Budget 2020 In Hindi – यहां है बजट 2020 की पूरी जानकारी

अनुक्रम

Budget के बारे में एक आम कहावत है कि Budget हर साल आता जरूर है, लेकिन किसी की समझ में नहीं आता। मित्रों, देश की वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने एक बार फिर देश की अर्थव्यवस्था की सुस्ती की चर्चा के बीच Budget पेश किया। सभी भाजपा पदाधिकारियों, नेताओं, कार्यकर्ताओं ने ट्वीट के जरिए या अपने बयानों से Budget की भूरि भूरि प्रशंसा कर दी है। लेकिन आखिर इस Budget में है क्या? पहली नजर में देखें तो महंगाई और बेरोजगारी को लेकर इस Budget में कोई खास प्रावधान नहीं किया गया है।

पहली नजर में Budget की जो साफ बातें हैं, उनमें सबसे बड़ी राहत नौकरीपेशा वर्ग यानी देश के करदाताओं के लिए है। सरकार ने टैक्स स्लैब में बदलाव किया है। टैक्स की दरें कम की हैं। इसी को आम आदमी को मिलने वाली सबसे बड़ी राहत भी कहा जा सकता है। 5 से 15 लाख तक की सालाना टैक्सेबल इन्कम वालों को इस Budget से राहत मिलेगी। हालांकि जिनकी इन्कम 15 लाख से अधिक है, उनके लिए दरों में कोई बदलाव नहीं किया गया है।

Budget 2020 In Hindi –

इसके अलावा जल्द ही नेशनल लॉजिस्टिक पालिसी भी आएगी। इसके अलावा जल्द ही नई शिक्षा नीति लाए जाने की भी बात कही गई है। राष्ट्रीय पुलिस यूनिवर्सिटी और राष्ट्रीय न्यायिक विज्ञान विश्वविद्यालय बनाने की भी घोषणा Budget के अंदर की गई है। इसके अलावा पांच नए स्मार्ट सिटी भी बनाए जाएंगे।

Budget 2020 In Hindi - यहां से बजट 2020 की पूरी जानकारी

दोस्तों, GDP पर हुए तमाम बवाल के बीच वित्त वर्ष 2020-21 के लिए अनुमानित GDP 10 प्रतिशत आंकी है। क्या कहा? आपको भी Budget के प्रावधान बहुत भारी भरकम महसूस होते हैं? चिंता की कोई बात नहीं। हम आपको आसान शब्दों में Budget में क्या क्या प्रावधान किए गए हैं? इसकी मोटी मोटी बातें क्या हैं? इस post के जरिए बिंदुवार बताएंगे। आइए, शुरू करते हैं –

Budget 2020 In Hindi: इनकम टैक्स स्लैब 2020 –

Total income (Rs) Tax Rate
5 लाख से 7.5 लाख तक10 प्रतिशत
7.5लाख से 10 लाख तक15 प्रतिशत
10 लाख से 12.5 लाख तक 20प्रतिशत
12.5लाख से 15 लाख तक25 फीसदी
15 लाख से ऊपर30 फीसदी

पहले टैक्स की यह दर क्रमश: 5 से 7.5 लाख तक की आय पर 20 प्रतिशत, 7.5 लाख से 10 लाख की आय पर भी 20 फीसदी, जबकि 10 लाख से अधिक आय वालों के लिए फीसदी लगाई जा रही थी। इस Budget में एक नई बात यह भी की गई है। कि अब एक टैक्स पेयर चार्ट बनाया जाएगा। यानी इसमें तमाम करदाताओं की डिटेल होगी। कुल मिलाकर सरकार किसी भी अन्य करदाता यानी टैक्स पेयर को परेशान नहीं करेगी। सस्ते होम लोन के ब्याज पर डेढ़ लाख रुपये तक की छूट का प्रावधान किया गया है।

नई शिक्षा नीति आएगी, डिग्री स्तर का आनलाइन शिक्षा कार्यक्रम शुरू होगा

Budget में शिक्षा के लिए 99,300 करोड़ रुपये का प्रावधान किया गया है। नई शिक्षा नीति की जल्द घोषणा की जाएगी। दोस्तों, समाज के एक बड़ा वर्ग ऐसा है, जो शिक्षा से वंचित है। इस वर्ग के छात्रों के लिए डिग्री स्तर का आनलाइन शिक्षा कार्यक्रम शुरू किया जाएगा।

शिक्षा प्रणाली में सुधार को विदेशी कर्ज लेंगे, skill development को तीन हजार करोड़ –

साथियों, शिक्षा प्रणाली में सुधार के लिए विदेशों से कर्ज लिए जाने के साथ ही प्रत्यक्ष विदेशी निवेश यानी एफडीआई लाए जाने की कवायद की जाएगी। युवाओं में और छात्र छात्राओं के स्किल डेवलपमेंट के लिए तीन हजार करोड़ दिए जाएंगे। उन्हें विदेशों में नौकरी दिलाए जाने के लिए ब्रिज कार्यक्रम चलाए जाएंगे।

बैंकों में नान गजेटेड पदों पर भर्ती सुधार को राष्ट्रीय भर्ती एजेंसी बनेगी –

बेरोजगार बेशक नौकरी के लिए मारे मारे फिर रहे हों। देश में पकौड़े का बिजनेस और चाय सभी की जुबां और चर्चा में रही हो, लेकिन बजाय इस दिशा में कोई ठोस घोषणा करने के सरकार ने अपना फोकस भर्ती सुधारों पर रखा है। उनसे सरकारी और सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों में नान गजेटेड पदों पर भर्ती में अहम सुधारों के लिए राष्ट्रीय भर्ती एजेंसी की स्थापना की बात कही है। इससे बेरोजगार नाखुश हैं। उन्हें सरकार से उनके लिए किसी ठोस कदम की उम्मीद थी।

बैंक गारंटी एक लाख से बढ़ाकर 5 लाख की, खाताधारकों को राहत होगी –

नए प्रावधान के मुताबिक बैंकों में जमा 5 लाख रुपये तक की रकम पूरी तरह सुरक्षित रहेगी। पहले बैंक केवल एक लाख तक की ही गारंटी दे रहे थे। इससे बैंकों के लाखों ग्राहकों को राहत मिली है। ये वह ग्राहक थे, जिनकी बड़ी जमा पूंजी बैंकों में रहती है, लेकिन अगर बैंक कंगाल होता या खुद को दिवालिया घोषित करता तो इन्हें केवल एक ही लाख की वापसी की गारंटी थी। अब Budget में बैंक गारंटी को एक लाख से बढ़ाकर 5 लाख रुपए कर दिया गया है।

बंजर जमीन पर सौर बिजली से कमाएंगे किसान, 15 लाख करोड़ के कर्ज का प्रावधान –

सही सुना दोस्तों, किसानों के लिए Budget में कुछ हद तक अच्छी खबर है। इसके साथ ही किसानों को 15 लाख करोड़ तक लोन का लक्ष्य रखा गया है। इससे कम से कम उर्वरक, खाद, उपकरण महंगा होने का रोना रो रहे किसानों को राहत मिलेगी। मछली उत्पादन 2000-23 तक 200 लाख टन करने का प्रस्ताव किया गया है। जिन किसानों के पास बंजर जमीन है, उस पर उन्हें सौर बिजली इकाई लगाने और सर प्लस बिजली सौर ग्रिड को बेचने में मदद की जाएगी। इंफ्रास्ट्रक्टचर प्रोजेक्ट्स के लिए परियोजना तैयारी सुविधा विकसित करेंगे। सभी सरकारी एजेंसियों को इससे जोड़ेंगे। उर्वरकों के संतुलित प्रयोग को बढ़ावा दिया जाएगा।

PPP मोड पर 150 नई ट्रेन चलाई जाएंगी, 100 नए हवाई अड्डे विकसित होंगे –

जी हां दोस्तों, देश में पीपीपी माडल पर 150 नई ट्रेनें चलाई जाएंगी। मुंबई-अहमदाबाद हाईस्पीड ट्रेन का काम आगे बढ़ाया जाएगा। तेजस की ही तरह और ट्रेनें भी चलाई जाएंगी। इस ट्रेन का संचालन प्राइवेट सेक्टर के हाथों में है। लेकिन देश का गरीब वर्ग जिन ट्रेनों से सफर करता है, Budget में उसके लिए कहीं कोई प्रावधान नहीं किया गया है। वह Budget के दायरे से बाहर ही है। इसके अलावा 100 और हवाई अड्डों के विकास का ऐलान किया गया है। क्वांटम तकनीक और एप्लिकेशन पर पांच साल में 8000 करोड़ रुपये खर्च किए जाएंगे। इसके अलावा सिंगल विंडो ई लाजिस्टक मार्केट भी आएगा।

LIC जाएगी निजी हाथों में, cash flow की समस्या से भी निपटेंगे –

जी मित्रों, सरकार LIC में अपनी हिस्सेदारी बेचेगी। हालांकि इससे एलआईसी में निवेश करने वाले और बीमा पालिसी मैच्योर होने की स्थिति में पेंशन खाने वाले लोग परेशान हैं। उन्हें समझ नहीं आ रहा कि इसके बाद किस तरह का बदलाव उनकी जमा राशि में होगा। इसके अलावा माइक्रो और स्माल इंडस्ट्री की भुगतान में देरी की समस्या और cash flow की दिक्कत दूर करने के लिए app आधारित invoice वित्त पोषण ऋण उत्पाद पेश किया जाएगा।

विदेशी घटिया सामान के आयात पर अंकुश की कवायद, क्वालिटी मानक आदेश होगा जारी –

साथियों, Budget में प्रावधान किया गया है कि सभी मंत्रालय गुणवत्ता मानक आदेश जारी करेंगे। यानी इससे देश में क्वालिटी वाले सामान की बिक्री को बढ़ावा दिए जाने का काम किया जाएगा। इसके साथ ही घटिया सामान के import पर रोक लगाई जाएगी। असल सवाल यह है कि क्या वाकई गुणवत्ता मानक आदेश से कोई असर पड़ने वाला है? मानक तो पहले से विद्यमान हैं।

स्वच्छ भारत मिशन को तवज्जो, और धन दिया –

स्वच्छ भारत मिशन पर सरकार का बहुत जोर है। इस बार भी 12,300 करोड़ स्वच्छ भारत मिशन के लिए होंगे। नमामि गंगे स्वच्छ भारत मिशन का ही एक पार्ट है। इसके तहत गंगा को स्वच्छ किए जाने की कवायद चल रही है। लेकिन इसका हाल भी किसी से छिपा नहीं है। गंदगी किसी कार्यक्रम के रोज तो साफ कर दी जाती है, लेकिन अन्य दिनों में हाल बुरा रहता है। अभी भी सभी नालों को टैप नहीं किया जा सका है। गंदगी गंगा में लगातार गिर रही है। ऐसे में इस Budget प्रावधान को लेकर भी ज्यादातर लोग बहुत उत्साहित नहीं हैं।

2022 का जी- 20 सम्मेलन भारत में, तैयारी को 100 करोड़ –

2022 का जी-20 सम्मेलन भारत में होगा। इसके आयोजन की तैयारी के लिए 100 करोड़ रुपये का आवंटन किया गया है। इस सम्मेलन के आयोजन से देश के अन्य देशों के साथ व्यापारिक और वाणिज्यिक संबंध मजबूत होने की संभावना है। इसके साथ ही पर्यावरण और संस्कृति के क्षेत्रों में भी कई समझौते हो सकते हैं। यह विश्व के 20 शक्तिशाली देशों का एक समूह है।

senior citizens, दिव्यांगों के लिए 9500 करोड़, बड़े शहरों में साफ हवा मुहैया कराने पर जोर –

senior citizens के साथ ही दिव्यांगों के लिए करीब 9500 करोड़ के आवंटन की घोषणा हुई। इसके साथ ही वित्त वर्ष 2020-21 के लिए संस्कृति मंत्रालय के लिए 3150 करोड़ रुपये की व्यवस्था की जाएगी। पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए 2500 करोड़ रुपये दिए जाएंगे, जबकि बड़े नगरों यानी कि 10 लाख से अधिक की जनसंख्या वाले शहरों मे स्वच्छ हवा सुनिश्चित करने के लिए 4400 करोड़ का आवंटन किया जाएगा।

टीबी के खात्मे को चलेगा अभियान, हर जिले में खुलेगा जन औषधि केंद्र –

Budget में स्वास्थ्य क्षेत्र के लिए 69000 करोड़ दिए गए हैं। 2025 तक टीबी समाप्त करने के लिए टीबी हारेगा, देश जीतेगा अभियान चलाया जाएगा। इसके अलावा हर जिले में जन औषधि केंद्र खोले जाएंगे। यह भी बता दें कि देश के 112 आकांक्षी जिलों में जहां आयुष्मान भारत योजना से जुड़े अस्पताल नहीं हैं। वहां सार्वजनिक-निजी भागीदारी यानी पीपीपी मोड पर अस्पताल बनाने को प्राथमिकता दी जाएगी।

पंचायत का आसान करने को हाई स्पीड ब्राड बैंड –

भारत नेट कार्यक्रम के तहत वित्त वर्ष 2020-21 में 6000 करोड़ रुपये आवंटित। एक लाख ग्राम पंचायतों को हाई स्पीड ब्राड बैंड से जोड़ा जाएगा। इससे पंचायतों के दस्तावेजों का रख रखाव बेहद आसान होगा और उनका कामकाज बेहद आसान हो जाएगा। इसके अलावा डाटा सेंटर पार्क स्थापित किया जाएगा।

महिलाओं की अनदेखी, बस विशिष्ट कार्यक्रम को तवज्जो –

महिला विशिष्ट कार्यक्रमों के लिए 28,600 करोड़ का प्रावधान किया गया है, वहीं पोषण संबंधी कार्यक्रमों के लिए 35,600 करोड़ रुपये दिए गए हैं। यह खोला नहीं गया है कि वह विशिष्ट कार्यक्रम क्या होंगे। बहुत केंद्रित घोषणाएं न होने से महिलाओं में भी इस Budget को लेकर बहुत उत्साह देखने को नहीं मिला है। वह भी तब, जबकि वित्त मंत्री खुद एक महिला हैं। निर्मला सीतारमण से महिलाओं ने बहुत उम्मीद लगाई थी। खास तौर पर वह सोच रही थीं, कि उनकी रसोई को महंगाई से मुक्ति दिलाने की कोई कवायद जरूर की जाएगी।

नेशनल फारेंसिक साइंस यूनिवर्सिटी बनेगी –

सरकार ने Budget में नेशनल फॉरेंसिक साइंस यूनिवर्सिटी बनाए जाने की घोषणा की है, लेकिन हालात यह हैं कि फॉरेंसिक लैब तक ज्यादातर जगहों पर नहीं। अगर अपराध की स्थिति में सैंपल भेजने की नौबत आती है, जो उन्हें चुनिंदा जगहों पर भेजा जाता है। और वहां भी चूंकि स्टाफ पूरा नहीं। ऐसे में एक सैंपल की जांच में महीनों लग जाते हैं। अगर उत्तराखंड, यूपी की बात करें तो यहां के सैंपल फॉरेंसिक जांच को चंडीगढ़ भेजे जाते हैं।

2024 तक 6000 किलोमीटर हाईवे बनेंगे –

जैसा कि Budget में प्रावधान किया गया है-मोबाइल फोन विनिर्माण, कलपुर्जे, सेमीकंडक्टर के लिए नई योजना लाई जाएगी। पैकेजिंग को बढ़ावा देने की योजना है। नेशनल इन्फ्रा पाइप लाइन के लिए 1.03 करोड़ दिए जाएंगे। इसके साथ ही स्मार्ट मीटरिंग की नई योजना लाई जा रही है। तीन साल में नए स्मार्ट मीटर और 2024 तक 6000 किलोमीटर हाईवे बनेंगे। अनुसूचित जाति, अन्य पिछड़े वर्गों के लिघ्ए 85 हजार करोड़ का प्रस्ताव और अनुसूचित जनजाति के लिघ्ए 53700 करोड़ का प्रस्ताव किया गया है।

क्या हुआ महंगा: एक नज़र में –

दूध और इससे बने पदार्थ, सोना, चांदी और चांदी से बने जेवर, आटो पार्ट्स, पेट्रोल, डीज़ल, फुटवियर, फर्नीचर, तंबाकू उत्पाद, आयातित किताब, आडियो कैसेट, सीसीटीवी, वाहनों के हार्न आदि।

क्या हुआ सस्ता: एक नज़र में –

पशु आधारित और वानिकी उत्पाद, प्लास्टिक, रसायन, कच्ची चीनी, अल्कोहल उत्पाद आदि।

तो साथियों, यह थी Budget -2020 के प्रावधानों के बारे में सारी जानकारी। हमें पूरी उम्मीद है कि आपको Budget पर आधारित यह जानकारी पसंद आई होगी। अगर आपके मन में Budget को लेकर कोई अन्य सवाल उठ रहा है तो संकोच न करें। आप तो सीधे नीचे लिखे कमेंट बॉक्स में कमेंट करके अपना सवाल हमें भेज सकते हैं हम उस सवाल का जवाब देने की पूरी पूरी कोशिश करेंगे । इसके अलावा किसी दूसरे विषय पर अगर आप जानकारी लेना चाहते हैं तो भी आप नीचे लिखे कमेंट बॉक्स में विषय का नाम लिखकर हमें भेज सकते हैं।

हम उस पर भी आपको पूरी जानकारी देने की पूरी पूरी कोशिश करेंगे इसके अलावा अगर कोई सुझाव आपके मन में चल रहा है तो भी आप उसे हमसे साझा कर सकते हैं। उसके लिए तरीका यही रहेगा कि आपको कमेंट बॉक्स में कमेंट करना होगा। उस पर भी अमल की हमारी पूरी पूरी कोशिश रहेगी। हमें आपकी प्रतिक्रिया का इंतजार रहेगा। ।। धन्यवाद।।

Spread the love

4 thoughts on “Budget 2020 In Hindi – यहां है बजट 2020 की पूरी जानकारी”

Leave a Comment