BPO Kya Hai? BPO Me Job Kaise Kare? BPO Full Form In Hindi

हम सभी ने BPO के बारे में सुना ही होगा। लेकिन बहुत कम लोग जानते हैं। कि वास्तव में यहाँ क्या काम होता है? और BPO Me Job Kaise Kare? तो सबसे पहले BPO का फुल फॉर्म है? बिजनेस प्रोसेस आउटसोर्सिंग जो आपको नाम से ही पता चल रहा है कि आउटसोर्सिंग का काम करता है। यह concept सबसे पहले Ross Perot ने शुरू किया था वो भी सन १९६२ में और उसके बाद से ही बहुत से कम्पनी ने इस सेवाओं का इस्तेमाल करना शुरू कर दिया।

BPO Kya Hai? BPO Me Job Kaise Kare? BPO Full Form In Hindi

Rose Perot ने Electronics Data System की स्थापना की। जिसके द्वारा information technology से किसी भी बिजनेस का आसानी से मैनेज कर सकते हैं। और इसके बदले में कंपनी को फीस देनी होगी।

BPO क्या है – What Is BPO In Hindi-

आज BPO आउटसोर्सिंग की एक ऐसी सेवा है। जहाँ आप अपने बिजनेस के लिए किसी पार्टी को नियुक्त करते हैं। और उनके द्वारा अपने ग्राहकों को सर्विस प्रदान करते हो। इस तरह की सर्विस देने के लिए योग्य लोगो को नियुक्त किया जाता है। जो बिजनेस को समझे और उच्च गुणवत्ता की सेवा प्रदान करे। BPO की सेवाएं सभी देशों के लिए उपलब्ध है। और इसके द्वारा आप अपने बिजनेस का आसानी से संभाल सकते हैं। यह एक ऐसा कॉन्ट्रैक्ट है। जिसके द्वारा आप अपना बिजनेस किसी थर्ड पार्टी के द्वारा करवाते हैं। इसमें कई सारे डिवीज़न होते हैं। जैसे call center , Accounting ,payroll , इत्यादि जो BPO के कर्मचारियों को करना होता है।

इसमें दो प्रकार की सेवाएं प्रदान की जाती है। जैसे की Back office जहाँ आंतरिक व्यापर के कार्य होता है। और दूसरा है। front end जहाँ कस्टमर सर्विस सँभाला जाता है। सबसे मुख्य कारण जिसकी वजह से लोग BPO द्वारा काम करवाते हैं। तो वो है। उच्च गुणवत्ता सेवाएं प्रदान करना वो भी बजट अनुसार। आज ऐसे कई देश है। जो कस्टमर सर्विस India में BPO के द्वारा करवाते हैं। जिस से उनको महँगे ऐक्सपर्ट को नियुक्त ना करना पड़े। BPO के द्वारा किसी भी बिजनेस की ज़िम्मेदारी सक्षम कर्मचारियों से करवा सकते हैं।

बीपीओ का फुल फॉर्म क्या है – Full form of BPO in Hindi & English –

BPO का फुल फॉर्म जानना भी आवश्यक है। BPO का इंग्लिश में BPO – Business Process Outsourcing कहतें हैं। और हिंदी में इसे व्यावसायिक प्रक्रिया आउटसोर्सिंग कहा जाता है।

बीपीओ की जॉब के लिए क्या योग्यता होनी चाहिए?

यदि आपके मन में सवाल आ रहा है कि BPO Me Job Kaise Kare? तो इससे पहले आप अपनी योगता BPO चेक कर लीजिये। BPO में जॉब करने के लिए आपको निम्न योग्यता को पूरा करना होगा –

  • यदि आपको BPO में जॉब करनी है। तो आपके पास ग्रेजुएशन डिग्री होना बहुत की जरुरी है। जो लोग सोचते हैं कि यह बहुत आसान जॉब है। और आप १० या १२ पास करके इसे कर सकते हो तो आप बिलकुल ही गलत हो क्योंकि यह एक उत्तरदायी काम है। और इसलिए आप में काबिलियत का होना आवश्यक है।
  • आप किसी भी स्ट्रीम जैस की BCA, BA, MBA, B.SC, B.COM के डिग्री होल्डर है। तो आपको बीपीओ में जॉब मिल सकती है। इस जॉब के लिए सबसे जरुरी है। इंग्लिश और साथ ही communication skill जिससे आप किसी भी तरह के customer से आसानी से डील कर सके।
  • आपको बेसिक कंप्यूटर का नॉलेज होना बहुत जरुरी है। ऐसी जॉब करने के लिए।
  • आज ऐसी बहुत सी विदेशी कंपनी है। जो अपने बिजनेस को संभल ने के लिए बीपीओ की सेवाओं पर निर्भर है। और इसलिए आप को फ्लेक्सिबल होना चाहिए टाइमिंग के लिए।

BPO की जॉब मिलना आज आसान नहीं है। और आपको इसके लिए पहले अपना अच्छा सा रिज्यूम बनाना होगा। जहाँ आपकी काबिलियत पर आधारित आपको interview देना होता है। ये इंटरव्यू आपके एजुकेशन qualification पर आधारित होता है।और यदि आप इसे क्लियर कर के तो आपको पहले ट्रेनिंग दी जाती है। इस में आपको सिखाया जाता है। कैसे आप BPO में back office या front end से काम करे और फिर उसके बाद आपको काम दिया जाता है।

BPO में क्या होता है?

हमे यह तो पता चल गया की बीपीओ क्या है? और इसमें आप कैसे जॉब पा सकते हैं? लेकिन सबसे बड़ा प्रश्न है कि इसमें होता क्या है। आज ऐसी बहुत से लोग है। जिन्होंने BPO के बारे में सुना है। लेकिन उन्हें ये नहीं पता की आपको क्या काम करना होता है। बीपीओ आउटसोर्सिंग कंपनी है। जहाँ आप किसी अन्य कंपनी की सर्विसेज को संभालते हैं। और उनके कस्टमर query को हल करते हैं।

BPO में ज्यादातर विदेशी कंपनी होती है। और आपको विदेशी कस्टमर से बात करनी होती है। इसलिए आपकी इंग्लिश बहुत ही अच्छी होनी चाहिए। आप को उनकी tuning को समझना होगा और उसी प्रकार उनसे डील करनी होगी। यदि आप front end में काम करते हैं। तो आपको बहुत ही धीरज से अपने कस्टमर से बात करनी होगी। यहाँ तक की अगर आप back office काम भी करते हैं। तो आपको ट्रेनिंग दी जाएगी जिससे आप अपना काम समज सके और अच्छी तरह से उसे पूरा कर सके।

यह ध्यान रखिये की बीपीओ में सारा काम कंप्यूटर द्वारा किया जाता है। इसलिए आपको कम्यूटर यूज़ करना आना चाहिए। Back end सेवाएं में आपकी निपुणता अधिक होती है। क्योंकि आप किसी कंपनी का वित्त और लेखांकन का काम करते हैं। कोई भी कंपनी आपसे उच्च गुणवत्ता के काम की कामना करती है। और इसके लिए ही आपको वेतन भी मिलता है। आपको हमेशा organization की ज़रुरत अनुसार काम करना होता है।

BPO के फायदे –

जब भी आप बिज़नेस को बढ़ाने के बारे में सोचते हैं। तो staff और infrastructure पर अच्छा इन्वेस्टमेंट करना होता है। लेकिन आप इससे बचना चाहते हैं। तो BPo एक अच्छा विकल्प है। आपको अपना सारा काम आउटसोर्स से करवाना होता है। जहाँ सब कुछ वह के कर्मचारी संभालेंगे और बिना अधिक निवेश किये आप अपने बिजनेस को बढ़ा सकते हैं। इसके अन्य फायदे इस प्रकार हैं –

  • आप अपने बिजनेस की स्पीड और साथ ही दक्षता बढ़ा सकते हैं। आपके सारे काम BPO के कर्मचारी करेंगे। जो इन सब में निपुण है। और आपका सारा काम अच्छी तरह से संभाल लेंगे।
  • सभी organizations का समय और पैसा भी बचता है। क्योंकि आपको स्परशल ऐक्सपर्ट की ज़रुरत नहीं होती। और आप अपना सारा काम BPO द्वारा करवा सकते हैं। आप अपना सारे समय अपने बिजनेस को और भी विकसित करने में निवेश कर सकते हैं।
  • BPO में सारा काम टेक्नोलॉजी पर आधारित है। और इसलिए यहाँ कर्मचारी आसानी से उसका इस्तेमाल करके आपके कस्टमर के सारे प्रश्नों को हल कर सकते हैं।
  • सबसे अच्छी बात यह है कि बीपीओ के द्वारा कोई भी कंपनी अपने सारे प्राइमरी काम BPO पर छोड़ सकती है। और खुद का सारा समय और पैसा अपने बिजनेस के विकास में लगा सकती है।

BPO उम्मीदवार की जिम्मेदारी क्या होती है?

  • BPO उम्मीदवार का सबसे मुख्य काम अपने कस्टमर को हैंडल करना होता है। और उनकी सारी समस्या का निवारण लाना होता है।
  • आज कल टेक्नोलॉजी के द्वारा सभी काम आसानी से हो जाते हैं। लेकिन साथ ही टेक्नोलॉजी भी ज़रुरत अनुसार बदलती रहती है। इसलिए BPO में काम करने वाले सभी लोगो को नयी चीजों को सिख ने की इच्छा होनी चाहिए।
  • आप किसी कठिन समस्या को देख कर छोड़ नहीं सकते और उस समय आपको अपने लीडर की मदद लेनी चाहिए। सभी के लिए BPO का काम आसान नहीं होता लेकिन प्रॉपर ट्रेनिंग और समज से आप इसे कर सकते हैं।
  • आप यदि BPO Back office में काम करते हैं। तो आपको सभी legal सेवाओं और साथ ही वित्तीय विश्लेषण के बारे में जानकारी होनी चाहिए। Back office में आपको ये सारे काम करने होते हैं। इसलिए यदि आपको समज होगी तो काम करना आसान हो जायेगा।
  • आपको अपने कस्टमर को बेहतरीन solution देना होगा जिससे वो आपसे पूरी तरह से satisfy हो सके। और आप पर उनका भरोसा कायम रहे।
  • सभी को एक टारगेट दिया जाता है। जिसे कर्मचारियों को समय अनुसार ही achieve करना होता है।

बीपीओ में कितना वेतन मिलता है –

BPO में वेतन आपको आप के काम अनुसार दिया जाता है। जो उम्मीदवार बहुत ही experienced होते हैं। और अपना काम बहुत ही अच्छी तरह से करते हैं। उन्हें promotion दिया जाता है। जहाँ उनकी post और वेतन दोनों में बढ़ोतरी होती है। यदि आप सर्वश्रेष्ट सेवाएं प्रदान करे। तो आपका वेतन बहुत ही जल्द बढ़ जाता है।

अब आपको BPO के बारे मैं सभी जानकारी होगी और यहाँ क्या काम होता है। उसका भी अंदाजा आ गया होगा। बहुत से लोग इस तरह की जॉब को अच्छा नहीं मानते क्योंकि उन्हें ये पता ही नहीं होता के दरअसल बीपीओ में क्या होता है।आपमें कौशल और कम्यूनिकेशन स्किल दोनों ही होनी चाहिए इसमें जॉब करने के लिए। जो लोग सोचते हैं कि इसमें कोई फ्यूचर नहीं है। वो बिलकुल गलत है। क्योंकि आज बहुत सी कंपनी है। जो BPO पर निर्भर है। और इसलिए इसमें हमेशा ही डिमांड रहती है। आप भी चाहे तो अपना करियर इस क्षेत्र में बना सकते हैं। और अपने आप को एक अच्छे मुकाम पर ले जा सकते हैं। इस तरह की जॉब में आपको कड़ी मेहनत और परिश्रम से सर्वश्रेष्ट फल मिलेगा।

Sharing is caring

अपना सवाल यहाँ पूछें। कमेंट में अपना मोबाइल नंबर, आधार नंबर और अकाउंट नंबर जैसी पर्सनल जानकारी न शेयर करें।