बिंदी बनाने का बिजनेस कैसे शुरू करें? बिंदी बनाने की लागत, विधि और कमाई (Bindi making business in Hindi)

Bindi making business in Hindi, यदि आप बिंदी बनाने के बिज़नेस के ऊपर सब जानकारी लेना चाहते हैं तो आज हम आपके साथ वही साँझा करेंगे। दरअसल भारत देश में बिंदी महिलाओं का एक (Bindi banane ka business) ऐसा आभूषण हैं जो हर विवाहित महिला के माथे पर प्रमुखता से दिखाई देती हैं। अब तो अविवाहित महिलाओं में भी बिंदी लगाने का चलन (Bindi making business at home) चल पड़ा हैं। ऐसे में बिंदी बनाने का बिज़नेस शुरू करना हर किसी के लिए बहुत ही लाभदायक हो सकता हैं।

यदि आप भी बिंदी बनाने का बिज़नेस शुरू करने के बारे में सोच रहे हैं तो आज हम आपके साथ बिंदी बनाने के ऊपर संपूर्ण जानकारी साँझा करने वाले हैं। इसे पढ़कर (Bindi banane ka tarika) आप जान पाएंगे कि आखिरकार किन तरीको का पालन करके आप बिंदी बनाने के बिज़नेस को शुरू कर उसमे आगे बढ़ सकते हैं और एक अच्छी खासी कमाई करना शुरू कर सकते (Bindi ka business kaise shuru kare) हैं। आइए जाने बिंदी बनाने का बिज़नेस कैसे शुरू करें।

बिंदी बनाने के बिज़नेस के बारे में जानकारी (Bindi making business in Hindi)

जब यदि आप बिंदी बनाने का बिज़नेस शुरू करने जा रहे हैं तो आपको यह भी पता होना चाहिए कि आखिरकार यह बिंदी चीज़ क्या है। दरअसल विवाहित भारतीय महिलाओं के द्वारा कई तरह के किये जाने वाले सजने संवरने के सामान में बिंदी का प्रमुख स्थान है। एक विवाहित महिला की बिंदी ही सबसे बड़ी पहचान होती हैं जो उसके माथे के एक दम बीच में दोनों बौहों से सामान दूरी पर लगती हैं।

बिंदी बनाने का बिजनेस कैसे शुरू करें बिंदी बनाने की लागत विधि और कमाई Bindi making business in Hindi

यह बिंदी कई आकार में हो सकती हैं जैसे कि गोल, लंबी, तिरछी या अन्य कोई आकार। आजकल कई तरह के आकार की बिंदी का चलन बढ़ा है। इसलिए यदि आप भी बिंदी बनाने का बिज़नेस शुरू करने का सोच रहे हैं तो इसके लिए ज्यादा कुछ सोचने की भी आवश्यकता नही हैं। ऐसा इसलिए क्योंकि बिंदी बनाने का बिज़नेस शुरू करने के लिए ना तो ज्यादा पैसा लगता हैं र ना ही कोई अलग से जगह।

हालाँकि यह आप पर निर्भर करता हैं कि आप किस स्तर पर बिंदी बनाने का बिज़नेस शुरू करने का सोच रहे हैं। इसी के आधार पर आपका बिंदी बनाने का बिज़नेस आगे बढ़ पाएगा और आप उसमे तरक्की कर पाएंगे। इसलिए आइए एक एक करके बिंदी बनाने का बिज़नेस शुरू करने के बारे में जानकारी ले।

बिंदी बनाने का बिज़नेस प्लान बनाना (Bindi ka business kaise kare)

सबसे पहले आपको जरुरत है बिंदी बनाने के बिज़नेस का एक प्लान बनाने की। कहने का अर्थ यह हुआ कि आप एक नया बिज़नेस शुरू करने जा रहे हैं और यदि वह बिज़नेस आप बिना किसी प्लान के शुरू करेंगे तो आपको बहुत ही नुकसान झेलना पड़ सकता हैं। बिना कोई प्लान के शुरू किया गया बिज़नेस ना तो ज्यादा दिन तक चल पाता हैं और ना ही इसमें आपकी कोई लागत निकल पायेगी।

इसलिए आपको बिंदी बनाने का बिज़नेस शुरू करने से पहले एक प्लान की आवश्यकता होगी। उसी प्लान के आधार पर ही आपको आगे बढ़ना होगा और बिंदी का निर्माण करना सीखना होगा। बिंदी बनाने के बिज़नेस प्लान में आपको यह देखना होगा कि आप कैसे और किस तरीके से यह बिज़नेस शुरू करने का सोच रहे हैं, आप इसके लिए कच्चा माल और अन्य मशीन कहां से मंगवाने वाले हैं।

इसके साथ ही आप बिंदी बनाने का बिज़नेस कहां से शुरू करेंगे और इसके लिए जगह ठीक रहेगी या नही। आप बिंदी बनाने के लिए किसी को रखेंगे या खुद ही उसे बनायेंगे। इस तरह की कई बाते और पूरा प्लान तैयार करके ही आपको बिंदी बनाने का बिज़नेस शुरू करने के बारे में सोचना चाहिए और तभी आगे बढ़ना चाहिए।

बिंदी बनाने के बिज़नेस से पहले मार्किट रिसर्च

अब यदि आप बिना बाजार का आंकलन किये ही बिंदी बनाने का बिज़नेस शुरू करने जा रहे हैं तो यह भी एक बड़ी भूल साबित होगी। ऐसा इसलिए क्योंकि आजकल समय बहुत ही तेजी के साथ बदल रहा हैं। ऐसे में यदि आप समय के साथ नही चलेंगे तो फिर पीछे रह जाएंगे। कहने का अर्थ यह हुआ कि आपकी प्रतिस्पर्धा में और भी बहुत लोग होंगे और उनके द्वारा भी बिंदियों का निर्माण किया जा रहा होगा।

ऐसे में यदि आपने मार्किट का पहले से ही आंकलन नही किया और बिना उसके ही बिंदी बनाने का बिज़नेस शुरू कर दिया तो आगे चलकर आपको ही नुकसान होगा। वही यदि आपने मार्किट के बारे में पूरी रिसर्च कर ही बिंदी बनाने का बिज़नेस शुरू किया तो इससे आपका बिज़नेस बहुत ही तेज गति से आगे बढ़ेगा।

बिंदी बनाने के लिए जगह का चुनाव

अब यदि आप बिंदी बनाने का बिज़नेस शुरू करने जा रहे हैं तो उसके लिए एक सही जगह का चुनाव करना भी बहुत जरुरी होता है। बिना सही जगह के आप बिंदी बनाने का काम कहां कर पाएंगे। इसके लिए आप पहले यह देखे कि आप बिंदी बनाने का बिज़नेस किस स्तर पर शुरू करने जा रहे हैं। कहने का अर्थ यह हुआ कि बिंदी बनाने का बिज़नेस यदि बड़े स्तर पर शुरू करना है तो फिर उसके लिए जगह भी बड़ी चाहिए होगी अन्यथा छोटी सी जगह से ही काम चल जाएगा।

अब यदि आप बिंदी बनाने के बिज़नेस को छोटे स्तर पर शुरू करने जा रहे हैं तो उसके लिए तो आपके घर का एक कमरा भी बहुत है। कहने का अर्थ यह हुआ कि आप अपने घर के किसी कमरे से ही बिंदी बनाने का बिज़नेस शुरू कर सकते हैं और धीरे धीरे करके इसे आगे बढ़ा सकते हैं। ऐसे में आपका बिज़नेस तेज गति से आगे बढ़ेगा और इसमें बहुत जल्दी ही आप तरक्की करेंगे।

अब यदि आप बिंदी बनाने का बिज़नेस बड़े स्तर पर शुरू करने जा रहे हैं तो इसके लिए आपको अलग से जगह देखनी पड़ेगी। यह जगह कही भी हो सकती हैं और कैसी भी। इससे अंतर नही पड़ता। लेकिन इस जगह में बिंदी बनाने के लिए मशीन को सही जगह पर रखा जाये और उसके लिए कारीगर भी सही तरीके से काम कर सके, ऐसी व्यवस्था हो। तभी आप बिंदी बनाने के बिज़नेस को आगे बढ़ा पाएंगे।

बिंदी बनाने के लिए कच्चा माल (Bindi banane ka raw material)

अब जब आप बिंदी बनाना चाहेंगे तो उसके लिए कच्चे माल की भी आवश्यकता होगी। बिना कच्चे माल के बिंदी किस चीज़ से बना पाएंगे। इसलिए सबसे पहले बिंदी बनाने के कच्चे माल की व्यवस्था करे। इस कच्चे माल को आप अपनी जरुरत के अनुसार ही ख़रीदे। शुरुआत में ही ज्यादा सामान ना ख़रीदे क्योंकि यह व्यर्थ हो सकता है।

इसी के साथ एक तरह का ही कच्चा माल ना ख़रीदे। जैसे कि आप बिंदी बनाने के लिए कोई स्टोन ले रहे हैं तो उसे एक तरह का ही ना ले बल्कि इसमें विविधता रखे ताकि आप अलग अलग डिजाईन की बिंदी का निर्माण कर सके। इससे आपकी बिंदी की बिक्री बढ़ने में भी सहायता मिलेगी। तो बिंदी बनाने के लिए कच्चे माल में आपको इन चीज़ की आवश्यकता पड़ेगी।

  • मखमल का कपड़ा वेलवेट क्लॉथ
  • गोंद या अन्य चिपकाने वाला सामान
  • सजाने की सामग्री जैसे कि स्टोन, चमकारी, क्रिस्टल, मोती व अन्य धातु।

इस तरह आप बिंदी बनाने के लिए कई तरह की सजावटी वस्तुओं का इस्तेमाल कर सकते हैं। अब यह आप पर निर्भर करता हैं कि आप किस तरह की बिंदी का निर्माण करने जा रहे हैं और उसके लिए आपको किस तरह की सजावटी सामान की आवश्यकता पड़ेगी।

बिंदी बनाने के लिए मशीन (Bindi banane ki machine)

अब यदि आप बिंदी बनाने के लिए कच्चा माल ले लेंगे और मशीन नही लेंगे तो फिर कैसे ही काम चलेगा। कहने का अर्थ यह हुआ कि बिंदी बनाने के लिए जितनी आवश्यकता कच्चे माल की है उतनी ही मशीन की भी। इन्ही मशीन की सहायता से किसी बिंदी का अलग अलग आकार में और तरह तरह के डिजाईन में निर्माण हो पाता हैं।

हालाँकि यदि आप छोटे स्तर पर बिंदी बनाने का बिज़नेस शुरू करने जा रहे हैं तो आप बड़ी मशीन लेने की बजाए छोटी मशीन भी ले सकते हैं जिसे हाथ से चलाया जाता है। अब यह आप पर निर्भर करता हैं कि आप कितना तक का निवेश करना चाहते हैं या कर सकते हैं। बिंदी बनाने के लिए आपको इन मशीन की आवश्यकता पड़ेगी।

  • बिंदी की कटाई के लिए मशीन
  • प्रिंटिंग की मशीन
  • बिंदी चिपकाने की मशीन

अब बिंदी के निर्माण के लिए यह तीन चीज़े ही मुख्य होती हैं और आपको भी इन तीन मशीन की ही आवश्यकता पड़ेगी। हालाँकि तीसरी मशीन वाला काम आप हाथ से भी कर सकते हैं या किसी ब्रश की सहायता से भी। बाकि के दो काम के लिए आपको या तो बड़ी मशीन या फिर हाथ से चलने वाली मशीन को खरीदना होगा।

बिंदी बनाने की प्रक्रिया (Bindi banane ka tarika)

अब जब आपने बिंदी बनाने का सब माल और मशीन ले ली हैं तो बात आती हैं बिंदी के निर्माण कार्य की। दरअसल बिंदी का निर्माण करना बहुत ही सरल होता हैं और इसके लिए आपको कुछ ज्यादा मेहनत करने की भी आवश्यकता नही होती है। बिंदी की निर्माण प्रक्रिया में आपको बस मशीन का सही से उपयोग करना आना चाहिए और फिर उसके सजावट का सामान ध्यान से देखना चाहिए। आइए जाने बिंदी ककी निर्माण प्रक्रिया के बारे में।

  • बिंदी का निर्माण करने के लिए सबसे पहले तो बिंदी को मशीन की सहायता से बराबर आकार में काटे। यह बिंदी का आकार उस पर निर्भर करता हैं जिस आकार में आप बिंदी का डिजाईन बनाने का सोच रहे हैं।
  • आजकल बिंदियाँ कई तरह के आकार में बन रही हैं तो आप अलग अलग आकार में बिंदी को काटे और उसके डिजाईन तैयार करे। इसके लिए आपको मझ्मल के कपड़े को बिंदी काटने वाली मशीन में डालकर बिंदी के आकार में काटना होगा।
  • अब जब बिंदी के आकार में मखमल का कपड़ा काटा जा चुका हैं तो इसमें दूसरा चरण हैं उस पर डिजाईन करना ताकि वह सबसे अलग दिख सके। हालाँकि आप बिना डिजाईन किये भी अलग अलग रंग की बिंदी निर्माण कर सकते हैं और महिलाएं सामान्य तौर पर इन्ही बिंदियों को ही पहनती हैं।
  • हालाँकि बिंदियो में अलग अलग भान्त के डिजाईन तैयार करने के लिए आप उस पर गोटे, पत्थर, स्टोन, क्रिस्टल, चमकीली इत्यादि कई तरह की चीज़े चिपका कर उसका डिजाईन तैयार कर सकते हैं। यह आपकी बनाई बिंदी को बाकि बिंदियों से अलग रूप देगा।
  • अब जब आपने बिंदी का डिजाईन भी तैयार कर लिया हैं तो अगला चरण हैं उस बिंदी को माथे पर चिपकाने के लिए तैयार करना। कहने का अर्थ यह हुआ कि बिंदी को माथे पर चिपकाने के लिए तैयार करने को आपको उस पर गोंद या अन्य सामान लगाना पड़ेगा। यह आप या तो मशीन की सहायता से कर सकते हैं या फिर हाथ से ही कर सकते हैं।

तो इस तरह आपके द्वारा बनाई गयी बिंदियाँ तैयार हो जाएँगी। अब आप बिंदी का पैकेट डिजाईन कर उस पर अपनी कंपनी का नाम, लोगों, व अन्य चीज़े लिख सकते हैं। अब यह बिंदी बाजार में बिकने के लिए तैयार हैं।

बिंदी बनाने का डिजाईन

अब आपको बिंदी बनाते समय उसके डिजाईन को भी ध्यान में रखना चाहिए। ऐसा हम इसलिए कह रहे हैं क्योंकि आज के ज़माने में केवल एक ही तरह की या पुराने डिजाईन की बिंदियाँ ही नही चलेगी। आपको अपने बिंदी बनाने के डिजाईन में विविधता भी रखनी होगी। यह विविधता कई तरह से रखनी होगी। कहने का अर्थ यह हुआ कि डिजाईन में केवल उसका बाहरी डिजाईन ही नही आता बल्कि उसका आकार भी आता है।

ऐसे में आप केवल गोल आकार की ही बिंदी ना बनाए। आप उसे त्रिभुज, त्रिशूल, शंकुनुमा इत्यादि कई तरह के आकार दे। आप इसके बारे में ऑनलाइन भी रिसर्च कर सकते हैं या फिर बाजार जाकर देख सकते हैं कि वहां किस तरह की बिंदियाँ ज्यादा बिक रही हैं या किस तरह की बिंदी की ज्यादा मांग हैं।

इस तरह आप भी अपनी बिंदी में डिजाईन को प्राथमिकता दे। यदि आपकी बिंदी का डिजाईन महिलाओं को पसंद आएगा तो वे इसे अवश्य खरीदेंगी। इसलिए बिंदी के डिजाईन में ही उसका बिज़नेस की सफलता का राज छिपा हुआ हैं जिसे यदि आपने पहचान लिया तो समझ जाइये कि आपके बिज़नेस को आगे बढ़ने से कोई भी नही रोक पाएगा।

बिंदी बनाने के बिज़नेस की लागत

अब बात करते हैं कि बिंदी का बिज़नेस शुरू करने में आपकी लागत कितनी आ सकती हैं। दरअसल यदि आप बिंदी का बिज़नेस शुरू करने जा रहे हैं तो यह पूर्ण रूप से आप पर निर्भर करता हैं कि आप इसे किस स्तर पर शुरू करने जा रहे हैं। ऐसा हम इसलिए कह रहे हैं क्योंकि आपके द्वारा बिंदी के बिज़नेस के स्तर पर ही निर्भर करेगा कि आप कितना निवेश करने वाले हैं या उसमे कितनी लागत आएगी।

आप चाहे तो अपने घर के ही एक कमरे में छोटे स्तर पर ही बिंदी का व्यापार शरू कर सकते हैं। यदि आप छोटे स्तर पर बिंदी का बिज़नेस शुरू करने जा रहे हैं तो इसमें आपका 10 से लेकर 30 हज़ार तक का ही खर्चा आएगा। क्यों है ना सस्ता बिज़नेस। दरअसल जितनी छोटी बिंदी उतना ही कम पैसा इसमें लगता है। इसलिए आप सामान्य स्तर पर बिंदी का बिज़नेस 20 हज़ार की राशि में ही शुरू कर सकते हैं।

हालाँकि यदि आप बिंदी के बिज़नेस को बड़े स्तर पर शुरू करना चाहते हैं और इसके लिए बड़ी बड़ी मशीन लेना चाहते हैं तो इसके लिए आपको ज्यादा खर्चा करने की आवश्यकता हैं। ऐसे में आपको अपनी जेब से 1 से 2 लाख तक का खर्चा करना पड़ेगा। ऐसा इसलिए क्योंकि बिंदी बनाने की मशीन थोड़ी महँगी आएगी लेकिन उनमे कई तरह की बिंदी बनाने के डिजाईन होंगे।

बिंदी बनाने के बिज़नेस के लिए लाइसेंस

अब यदि आप बिंदी बनाने का बिज़नेस शुरू करने जा रहे हैं तो उसके लिए लाइसेंस भी लेकर रखने होंगे। कहने का अर्थ यह हुआ कि आप बिना कंपनी को रजिस्टर करवाए किसी चीज़ का निर्माण करना शुरू नही कर सकते हैं। इसके लिए पहले भारत सरकार के द्वारा कई तरह के लाइसेंस लेने अनिवार्य होते हैं अन्यथा आपके ऊपर कानूनी कार्यवाही तक हो सकती हैं। ऐसे में बिंदी का बिज़नेस करने के लिए आपको इन लाइसेंस को लेने की आवश्यकता पड़ेगी:

  • कंपनी के नाम का पंजीकरण
  • बिंदी बनाने की जगह का प्रमाण पत्र
  • कंपनी का ट्रेड मार्क
  • आपका पैन कार्ड
  • घर का प्रमाण पत्र

समान्यतया बिंदी बनाने के बिज़नेस में इन्ही चीजों की आवश्यकता पड़ती हैं लेकिन यदि आप बड़े स्तर पर बिंदी का व्यापार शुरू करने जा रहे हैं तो फिर आपको कुछ अन्य लाइसेंस लेने के लिए भी आवेदन करना पड़ सकता हैं।

बिंदी बनाने के बिज़नेस के लिए लोन

अब यदि आप बिंदी बनाने के बिज़नेस के लिए लोन लेना चाहते हैं तो यह भी आपको विभिन्न माध्यमो के द्वारा आसानी से मिल जाएगा। कहने का अर्थ यह हुआ कि आप बिंदी बनाने के बिज़नेस के लिए लोन को सरकारी बैंक, प्राइवेट बैंक या किसी धनी व्यापारी से भी ले सकते हैं।

बस आपको उनके द्वारा दी गयी शर्तो का पालन करना होगा। इसमें आपसे एक कागज पर हस्ताक्षर करवाए जाएंगे जिसमें आपको मिलने वाली लोन की रकम, उस पर लगने वाला ब्याज, समय अंतराल, किश्त की राशि इत्यादि संबंधित जानकारी विस्तार सहित लिखी हुई होगी। इसलिए आप इसे ध्यान पूर्वक पढ़कर ही आगे बढ़े। आपको बिंदी बनाने के बिज़नेस के लिए एक लाख तक का लोन मिल सकता हैं।

बिंदी बनाने के बिज़नेस की मार्केटिंग

अब यदि आप बिंदी बनाने का बिज़नेस करने जा रहे हैं तो आप यह भी चाहेंगे कि आपकी बनाई बिंदी बिके और लोगों के बीच यह प्रचलित हो। तो इसके लिए आपको बिंदी बनाने के बिज़नेस की अच्छे से मार्केटिंग करनी होगी। मार्केटिंग का अर्थ हुआ बिंदी बनाने के बिज़नेस का प्रमोशन करना। अब आप पूछेंगे कि यह आप कैसे करेंगे तो आज हम आपको इसी के बारे में भी बताएँगे।

  • पहली बात तो आप बिंदी को बना रहे हैं तो आपके ग्राहक आम लोग नही दुकानदार होंगे। हालाँकि आपके ग्राहक आम लोग भी हो सकते हैं लेकिन सर्वप्रथम आपके ग्राहक गुकंदर ही होंगे। ऐसा इसलिए क्योंकि वही आपके माल को बल्क में खरीदेंगे।
  • इसलिए जहाँ भी आप बिंदी बनाने का बिज़नेस चला रहे हैं आप वहां के आसपास के दुकानदारो को बिंदी को बेचने का काम करते हैं, फिर चाहे वे छोटे हो या बड़े, उनसे संपर्क साधे। आप उनसे संपर्क बनाकर अपनी बनाई बिंदी के डिजाईन उन्हें दिखाए और उन्हें अपनी भी बिंदी बेचने को कहे। शुरुआत में आप उन्हें कुछ बिंदियाँ सैंपल के तौर पर भी दे सकते हैं।
  • इसके साथ ही आप दुकान पर सामान के माल की सप्लाई करने वाले लोगों से भी संपर्क बनाए और उन्हें अपनी बिंदी को बेचने पर अधिक कमीशन उपलब्ध करवाए। यदि आपका उनके साथ अच्छा संपर्क बन गया तो वे दूर के दुकानदारो तक भी आपकी बनाई बिंदी को पहुंचा देंगे जिससे आपके बिज़नेस को फैलने में सहायता मिलेगी।
  • अब यदि आप दुकानदारो और माल की सप्लाई करने वाले लोगों के साथ साथ आम लोगों तक भी पहुँच बना लेंगे तो यह ना केवल आपके लिए बल्कि आपके बिज़नेस के लिए भी बहुत बढ़िया रहेगा। ऐसा हम इसलिए कह रहे हैं क्योंकि इससे आपको बहुत फायदा होगा और लीग खुद आपके द्वारा बनाई गयी बिंदी को मांगेंगे।
  • इसके लिए आप जगह जगह अपनी बनाई बिंदी के पोस्टर और बैनर लगवाए। आप चाहे तो कुछ लड़कियों और महिलाओं के द्वारा पहनी गयी बिंदी के चित्र भी छपवा सकते हैं ताकि लोगों में इसका सकारात्मक प्रभाव पड़े। इस तरह से आप अपनी बिंदी की मार्केटिंग आम लोगों तक भी कर सकते हैं।
  • इसी के साथ साथ आप अपने बिंदी बनाने के बिज़नेस का प्रमोशन ऑनलाइन भी करे। आजकल सब कुछ ऑनलाइन होने लगा हैं जिसमें किसी बिज़नेस या उत्पस का ऑनलाइन प्रमोशन आहूत ही आम बात हैं। इसलिए आप भी विभिन्न सोशल मीडिया माध्यमो के माध्यम से अपने बिज़नेस का ऑनलाइन प्रमोशन कर सकते हैं।

बिंदी बनाने के बिज़नेस में कमाई

अब यदि आप बिंदी बनाने के बिज़नेस में इतनी मेहनत कर रहे हैं, कच्चा माल व मशीन खरीद रहे है, इतना निवेश कर रहे हैं तो आपको अवश्य ही यह जानने की लालसा भी होगी कि आखिरकार इस बिज़नेस के द्वारा आपकी कमाई कितनी हो सकती हैं। कहने का अर्थ यह हुआ कि क्या आपके द्वारा बिंदी बनाने का बिज़नेस खोलना लाभदायक रहेगा या फिर यह केवल एक घाटे का सौदा ही बनकर रह जाएगा।

बिंदी का बिज़नेस कैसे करे – Related FAQs

प्रश्न: बिंदी बनाने की मशीन कितने की आती है?

उत्तर: बिंदी बनाने की मशीन 50 हज़ार से लेकर 2 लाख तक की आती है।

प्रश्न: क्या बिंदी बनाने का व्यवसाय लाभदायक है?

उत्तर: बिंदी बनाने का व्यवसाय लाभदायक बहुत ही लाभदायक होता हैं क्योंकि यह हर भारतीय घर में इस्तेमाल की जानी वाली चीज़ है।

प्रश्न: बिंदियां कैसे बनती हैं?

उत्तर: बिंदियां बनाने के लिए मखमल का कपड़ा, गोंद व सजावटी सामान की आवश्यकता होती है। फिर इसका निर्माण मशीन की सहायता से किया जाता है।

प्रश्न: बिंदी बनाने के लिए क्या चाहिए?

उत्तर: बिंदी बनाने के लुए सबसे पहले तो मखमल का कपड़ा चाहिए होता है। फिर उसे सजाने के लिए ऊपर से स्त्पने, क्रिस्टल, चमकीली इत्यादि लगाए।

तो आज हम आपको बता दे कि जो जो भी बिंदी बनाने के बिज़नेस में काम कर रहा हैं वे सभी प्रॉफिट में ही हैं। ऐसा इसलिए क्योंकि यह एक ऐसा बिज़नेस हैं जो कम होने की बजाए बढ़ता हो जा रहा हैं। पहले यह केवल विवाहित महिलाओं में ही प्रचलित था लेकिन आजकल बिंदी लगाने का ट्रेंड अविवाहित महिलाओं में भी बहुत तेजी से बढ़ा है।

ऐसे में बिंदी बनाने और बेचने का व्यापार कम नही बल्कि बहुत ही तेजी के साथ आगे बढ़ रहा हैं। अब तो भारतीय संस्कृति विदेशों में भी प्रसिद्ध होने लगी हैं। इसी कारण विदेशी लोगों में भी बिंदी लगाने का चलन बढ़ गया हैं। ऐसे में आप भी अपनी बनाई बिंदी को विदेशों में बेचकर बहुत प्रॉफिट कमा सकते हैं। कहने का अर्थ यह हुआ कि बिंदी के बिज़नेस में आप लाभ में ही रहने वाले हैं।

Contents show
Spread the love:

Leave a Comment