BNYS कोर्स क्या है? योग्यता,कोर्स, जॉब, सैलरी, करियर | BNYS Course Kya Hai?

BNYS course kya hai, क्या आपको लगता हैं कि आजकल लोग अपना उपचार करवाने के लिए एलोपैथिक डॉक्टर के पास जाना ही पसंद करते हैं? नही ना!! देअसल आजकल हम अंग्रेजी दवाइयों पर निर्भर होने की बजाए अपना उपचार (BNYS course details in Hindi) आयुर्वेदिक, होम्योपैथिक, योग व प्राकृतिक चिकित्सा को अत्यधिक महत्व देने लगे हैं। इसी कारण इन क्षेत्रों में डिग्री कर डॉक्टर बनने वाले लोगों की संख्या में भी तेजी से वृद्धि देखने को मिली हैं।

इसी में एक प्रसिद्ध कोर्स का नाम हैं BNYS कोर्स। यह कोर्स एक ऐसा कोर्स हैं जिसमें आयुर्वेद, होम्योपैथिक, प्राकृतिक व योग चिकित्सा सभी का समावेश किया जाता (BNYS course details in Hindi) हैं।

कहने का अर्थ यह हुआ कि किसी रोगी की बीमारी का प्राकृतिक चिकित्सा के माध्यम से किस तरह से (BNYS kya hota hai) सर्वश्रेष्ठ उपचार किया जाए वह इसमें सिखाया जाता हैं। ऐसे में यदि आप भी BNYS कोर्स क्या है। और BNYS डॉक्टर कैसे बने, के बारे में जानना चाहते हैं तो आज हम आपको इसी के बारे में विस्तार से बताएँगे।

BNYS कोर्स क्या है? (BNYS course kya hai)

BNYS कोय्रसे एक डॉक्टर बनने का कोर्स होता है लेकिन वह डॉक्टर एलोपैथिक या अंग्रेजी दवाइयों का डॉक्टर ना होकर एक प्राकृतिक चिकित्सा का डॉक्टर कहलाता हैं। हालाँकि हम BNYS के जरिये चिकित्सा करने वाले डॉक्टर को होम्योपैथिक या आयुर्वेदिक डॉक्टर भी नही कह सकते हैं क्योंकि उसके लिए अलग कोर्स होते (BNYS kya h) हैं।

इस तरह से जिस कोर्स में प्राकृतिक चिकित्सा के द्वारा लोगों का उपचार करने की व्यवस्था की जाए वह BNYS कोर्स होता है। इसमें चिकित्सा के लिए विभिन्न उपचार विधि जैसे कि घरेलू उपचार व योग का समावेश किया जाता है। इस तरह से जिस उपचार में योग की क्रियाओं को सम्मिलित किया जाता है, उसे BNYS कोर्स कहते हैं। 

इसे समझने के लिए हमें योग के बारे में थोड़ा बहुत जानना होगा ताकी आप जान सके कि आखिरकार BNYS कोर्स असलियत में होता क्या है।

BNYS कोर्स क्या है? योग्यता,कोर्स, जॉब, सैलरी, करियर | BNYS Course Kya Hai?

BNYS कोर्स में योग की महत्ता (BNYS Yoga)

यदि आप समझते हैं कि सांस अंदर बाहर करना या ऐसे ही जुड़े व्यायाम करना ही योग का एक नाम हैं तो आप गलत हैं। दरअसल योग के आठ प्रकार होते हैं जिनमे सांस संबंधी भाग को प्राणायाम के नाम से जाना जाता हैं। कहने का अर्थ यह हुआ कि यह योग के आठ प्रकारों में से एक प्रकार होता हैं।

ऐसे में योग के आठ प्रकारों के नाम हैं यम, नियम, आसान, प्राणायाम, प्रत्याहार, धारणा, ध्यान, व समाधि। यह योग के संपूर्ण प्रकार हैं जो हमें स्वस्थ जीवन जीने का मार्ग दिखाते हैं।

इसके जरिये ना केवल व्यक्ति की शारीरिक बल्कि मानसिक बीमारियाँ भी ठीक की जा सकती हैं। ऐसे में यदि योग के द्वारा एक व्यक्ति का उपचार किया जाए तो जो रोग एलोपैथिक उपचार से भी ठीक नही किये जा सकते हैं वे इसके द्वारा हो जाते हैं।

इसमें यम व नियम व्यक्ति के व्यवहार को ठीक कर उसको अनुशासिक करने का काम करते हैं जिसमें उसको अपने भोजन, दिनचर्या, रहन सहन में बदलाव लाना होता हैं ताकि वह जल्दी ठीक हो सके। हम जब भी डॉक्टर के पास जाते हैं तो वह भी हमे क्या खाए और क्या नही, दवाई लेने के अलावा क्या करे और क्या नही, इत्यादि के बारे में बताता हैं, तो यह बस वही हैं।

आसान, प्राणायाम व प्रत्याहार में व्यक्ति के शहरीक स्वास्थ्य का ध्यान रखा जाता हैं और उसके लिए उपाय किये जाते हैं। इसमें विभिन्न योग मुद्राओं व आसान के जरिये व्यक्ति के शरीर व उसके अंगों को काम करने लायक बनाया जाता हैं। इसी के साथ कई तरह की बिमारियों का उपचार भी इसके माध्यम से किया जाता हैं। यह एक तरह से दवाई का काम करते हैं।

इसी तरह योग के अंतिम 3 प्रकारों में धारणा, ध्यान व समाधि आते हैं। इनके द्वारा व्यक्ति के मानसिक स्वास्थ्य को ठीक किया जाता हैं। जब हम बीमार होते हैं तो डॉक्टर हमें आराम करने की सलाह देता हैं। ऐसे में यह आराम करने से ऊपर की क्रिया हैं जिसमें हम विभिन्न तरह की क्रियाओं से अपने मन व चित्त को शांत करने का काम करते हैं।

BNYS की फुल फॉर्म (BNYS ka full form)

अभी तक आपने BNYS के बारे में बहुत कुछ जान लिया लेकिन आपके मन में शंका होगी कि आखिरकार इस BNYS का पूरा नाम क्या है या फिर BNYS की फुल फॉर्म क्या है। आइए इसका पूरा नाम भी जाने। दरअसल BNYS की फुल फॉर्म बैचलर ऑफ नेचुरोपैथी व योगिक साइंस (Bachelor of Naturopathy and Yogic Science) है।

यदि BNYS के हिंदी नाम की बात की जाए तो उसे प्राकृतिक व योग विज्ञान में स्नातक कहा जाएगा। एक तरह से जो डॉक्टर अपने रोगी का प्राकृतिक व योग विद्या के माध्यम से उपचार करें वह BNYS का डॉक्टर कहलायेगा।

BNYS में उपचार कैसे किया जाता है? (BNYS treatment)

अब जब आपने BNYS कोर्स की परिभाषा जान ली हैं और उसमे योग के महत्व को जान लिया हैं तो अब हम इसे अंतिम रूप देते हैं। अब आपको यह जानना होगा कि आखिरकार BNYS कोर्स में कैसे एक डॉक्टर के द्वारा अपने रोगी का उपचार किया जाता हैं। तो इसमें किसी रोगी का उपचार (Bachelor of naturopathy & yogic science) संपूर्ण रूप से प्राकृतिक तरीके से किया जाएगा।

एक तरह से जो भी रोगी BNYS के डॉक्टर के पास जाएगा और उन्हें अपनी बीमारी बताएगा तो उस रोग का उपचार किस तरह से प्राकृतिक तरीके से किया जा सकता हैं व उसके लिए उस मनुष्य को अपनी जीवनशैली में किस तरह का परिवर्तन लाना होगा, इत्यादि सब एक डॉक्टर के द्वारा ही बताया जाएगा।

BNYS कोर्स करने के लिए योग्यता

यदि आप सोच रहे हैं कि इसके लिए आपको MBBS जितनी तैयारी करनी पड़ेगी तो आप गलत हैं। दरअसल BNYS कोर्स करने के लिए ना तो आपको नीट की परीक्षा देनी होती हैं और ना ही MBBS या उससे संबंधित कोई अन्य कोर्स करना होता हैं। इसलिए आप निश्चित हो जाए कि इसके लिए आपको नीट जैसे सरकारी परीक्षा की तैयारी करनी पड़ेगी। इसलिए आइए जाने BNYS कोर्स करने के लिए आपके अंदर क्या क्या योग्यता होनी चाहिए।

दसवीं के बाद ले मेडिकल

यदि आप डॉक्टर से संबंधित किसी भी क्षेत्र में जाना चाहते हैं तो उसके लिए आपको दसवीं के बाद मेडिकल स्ट्रीम का चुनाव करना अनिवार्य होता हैं। फिर चाहे आप MBBS करना चाहते हो या नर्सिंग या कुछ और। ऐसे में यदि आप BNYS कोर्स भी करने जा रहे हैं तो उसके लिए भी आपके पास 11वीं व बारहवीं कक्षा में मेडिकल विषय का होना आवश्यक हैं।

इसमें आपको भौतिक विज्ञान, रसायन विज्ञान व जीव विज्ञान के बारे में पढ़ना होगा। आप चाहे तो नॉन मेदेकल लेकर जीव विज्ञान को एक्स्ट्रा विषय के रूप में चुन सकते हैं। हालाँकि कुछ BNYS कॉलेज नॉन मेडिकल लिए छात्रों को भी इसमें प्रवेश दे देते हैं।

बारहवीं में लाये 45 प्रतिशत से अधिक अंक

यदि आप चाहते हैं कि आपका चयन अच्छे BNYS कॉलेज में हो तो आपको न्यूनतम 45 प्रतिशत अंक तो लाने ही होंगे। यदि आप 45 प्रतिशत से कम अंक लायेंगे तो आप अधिकांश BNYS कॉलेज में प्रवेश नही ले पाएंगे। इसी के साथ आप अपनी बारहवीं कक्षा में जितने ज्यादा अंक लेकर आएंगे आपका उतने ही अच्छे BNYS कॉलेज में प्रवेश लेने की संभावना बढ़ जाएगी।

नीट की परीक्षा दे

हालाँकि BNYS कोर्स करने के लिए या BNYS कॉलेज में प्रवेश लेने के लिए नीट की परीक्षा आयोजित नही करवाई जाती हैं और यह डॉक्टर के अन्य कोर्स से संबंधित परीक्षा होती हैं। फिर भी कई BNYS कॉलेज नीट में आये नंबर के आधार पर भी BNYS कोर्स में प्रवेश देते हैं या फिर अच्छे अंक लाने वाले छात्रों को उसमे वरीयता देते हैं। ऐसे में यदि आप नीट की परीक्षा देकर उसमे अच्छे अंक ले आते हैं तो आपके अच्छे BNYS कॉलेज में प्रवेश लेने की संभावना बढ़ जाएगी।

BNYS कोर्स कैसे करें? (BNYS kaise kare)

अब यदि आपने अपनी बारहवीं मेडिकल से कर ली हैं तो अब हम जानेंगे कि आप BNYS कोर्स को कैसे कर सकते हैं। दरअसल यदि आप BNYS कोर्स को करना चाहते हैं या फिर BNYS कॉलेज में प्रवेश लेना चाहते हैं तो उसके लिए भी एक प्रक्रिया हैं। आइए जाने आपका BNYS कॉलेज में कैसे प्रवेश हो सकता हैं।

  • BNYS कॉलेज में प्रवेश लेने के लिए बहुत से कॉलेज आपके बारहवीं में आये अंकों को आधार बनायेंगे। इस तरह से यदि आप बारहवीं में मेरिट लेकर आते हैं या अच्छे प्रतिशत लेकर आते हैं तो आपका उसी के आधार पर ही BNYS कॉलेज में प्रवेश हो जाएगा। इसके लिए आपको कुछ अलग से नही करना पड़ेगा।
  • बहुत से BNYS कॉलेज केवल बारहवीं के अंकों को आधार ना मानकर बल्कि बारहवीं में जीव विज्ञान के विषय में आये अंकों को आधार मानते हैं। ऐसे में यदि आपके बारहवीं में कम नंबर भी आये हैं लेकिन यदि आप जीव विज्ञान के विषय में अच्छे अंक लेकर आये हैं तो भी आपका BNYS कॉलेज में प्रवेश हो जाएगा।
  • जैसा कि हम ने आपको ऊपर ही बताया कि यदि आप BNYS कॉलेज में प्रवेश लेने से पहले नीट की परीक्षा दे देंगे और उसमे अच्छे नंबर ले आएंगे तो इससे आपकी ही सहायता होगी। तो यदि आपके नीट की परीक्षा में अच्छे अंक आये हैं तो भी आपको कई BNYS कॉलेज में प्रवेश मिल जाएगा।
  • कुछ कॉलेज के द्वारा BNYS कॉलेज में छात्रों को प्रवेश देने के लिए अपनी ओर से परीक्षा आयोजित करवाई जाती हैं। यह परीक्षा कॉलेज के स्तर पर ही आयोजित करवाई जाती हैं। उस परीक्षा में मिले अंकों के आधार पर ही छात्रों का BNYS के कोर्स में प्रवेश लिया जाता हैं।
  • कुछ कुछ कॉलेज केवल साक्षात्कार के जरये ही छात्रों का चयन BNYS कोर्स के लिए करते हैं। इसके लिए आपको बस साक्षात्कार के लिए बुलाया जाएगा और आपसे आपकी पढ़ाई से संबंधित प्रश्न पूछे जाएंगे। इसमें सही उत्तर मिलने पर आपको BNYS कॉलेज में प्रवेश मिल जाएगा।

BNYS कॉलेज में आवेदन प्रक्रिया (BNYS ka registration kaise kare)

अब आपकी शंका होगी कि BNYS कॉलेज में प्रवेश लेने के लिए चयन प्रक्रिया तो यह हैं ही लेकिन आप उसके लिए आवेदन कैसे करेंगे। तो आइए उसके बारे में भी जान लेते हैं। इसके लिए आपको नीचे दिए गए चरणों का पालन करना होगा।

  • सबसे पहले आप जिस भी BNYS कॉलेज में प्रवेश लेना चाहते हैं उसका चयन करें।
  • अब इंटरनेट पर जाकर उस कॉलेज का नाम सर्च करें और उसकी वेबसाइट पर जाए।
  • वहां आपको कॉलेज में BNYS कॉलेज में प्रवेश लेने के लिए लिंक मिल जाएगा या फिर सामान्य प्रवेश का लिंक मिल जाएगा।
  • आपको वहां लिंक पर क्लिक करना हैं और फिर एक नया पेज खुल जाएगा।
  • यहाँ पर आपसे आपकी निजी जानकारी के साथ साथ आपकी पढ़ाई से संबंधित जानकारी मांगी जा सकती हैं। इसलिए जो जो भी माँगा जाये उसे भर दे।
  • उसके बाद कुछ दिनों में आपको कॉलेज से एक ओहोने आएगा और आपसे कुछ प्रश्न पूछे जाएंगे।
  • फिर आपको कॉलेज में बुलाया जाएगा ताकि आमने सामने बैठकर बातचीत की जा सके।
  • अंत में जब आपका चयन हो जाएगा तब आपसे एडमिशन की फीस व अन्य फीस जमा करने को कहा जाएगा।
  • जैसे ही आप इसे भर देंगे तो आपका उस कॉलेज में BNYS कोर्स में प्रवेश हो जाएगा।

BNYS कोर्स की अवधि (BNYS course duration)

अब जब आप BNYS कोर्स में प्रवेश ले लेंगे तो आपका अगला प्रश्न होगा कि इसे करने में कितना समय लगेगा। तो आपको बता दे कि BNYS कोर्स को करने की कुल अवधि 5.5 वर्ष होती हैं।

इस दौरान आपको 4.5 वर्ष की पढ़ाई करनी होगी और BNYS कोर्स से संबंधित विभिन्न विषयों को पढ़ना होगा। फिर अंत में एक वर्ष के लिए आपकी ट्रेनिंग होगी जिसमें रोगी का उपचार करना सिखाया जाएगा। इस तरह BNYS कोर्स को करने में आपका 5.5 वर्ष का समय लग जाएगा।

BNYS कोर्स का सिलेबस (BNYS course syllabus)

अब आप यह सोच रहे होंगे कि BNYS कोर्स के 4.5 वर्ष की पढ़ाई में आपको किन किन विषयों के बारे में पढ़ाया जाएगा या फिर BNYS कोर्स का सिलेबस क्या हैं। तो आइए जाने BNYS कोर्स में किन किन विषयों को पढ़ाया जाता हैं।

  • पैथोलॉजी [pathology]
  • योग के नियम [rules of yoga]
  • अस्पताल प्रबंधन [hospital management]
  • बायोकेमिस्ट्री [biochemistry]
  • योग थैरेपी [yoga therapy]
  • फास्टिंग व डाइट थैरेपी [fasting and diet therapy]
  • फिजिकल कल्चर [physical culture]
  • ह्यूमन फिजियोलॉजी [human physiology]
  • ह्यूमन एनाटॉमी [Human Anatomy]
  • कलर व मैग्नेटो थैरेपी [color and magneto therapy]
  • कम्युनिटी मेडिसिन [community medicine]
  • फिजिकल मेडिसिन [physical medicine]
  • रिहैबिलिटेशन [Rehabilitation]
  • ऑब्सटेट्रिक्स [obstetrics]
  • गाइनेकोलॉजी इत्यादि। [Gynecology and so on.]

इस तरह से आपको योग व प्राकृतिक चिकित्सा से संबंधित कई विषय BNYS कोर्स में पढ़ने को मिलेंगे। इन्हें पढ़कर आप किसी भी व्यक्ति का प्राकृतिक तरीके से उपचार करने में सक्षम होंगे।

BNYS कोर्स करने के फीस (BNYS ki fees kitni hai)

यदि आप BNYS कोर्स को करने की फीस की की जाए तो यह ज्यादा नही होती हैं। यदि आप सोच रहे हैं कि इसमें MBBS की तरह 40-50 लाख का खर्चा हो जाता हैं तो आप गलत हैं। यदि आप BNYS कोर्स को किस  सरकारी कॉलेज से करेंगे तो आपकी बहुत कम फीस लगेगी जबकि प्राइवेट में यह कुछ ज्यादा होगी।

सरकारी कॉलेज में BNYS कोर्स की फीस 1 लाख से लेकर 3 लाख तक की होगी जबकि प्राइवेट कॉलेज में यह फीस 3 लाख से लेकर 10 लाख तक की होगी। हालाँकि यह संपूर्ण रूप से आपके द्वारा चुने गए कॉलेज, शहर इत्यादि कई कारकों पर निर्भर करेगा।

भारत में BNYS कोर्स करने के लिए बेस्ट कॉलेज (BNYS best colleges in India)

यदि आप भारत में BNYS के बेस्ट कॉलेज देख रहे हैं तो आइए उनके नाम भी जान लेते हैं।

  • अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान AIIMS, दिल्ली [All India Institute of Medical Sciences AIIMS, Delhi]
  • बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी, बनारस [Banaras Hindu University, Banaras]
  • पंडित दीनदयाल उपाध्याय यूनिवर्सिटी, रायपुर [Pandit Deendayal Upadhyay University, Raipur]
  • मोराजी देसाई इंस्टीट्यूट ऑफ नेचुरोपैथी एंड योग, बड़ोदरा [Moraji Desai Institute of Naturopathy and Yoga, Vadodara]
  • शिवराज नेचुरोपैथी एंड योग कॉलेज, चेन्नई [Shivraj Naturopathy and Yoga College, Chennai]
  • डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन राजस्थान आयुर्वेद विश्वविद्यालय, जोधपुर [Dr. Sarvepalli Radhakrishnan Rajasthan Ayurved University, Jodhpur]
  • एन टी आर यूनिवर्सिटी, विजयवाड़ा [NTR University, Vijayawada]
  • SRK मेडिकल कॉलेज ऑफ नेचुरोपैथी एंड योग, भोपाल [SRK Medical College of Naturopathy and Yoga, Bhopal]
  • जेएसएस इंस्टीट्यूट ऑफ नेचुरोपैथी एंड योगिक साइंसेज, नीलगिरी [JSS Institute of Naturopathy and Yogic Sciences, Nilgiris]
  • स्वामी विवेकानंद योग संस्थान, बैंगलोर [Swami Vivekananda Yoga Institute, Bangalore]
  • SDM कॉलेज ऑफ नेचुरोपैथी एंड योग साइंस, कर्नाटक [SDM College of Naturopathy and Yoga Science, Karnataka]

BNYS कोर्स करने के बाद क्या करें (BNYS ke baad kya kare)

यदि आप BNYS कोर्स को करने के बाद उसमे उच्च स्नातक या पोस्ट ग्रेजुएशन की डिग्री लेना चाहते हैं तो आइए उसके बारे में भी जाने। दरअसल BNYS कोर्स करने के बाद आपके पास मास्टरी करने के लिए कई तरह के कोर्स होंगे जिनमे से आप किसी को भी चुन सकते हैं। इनके नाम हैं:

  • MA योग [MA Yoga]
  • M.Sc योग [M.Sc Yoga]
  • M.Sc योग व मैनेजमेंट [M.Sc Yoga & Management]
  • MBA हेल्थ केयर मैनेजमेंट [MBA Health Care Management]
  • MBA हॉस्पिटल मैनेजमेंट [MBA Hospital Management]
  • MD नेचुरोपैथी मेडिसिन [MD Naturopathy Medicine]
  • MD योग व Rehabilitation [MD Yoga and Rehabilitation]

BNYS कोर्स में करियर व नौकरी के विकल्प (BNYS career options)

अब यदि आपने 5.5 वर्ष का BNYS कोर्स कर लिया हैं तो आप सोच रहे होंगे कि आप उसके बाद क्या करेंगे। दरअसल अब आप BNYS डॉक्टर बन चुके हैं और अब आपको भारत के किसी भी बड़े अस्पताल में नौकरी मिल सकती हैं। आजकल लोगों में योग के प्रति बढ़ते क्रेज को देखकर चीते से लेकर बड़े अस्पताल अपने यहाँ BNYS डॉक्टर को रखने लगे हैं और उन्हें अच्छा खासा वेतन भी देने लगे हैं।

ऐसे में आप भारत के किसी भी अस्पताल में नौकरी के लिए आवेदन कर सकते हैं। इसके साथ ही आप अपना खुद का क्लिनिक भी खोल सकते हैं और वहां लोगों का प्राकृतिक तरीके से उपचार करना प्रारंभ कर सकते हैं। इसमें आप अपना करियर इन चीजों में अपना सकते हैं। कहने का अर्थ यह हुआ कि आप BNYS की डिग्री करके अपने करियर को इन उपचार क्रिया में आयाम दे सकते हैं।

  • योग प्रशिक्षक
  • पैरा-क्लिनिकल एक्सपर्ट
  • आयुर्वेद सलाहकार 
  • प्राकृतिक चिकित्सक
  • योग थेरेपिस्ट
  • आयुष प्रैक्टिशनर
  • रिसर्चर
  • आयुष प्रोफेसर
  • पोषण और आहार विशेषज्ञ

BNYS डॉक्टर की सैलरी (BNYS doctor salary in India)

अब जब आप BNYS डॉक्टर का कोर्स करेंगे और इसमें डॉक्टर बन भी जाएंगे तो आपके मन में यह भी जानने की जिज्ञासा होगी कि आखिरकार एक BNYS डॉक्टर कमा कितना लेता हैं। दरअसल यह पूर्ण रूप से उसे मिली नौकरी, स्थान व काम पर निर्भर करता हैं। इसी के साथ साथ आपने अपनी BNYS के दौरान पढ़ाई किस कॉलेज से की हैं और आपके उसमे कितने अंक आये हैं, इस पर भी निर्भर करती हैं।

सामान्यतया एक BNYS डॉक्टर महीने का 1 लाख के आसपास कमा लेता हैं। हालाँकि बढ़ते अनुभव के साथ वह महीने का 5 से 6 लाख भी कमाना शुरू कर सकता हैं। इसलिए यह पूर्ण रूप से व्यक्ति के द्वारा किये जा रहे उपचार और उसको मिले अवसर पर निर्भर करता हैं।

BNYS कोर्स क्या है – Related FAQs

प्रश्न: क्या BNYS डॉक्टर आयुर्वेदिक दवा का अभ्यास कर सकते हैं?

उत्तर: हां, BNYS डॉक्टर आयुर्वेदिक दवा का अभ्यास कर सकते हैं।

प्रश्न: बीएनवाईएस फुल फॉर्म क्या है?

उत्तर: बीएनवाईएस फुल फॉर्म  बैचलर ऑफ नेचुरोपैथी एंड योगिक साइंसेज है।

प्रश्न: BNYS कोर्स कैसे ज्वाइन करें?

उत्तर: BNYS कोर्स से जुड़ने के लिए आपको पहले बारहवीं मेडिकल में पास करनी होगी और उसके बाद किसी भी BNYS कॉलेज में आवेदन करना होगा।

प्रश्न: क्या बीएनवाईएस एक अच्छा कोर्स है?

उत्तर: आज के समय में योग व प्राकृतिक तरीके से उपचार करने की लोकप्रियता तेजी से बढ़ी हैं और इसके अनुसार बीएनवाईएस एक अच्छा कोर्स है।

प्रश्न: आयुष डॉक्टर क्या होता है?

उत्तर: आयुष डॉक्टर BNYS कोर्स किया हुआ डॉक्टर होता है जो व्यक्तियों का प्राकृतिक व योगिक तरीके से उपचार करता है।

Contents show
Spread the love:

Leave a Comment