आशय है?

किसी व्यवसाय में किसी निश्चित अवधि में किसी वस्तु अथवा सेवा की बिक्री के फलस्वरूप जो कुल आय अर्जित होती है, वह बिजनेस टर्नओवर कहलाती है।

बिजनेस टर्नओवर को और किन नामों से पुकारा जाता है?

बिजनेस टर्नओवर को सकल राजस्व (gross revenue) अथवा कुल कमाई के नामों से भी पुकारा जाता है।

बिजनेस टर्नओवर को एक उदाहरण से स्पष्ट कीजिए?

मान लीजिए ‘अ’ का कंटेनर का कार्य है। उन्होंने एक वित्तीय वर्ष के भीतर 5000 कंटेनर 50 रूपये प्रति कंटेनर की दर से बेचे हैं तो उनका बिजनेस टर्नओवर 2,50,000 होगा।

बिजनेस टर्नओवर एवं लाभ में क्या अंतर है?

बिजनेस टर्नओवर किसी वस्तु अथवा सेवा की बिक्री से अर्जित होने वाला सकल राजस्व अथवा कुल कमाई होती है, वहीं लाभ इस कमाई में से बिक्री लागत (cost of sales) एवं परिचालन लागत (operational cost) निकालने के बाद रहने वाली आय।

बिजनेस टर्नओवर से बिजनेसमैन को क्या पता चलता है?

इससे बिजनेसमैन को बिजनेस की हेल्थ का पता चलता है। वह समझ पाता है कि बिजनेस का प्रदर्शन कैसा है, वह लक्ष्यों को पूरा कर पा रहा है अथवा नहीं। प्रदर्शन यदि खराब है तो उसे सही करने के लिए योजना बनाने में मदद करता है।

बिजनेस टर्नओवर कितनी अवधि का निकाला जाता है?

इसे व्यवसायी अपने व्यवसाय की प्रकृति के आधार पर त्रैमासिक, छमाही अथवा सालाना निकाल सकता है।

शेयर बाजार में निवेशक किस आधार पर निवेश करता है?

किसी कंपनी का बिजनेस टर्नओवर भी उसके शेयरों में निवेश का एक बेहद मजबूत आधार प्रदान करता है। यद्यपि यह अकेला आधार नहीं होता।

इस पोस्ट के माध्यम से हमने आपको बिजनेस टर्नओवर एवं इसकी गणना कैसे करें, इसके बारे में समझाया। आशा करते हैं कि यह पोस्ट आपको पसंद आई होगी। इसके जरिए आप बिजनेस को और अच्छी तरह समझ सकेंगे। जानकारी की दृष्टि से इस पोस्ट को अधिक से अधिक शेयर करना न भूलें। धन्यवाद।

———————————

Contents show
Spread the love:

Leave a Comment

शेयर मार्किट से पैसे कैसे कमाए? जमीन का सरकारी रेट कैसे पता करें? ओटीटी प्लेटफॉर्म क्या है? OTT कैसे काम करता है? सरकारी बैंकों से लोन कैसे लें? इनकम टैक्स चोरी की शिकायत कैसे करें?