बीएलओ क्या है? बीएलओ कैसे बनते है? BLO Kaise Bane?

BLO kaise bane, भारत एक लोकतांत्रिक देश हैं और यहाँ हर क्षेत्र में समय समय पर चुनाव होते रहते हैं। जैसे कि प्रधानमंत्री के चुनाव या मुख्यमंत्री के या नगर पालिका के या किसी अन्य क्षेत्र के चुनाव। ऐसे में इन चुनावो को संपन्न करवाना (BLO kya hota h) निर्वाचन आयोग का काम होता हैं। अब वही निर्वाचन आयोग चुनावी प्रक्रिया को बनाता हैं और चुनाव (BLO kaise bante hai) करवाता हैं।

ऐसे में जब किसी क्षेत्र में चुनाव होते हैं तो उस चुनाव आयोग को चुनाव संपन्न करवाने के लिए कुछ व्यक्तियों की आवश्यकता होती हैं। ऐसे में वह चुनाव (How to become BLO officer in Hindi) आयोग जिन व्यक्तियों को चुनाव संपन्न करवाने के लिए रखता हैं उन्हें बीएलओ कहा जाता हैं। ऐसे में यदि आप भी भारत की चुनावी प्रक्रिया में एक भाग बनना चाहते हैं तो आप भी बीएलओ बनने के लिए आवेदन दे (BLO kya hota hai) सकते हैं। आइए जाने बीएलओ क्या हैं और बीएलओ कैसे बने।

बीएलओ क्या है और कैसे बनते है (BLO kaise bane)

यदि अप भी बीएलओ बनने के इच्छुक है और बीएलओ बनने के लिए क्या करना पड़ता है तथा इसकी क्या प्रक्रिया है इत्यादि के बारे में विस्तार से जानना चाहते हैं तो आज हम आपको बीएलओ के बारे में शुरू से लेकर अंत तक संपूर्ण जानकारी देंगे।

आज के इस लेख में आपको बीएलओ का काम, उसका पूरा नाम, उसकी नियुक्ति, उसको मिलने वाला वेतन तथा अन्य आवश्यक बातों के बारे में जानने को मिलेगा। आइए इन्हें क्रमानुसार जाने।

बीएलओ क्या है और कैसे बनते है? BLO Kaise Bane?

बीएलओ क्या है (BLO kya hota h)

भारत जैसे देश में समय समय पर कई तरह के चुनाव होते हैं। इन चुनावो के द्वारा ही हम अपने जनप्रतिनिधि को चुनते हैं। अब वे चुनाव चाहे जिला स्तर पर हो रहे हो या शहरी हो या गाँव के चुनाव। उन सभी चुनाव को संपन्न करवाना एक चुनाव आयोग या निर्वाचन आयोग का काम होता है। इनमे से जो चुनाव भारत में होते हैं वे हैं:

  • राष्ट्रीय स्तर पर सांसद के चुनाव व उनके द्वारा प्रधानमंत्री का बनना
  • राज्य स्तर पर विधायक के चुनाव व उनके द्वारा मुख्यमंत्री का चुनना
  • जिला स्तर पर पार्षदों के चुनाव व उनके द्वारा सभापति को चुनना
  • जिला या शहर या कस्बे के स्तर पर नगर परिषद, नगर पालिका व नगर निगम के चुनाव
  • गाँव के स्तर पर पंचों के चुनाव व उनके द्वारा सरपंच का चुनना

इस तरह से भारत देश के हर राज्य, जिले व क्षेत्र में इन चुनाव को करवाने का उत्तर दायित्व भारत के चुनाव आयोग के पास (BLO kon hota h) होता है। इन चुनावों में जो भी प्रतिनिधि खड़ा होता है उसे पहले चुनाव आयोग में अपना नामांकन करना होता हैं और उसके बाद ही वह चुनाव लड़ सकता हैं।

ऐसे में चुनाव आयोग अपना काम करवाने के लिए परमानेंट लोगों को तो रखता ही हैं लेकिन जब चुनाव आते हैं तब उसे ज्यादा व्यक्तियों की (BLO ka matlab kya hai) आवश्यकता होती हैं। ऐसा इसलिए क्योंकि चुनाव एक वृहत प्रक्रिया है जिसे सफलतापूर्वक करवाने के लिए किसी व्यक्ति की आवश्यकता होती हैं। ऐसे में चुनाव आयोग के द्वारा बीएलओ की नियुक्ति की जाती हैं।

बीएलओ पूर्ण रूप से चुनाव आयोग के कर्मचारी नही होते हैं किंतु समय समय पर उन्हें चुनाव आयोग के द्वारा दिया गया काम करना होता हैं। मुख्यतया चुनाव के समय इनकी ड्यूटी चुनाव के क्षेत्र में लगती हैं। ऐसे में आइये जाने इनके काम व अन्य चीजों के बारे में जानकारी।

बीएलओ का फुल फॉर्म (BLO ka full form)

अभी तक आपने बीएलओ क्या होता है यह तो जान लिया लेकिन उसे कहते क्या है अर्थात बीएलओ की फुल फॉर्म क्या है यह नही जान पाए होंगे। ऐसे में हम आपो बता दे कि बीएलओ का पूरा नाम बूथ लेवल ऑफिसर (Booth Level Officer) होता है। यदि हिंदी में बीएलओ का नाम कहा जाए तो उसे बूथ स्तर अधिकारी के नाम से जाना (Booth level officer meaning in Hindi) जाएगा।

एक तरह से अब आप बीएलओ के बारे में और अधिक जान गए होंगे। दरअसल भारत में जहाँ भी चुनाव होते हैं तो वहां पर निर्वाचन (BLO in Hindi) आयोग अलग अलग बूथ की व्यवस्था करता हैं। यह बूथ उस क्षेत्र की जनसंख्या व सवेंदंशीलता के आधार पर तय किये जाते हैं। ऐसे में उस बूथ पर एक मतदाता सूची या एक सीमित क्षेत्र के लोग ही मतदान कर सकते हैं।

अब हर बूथ पर चुनाव आयोग के द्वारा एक अधिकारी की नियुक्ति की जाती हैं और उस अधिकारी को उस बूथ का अधिकारी कहते हैं। इसलिए बीएलओ को बूथ स्तर अधिकारी या बूथ लेवल ऑफिसर के नाम से जाना जाता है।

बीएलओ कैसे बनते है (BLO kaise bante hai)

अब आपके मन में यह जानने की जिज्ञासा हो रही होगी कि आखिरकार एक बीएलओ की नौकरी कैसे की जाए। तो आज हम आपको बता दे कि यदि आप सरकारी या अर्ध सरकारी नौकरी नही करते हैं तो आप बीएलओ की नौकरी नही कर सकते हैं।

कहने का अर्थ यह हुआ कि बीएलओ की नौकरी केवल वही व्यक्ति कर सकता हैं जो किसी सरकारी नौकरी में हो या अर्ध सरकारी नौकरी में हो। यदि आप किसी प्राइवेट नौकरी में हैं या कुछ नही करते हैं तो आप बीएलओ की नौकरी नही कर पाएंगे। आइए इसके बारे में विस्तार से जाने।

बीएलओ बनने के लिए योग्यता (BLO ki yogyata)

यदि आप बीएलओ बनने के लिए आवेदन करने जा रहे हैं तो आपको बीएलओ बनने की योग्यता के बारे में भी पता होना चाहिए ताकि बाद में कोई समस्या ना हो। आइए जाने कि आप बीएलओ कैसे बन सकते हैं और उसके लिए आपके अंदर क्या क्या योग्यताएं होनी चाहिए।

  • यदि आप बीएलओ की नौकरी करना चाहते हैं तो सबसे पहले तो यह जन ले कि आपका किसी सरकारी या अर्ध सरकारी नौकरी में होना आवश्यक हैं।
  • इसके साथ ही आपका सरकारी नौकरी में तृतीया श्रेणी का अधिकारी होना आवश्यक हैं। कहने का अर्थ यह हुआ कि यदि आप सरकारी नौकरी में ग्रुप डी की नौकरी करते हैं तो आप बीएलओ ऑफिसर नही बन सकते हैं।
  • आप जिस भी क्षेत्र में बीएलओ के लिए आवेदन कर रहे हैं, आप वहां के ही निवासी होने चाहिए या फिर वहां के आसपास के क्षेत्र के निवासी होने चाहिए। कहने का अर्थ यह हुआ कि आपके निवास शहर के अलावा आपको किसी अन्य राज्य या शहर में बीएलओ की नौकरी नही मिलेगी।
  • बीएलओ में काम करने के लिए आपकी न्यूतम आयु 21 वर्ष होनी चाहिए। यदि आप 21 वर्ष से कम आयु के हैं और फिर भी कोई सरकारी नौकरी करते हैं तो भी आपको बीएलओ में नौकरी नही मिलेगी। साथ ही बीएलओ में काम करने के लिए अधिकतम आयु की कोई सीमा नही हैं।
  • बीएलओ में काम करने के लिए आपका अपने यहाँ की मतदाता सूची में नाम भी होना चाहिए। यह एक बहुत ही आवश्यक चीज़ है क्योंकि यदि आपका मतदाता सूची में नाम ही नही हैं तो फिर आप किसी भी स्थिति में बीएलओ नही बन सकते हैं।

तो यह थी कुछ बातें या योग्यताएं जो एक बीएलओ बनने के लिए अनिवार्य हैं। इसलिए यदि आप इनमे से किसी एक में भी मात खा जाते हैं तो फिर आप बीएलओ की नौकरी के लिए आवेदन नही कर सकते हैं। आइए अब जानते हैं कि बीएलओ बनने केलिए कैसे आवेदन करें।

बीएलओ बनने के लिए आवेदन (BLO banne ke liye kya karna padta hai)

यदि आप बीएलओ बनने के इच्छुक हैं तो इसके लिए आपको भारतीय निर्वाचन आयोग या चुनाव आयोग की वेबसाइट पर जाना होगा। चुनाव आयोग की वेबसाइट का लिंक https://hindi.eci.gov.in/ है। यहाँ पर आपको बीएलओ के लिए आई अधिसूचना को पढ़ना होगा। आइए जाने चरण दर चरण प्रक्रिया के बारे में।

  • सबसे पहले भारतीय चुनाव आयोग की वेबसाइट https://eci.gov.in/ पर जाए।
  • अब वहां पर जाकर अपने राज्य का चुनाव करे। अपने राज्य को चुनते ही आपके राज्य से संबंधित चुनाव आयोग की वेबसाइट खुल जाएगी।
बीएलओ क्या है और कैसे बनते है? BLO Kaise Bane?
  • अब आप वहां पर अपनी मातृभाषा का चुनाव करें ताकि आप जानकारी को अच्छे से पढ़ सके।
  • वहां आपको अपने जिले या नगर में बीएलओ के लिए मांगे गए आवेदन प्रक्रिया को देखना होगा। यदि आपके क्षेत्र में बीएलओ की भर्ती हो रही हैं तो आप उस सूचना को क्लिक कर खोले।
  • अब वहां आपसे कुछ जानकारी मांगी जाएगी जैसे कि आपका नाम, फोन नंबर, ईमेल आईडी, घर का पता, काम करने की जानकारी व अन्य आवश्यक जानकारी। आप इन सभी को भर दे।
  • इसके बाद चुनाव आयोग के अधिकारी ले द्वारा आपको संपर्क किया जाएगा। वह आपस कुछ प्रश्न पूछेगा और आपके काम के बारे में जानेगा।
  • फिर आपका सत्यापन करने के पश्चात आपको बीएलओ के पड़ पर नियुक्त कर दिया जाएगा।
  • बीएलओ बनने के बाद आपको ट्रेनिंग दी जाएगी ताकि आप अपना काम सुचारू रूप से कर सके।

बीएलओ के काम (BLO ke karya)

अब जब आप बीएलओ बन जाएंगे तो आपको यह बझी जानना चाहिए कि बीएलओ के क्या क्या काम होते हैं और उसे क्या क्या करना (BLO work in Hindi) पड़ता हैं। दरअसल चुनाव प्रक्रिया से लेकर अपने बूथ के क्षेत्र में आने वाले लोगों के बारे में हर जानकारी को सही रखना या करना एक बीएलओ स्तर के अधिकारी का कार्य होता हैं। आइए इन्हें विस्तार से जाने।

  • अपने बूथ में आने वाले सभी मतदाताओं का रिकॉर्ड रखना और उन्हें समय समय पर अपडेट करते रहना।
  • यदि आपके बूथ क्षेत्र में किसी व्यक्ति की मृत्यु हो चुकी हैं तो उसका मृत्यु प्रमाण पत्र देखकर उसका नाम मतदाता सूची से हटा देना।
  • यदि आपके बूथ स्तर का व्यक्ति कहीं ओर चला गया हैं और उसने वहां की मतदाता सूची में नाम जुड़वा लिया हैं तो उसका भी नाम मतदाता सूची से हटा देना।
  • आपके बूथ में जो भी व्यक्ति 18 वर्ष के हो गए है उनके वोटर कार्ड बनाना और उनके नाम मतदाता सूची में जोड़ना।
  • यदि किसी का नाम मतदाता सूची से गलती से हट गया हैं तो उसे पुनः जोड़ना।
  • मतदाता सूची में यदि किसी मतदाता के नाम या अन्य जानकारी में कोई समस्या हैं तो उसे ठीक करवाना।
  • चुनाव के समय घर घर जाकर मतदान के लिए लोगों को जागरूक करना।
  • चुनावी प्रक्रिया के रूप में हर घर में लोगों को उनके नाम का चुनाव पत्र देना और उन्हें चुनाव देने के लिए आमंत्रित करना।
  • लोगों की चुनाव से संबंधित किसी भी शंका का समाधान करना।
  • चुनाव के समय उसकी सुरक्षा का आंकलन करना।
  • चुनाव अधिकारियों के साथ समनव्य स्थापित करना और उन्हें सब जानकारी देना।
  • चुनाव के समय सब व्यवस्था को देखना और विधि पूर्वक चुनाव संपन्न करवाना।

इस तरह एक बीएलओ के पास अपने बूथ के क्षेत्र में आने वाले सभी मतदाताओं की सूची बनाना, उनका सही रिकॉर्ड रखना, समय समय पर उनके रिकॉर्ड को अपडेट करना और चुनाव की प्रक्रिया को पूरा करवाने का काम होता है।

बीएलओ के लिए कौन आवेदन कर सकता हैं (BLO kon hote hai)

अब आपके मन में यह शंका भी होगी कि आखिरकार एक बीएलओ के लिए किस तरह का सरकारी कर्मचारी आवेदन कर सकता हैं या फिर उसका किस पोस्ट या पद पर होना आवश्यक होता हैं। ऐसे में आइए जाने कि बीएलओ बनने के लिए किस सरकारी पड़ पर होना (BLO kon hota hai) अनिवार्य होता हैं या फिर आप किस [पद पर रहकर बीएलओ के लिए आवेदन कर सकते हैं।

  • सरकारी या अर्ध सरकारी विद्यालय के शिक्षक
  • लिपिक अधिकारी
  • बिजली विभाग के अधिकारी
  • बीएसएनएल के अधिकारी
  • डाक विभाग के अधिकारी
  • ग्राम स्तर के अधिकारी जैसे कि सचिव या पटवारी
  • लेखपाल
  • आंगनबाड़ी कार्यकर्ता
  • सरकारी नर्स या सहायक नर्स
  • संविदा शिक्षक
  • नगर पालिका या नगर परिषद के अधिकारी
  • अन्य किसी भी सरकारी या अर्ध सरकारी क्षेत्र में काम करने वाले अधिकारी।

एक तरह से यदि आपके पास सरकारी या अर्ध सरकारी नौकरी हैं तो आप बीएलओ के पड़ के लिए आवेदन कर सकते हैं। उसके बाद आपको सब जानकारी स्वतः ही दे दी जाएगी।

बीएलओ का वेतन (BLO ki salary kitni hoti hai)

अब सबसे अंतिम और मुख्य बात और वो हैं कि बीएलओ कितना कमा लेते हैं या फिर एक बीएलओ की सैलरी क्या होती हैं। तो आपको बता कि एक बीएलओ को प्रति माह साढ़े सात हज़ार रुपए का वेतन मिलता हैं। वैसे यह 7500 का वेतन उनके काम के अनुसार ठीक रहता हैं लेकिन आजकल इसके विरुद्ध आवाज उठने लगी हैं। ऐसे में बीएलओ अधिकारी अपने प्रति माह के वेतन में बढ़ोत्तरी की मांग कर रहे हैं।

बीएलओ कैसे बने – Related FAQs

प्रश्न: भारत में बीएलओ किसके पंजीकरण के लिए कार्य करता है

उत्तर: भारत में बीएलओ मतदाताओं के पंजीकरण के लिए कार्य करता है।

प्रश्न: चुनाव आयोग में blo की नियुक्ति के लिए दिशा-निर्देश क्या है

उत्तर: चुनाव आयोग में blo की नियुक्ति के लिए दिए गए दिशा निर्देशों के अनुसार उसका किसी सरकारी या अर्ध सरकारी नौकरी में कार्यरत होना आवश्यक है।

प्रश्न: क्या भारत का एक गैर-नागरिक मतदाता बन सकता है

उत्तर: भारत का एक गैर-नागरिक यहाँ का मतदाता नही बन सकता है, उसके लिए उसे पहले भारत की नागरिकता लेनी होगी।

तो आज के इस लेख में आपने जाना कि एक बूथ लेवल ऑफिसर का क्या काम होता है, बूथ स्तर अधिकारी बनने के लिए क्या क्या करना पड़ता है, बीएलओ को हिंदी में क्या कहते है (Booth level officer kya hai), बीएलओ के लिए कौन कौन आवेदन कर सकता है, उसकी चयन प्रक्रिया क्या है इत्यादि।

Leave a Comment

सवर्ण 10% आरक्षण लाभ कैसे मिलेगा ? मोबाइल से Slow Motion Video कैसे बनाए? दिल्ली रोजगार बाजार पोर्टल ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन आत्मनिर्भर कृषक समन्वित विकास योजना 2023 मुख्यमंत्री बालक बालिका प्रोत्साहन योजना 2023 ऑनलाइन आवेदन