ऑनलाइन बिहार प्रॉपर्टी रजिस्ट्री प्रोसेस, जमीन रजिस्ट्री के नियम, फीस व आनलाइन चेक

जमीन रजिस्ट्री के नियम बिहार 2020, रजिस्ट्री ऑफिस बिहार, जमीन रजिस्ट्री की फीस बिहार, जमीन की रजिस्ट्री की जानकारी बिहार, रजिस्ट्री ऑनलाइन चेक bihar, ऑनलाइन प्रॉपर्टी रजिस्ट्रेशन, जमीन की रजिस्ट्री online Check, प्रॉपर्टी रजिस्ट्रेशन बिहार

संपत्ति खरीदने वाले लोगों को इसकी रजिस्ट्री कराना सबसे ज्यादा झंझट का काम लगता है। उन्हें लगता है कि रजिस्ट्रार के यहां चक्कर काटने होंगे। भीड़ होगी और न जाने कितने नियम कायदों का पालन करना होगा। दोस्तों, आपको बता दें कि संपत्ति यानी प्रापर्टी की रजिस्ट्री अब कोई सिरदर्द वाली बात नहीं। अब बिहार सरकार ने बिहार ई सेवा पोर्टल लाकर उनकी परेशानी दूर कर दी है। बिहार में इस पोर्टल के जरिए बिहार प्रॉपर्टी रजिस्ट्री के लिए आवेदन कैसे किया जा सकता है? इससे लोगों को क्या सुविधा होगी? इसके लिए किन दस्तावेजों की जरूरत पड़ेगी? यह सब आज हम आपको इस पोस्ट के माध्यम से बताएंगे। आइए, शुरू करते हैं-

बिहार ई सेवा पोर्टल क्या है? What is Bihar e-Seva Portal?

बिहार ई सेवा पोर्टल का शुभारम्भ बिहार सरकार की ओर किया गया है। सरकार ने राज्य के लोगों की सुविधा के लिए इस पोर्टल की शुरुआत की है। बिहार के लोग अब घर बैठे अपनी संपत्ति के रजिस्ट्रेशन के लिए ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं। जाहिर है कि अब उन्हें रजिस्ट्रार के ऑफिस के चक्कर काटने की आवश्यकता नहीं पड़ेगी।

ऑनलाइन बिहार प्रॉपर्टी रजिस्ट्री प्रोसेस, जमीन रजिस्ट्री के नियम, फीस व आनलाइन चेक

जैसा कि हम आपको बता चुके हैं कि इस पोर्टल के माध्यम से आप अपनी संपत्ति का ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं। इसका नाम भी इसे देखते हुए ई-रजिस्ट्रेशन ऑफ प्रॉपर्टी रखा गया है। एक अच्छी सुविधा है, जिसे राज्य के लोगों का अच्छा रिस्पॉन्स मिलेगा, ऐसा माना जा रहा है।

बिहार ई सेवा पोर्टल पर उपलब्ध सेवाएं – Services available on Bihar e-Seva Portal

सरकार की ओर से दी गई इस सुविधा यानी बिहार ई-सेवा पोर्टल के माध्यम से आप ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन तो करवा ही सकते हैं, इसके साथ ही साथ आप अपने रजिस्ट्रेशन की पूरी जानकारी भी प्राप्त कर सकते हैं। वरना इससे पहले लोगों को अपनी संपत्ति के बारे में जानकारी प्राप्त करने के लिए सरकारी कार्यालयों के चक्कर लगाने पड़ते थे। मुश्किल उठानी पड़ती थी। कई बार जानकारी सुविधा शुल्क के अभाव में फाइलों से बाहर भी नहीं आ पाती थी। लेकिन अब यह सुविधा ऑनलाइन होने की वजह से उनकी यह परेशानी भी दूर हो गई है।

संपत्ति पर कब्जा भी आसान नहीं

संपत्ति को लेकर विवाद आम बात है। आपने अक्सर सुना होगा कि संपत्ति के लेन देन के काम से जुड़े दबंगों या भूमाफियाओं ने मजलूमों की संपत्ति कब्जा ली। संपत्ति के असल स्वामी को इसका पता ही नहीं चल पाता था। या कभी यह भी पता नहीं चल पाता था कि प्रापर्टी का असली मालिक कौन है। यह सुविधा होने से अब घर बैठे अपनी संपत्ति की सारी जानकारी भूस्वामी रख सकेगा। इससे होगा यह कि संपत्ति से जुड़े अपराध भी कम होंगे। औश्र दोस्तों, आपको यह भी बता दें कि मैदानी राज्यों में खास तौर से इस तरह के अपराधी में गिरावट देखने को मिलेगी। थाना, चौकियों पर भी आपराधिक घटनाओं का दबाव कम हो सकेगा।

एक क्लिक पर बिहार प्रॉपर्टी रजिस्ट्री की सुविधा – Property registration facility in one click

आपको बिहार सरकार ने ई सेवा पोर्टल के माध्यम से महज एक क्लिक में बिहार प्रॉपर्टी रजिस्ट्री और इससे जुड़ी सारी जानकारी ले सकने की सुविधा मुहैया कराई है। इससे साफ है कि आपके समय की बचत होगी। आपको रजिस्ट्रार ऑफिस में चक्कर लगाने की जरूरत नहीं पड़ेगी और अपने महत्त्वपूर्ण समय को आप किसी अन्य महत्वपूर्ण कार्य में लगा सकते हैं। बिहार सरकार की ओर से यह सुविधा पाकर आम लोग बेहद राहत महसूस कर रहे हैं, इसमें कोई दो राय नहीं है।

बिहार ई सेवा पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन कैसे करें? How to register on Bihar e-Seva Portal?

अब हम आपको बताएंगे कि आप बिहार राज्य के लोगों के लिए शुरू किए गए ई सेवा पोर्टल पर ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन कैसे करा सकते हैं। दोस्तों यह एक आसान प्रक्रिया है। इसके लिए आपको कुछ स्टेप फॉलो करने पड़ेंगे। आइए, जानते हैं कि यह स्टेप्स कौन-कौन से हैं-

बिहार प्रोपर्टी रजिस्ट्री ऑनलाइन प्रक्रिया – Bihar property registry online process

  • सबसे पहले आपको बिहार ई सेवा पोर्टल के आधिकारिक वेबसाइट http://registration.bih.nic.in/ पर जाना होगा। आप चाहें तो यहाँ क्लीक करके डायरेक्ट जा सकतें हैं।

ऑनलाइन बिहार प्रॉपर्टी रजिस्ट्री प्रोसेस, जमीन रजिस्ट्री के नियम, फीस व आनलाइन चेक

  • इस लिंक पर क्लिक करने के बाद आपके सामने इसका होमपेज खुल जाएगा।
  • इसके बाद आपको स्क्रीन पर ‘e services‘ का option दिखाई देगा। आपको इस option पर क्लिक करना होगा।

ऑनलाइन बिहार प्रॉपर्टी रजिस्ट्री प्रोसेस, जमीन रजिस्ट्री के नियम, फीस व आनलाइन चेक

  • e services के option पर क्लिक करने के बाद आपके सामने ‘land registration’ का option आ जाएगा।
  • इस option पर क्लिक करने के बाद आपके सामने login पेज खुल जाएगा।

बिहार ई सेवा पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन कैसे करें? How to register on Bihar e-Seva Portal?

  • अगले लॉग इन पेज पर आपको नीचे न्यू रजिस्ट्रेशन आप्शन पर क्लीक करना होगा। जिसके बाद आपके सामने एक रजिस्ट्रेशन पेज ओपन होगा।

बिहार ई सेवा पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन कैसे करें? How to register on Bihar e-Seva Portal?

  • इस पेज पर आपको अपनी लॉगिन आईडी बनाने के लिए अपनी ईमेल आईडी और फोन नंबर को डालना होगा।
  • इसके बाद आपके मोबाइल नंबर पर या ईमेल आईडी पर एक ओटीपी प्राप्त होगा और ओटीपी भरकर आप अपना अकाउंट वेरीफाई कर सकते हैं।
  • इसके बाद आपको login करना होगा। Login करने के बाद आपके सामने एक form खुल जाएगा।
  • इस form में आपको पूछी गई सभी जानकारी सही तरीके से भरनी होगी।
  • इसके बाद आपको इससे संबंधित कागजात को upload करना होगा।
  • यह कागजात आप किसी वकील से बनवा सकते हैं या फिर इस पोर्टल से उनका फॉर्मेट डाउनलोड करके प्रिंट कर सकते हैं।
  • यदि चाहें तो इन कागजात को आप खुद भी भर सकते हैं।
  • इसके बाद आप सारे कागजातों को upload कर दें।
  • कागजात upload करने के बाद आपको इसकी फीस का payment करना होगा।

बिहार प्रॉपर्टी रजिस्ट्री फीस और रजिस्ट्रेशन फीस कैसे जमा करें?

आप जानते ही हैं कि कागज़ upload करने के बाद एक निर्धारित फीस देनी होगी। फीस जमा करने के भी दो तरीके हैं। इनमें पहला तरीका तो यह है कि आप अपने रजिस्ट्रेशन फॉर्म को डाउनलोड करके प्रिंट कर लें और वह दिखा कर बैंक में उसकी फीस जमा कर दें।

दोस्तों, इसका दूसरा तरीका यह है कि आप इस बिहार ई सेवा पोर्टल पर भी फीस जमा कर सकते हैं। इसके लिए एक ऑनलाइन प्रक्रिया होगी। आप अपने क्रेडिट कार्ड/डेबिट कार्ड के जरिए भी फीस का payment कर सकते हैं। वह धनराशि आपके account से कट जाएगी। इसके बाद आपको उस पोर्टल से आपको पता चल जाएगा कि आपको रजिस्ट्री ऑफिस में हाजिरी कब लगानी है।

बिहार प्रॉपर्टी रजिस्ट्री के लिए आवश्यक दस्तावेज – Documents required for Bihar Property Property Registry

हमने आपको आनलाइन रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया के बारे में तो जानकारी दे दी। अब हम आपको बताएंगे कि संपत्ति के रजिस्ट्रेशन के लिए आपको किन किन दस्तावेजों की आवश्यकता पड़ने वाली है। यह दस्तावेज इस प्रकार से है-

  • संपत्ति खरीदने वाले और बेचने वाले दोनों के पहचान प्रमाण पत्र
  • form- 4 और form-13,
  • संपत्ति खरीदने और बेचने वाले दोनों के पैन कार्ड।
  • form- 60/61और e filling रसीद
  • यह सारे दस्तावेज जमा करने के पश्चात आपका रजिस्ट्रेशन पूरा हो जाएगा।

संपत्ति से जुड़े संघर्ष सबसे अधिक

आपको बता दें कि यूपी और बिहार जैसे राज्य में हादसों में होने वाली मौतों को छोड़ दे तो सर्वाधिक संघर्ष संपत्ति से जुड़े विवादों में होता है। यही वजह है कि इस सुविधा के आने से यानी कि बिहारी सेवा पोर्टल पर ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन की सुविधा मिलने से ज्यादातर लोगों ने राहत महसूस की है। दोस्तों, आपको एक बात और बता दें और वो ये कि खास तौर पर गांवों में यह दिक्कत ज्यादा है। क्योंकि वहां घर-जमीन के साथ ही खेतों से जुड़े हुए बड़े विवाद होते हैं।

कभी-कभी सीमांकन को लेकर दो या अधिक पक्ष आमने सामने आ जाते हैं तो कभी कब्जे के विवाद खड़े हो जाते हैं। आम आदमी के साथ दिक्कत यह भी है कि उसकी आसानी से सुनवाई नहीं होती। और तो और ज्यादातर मामलों में तो पुलिस के पैसे लेकर समझौता कर लेने की बात सामने आती है। ऐसे में संपत्ति का आनलाइन रजिस्ट्रेशन ने लोगों को व्यर्थ के विवादों से बचाने में अहम भूमिका अदा करेगा, इसमें दो राय नहीं।

बिहार ऑनलाइन प्रॉपर्टी रजिस्ट्री से रजिस्ट्रार ऑफिस पर काम का बोझ कम होगा

हम आपको यह तो बता ही चुके हैं कि बिहार ई सेवा पोर्टल पर और संपत्ति के ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन की सुविधा मिलने से आम आदमी का रजिस्ट्रार ऑफिस का चक्कर लगाने की जरूरत कम से कम रह जाएगी। इससे उसका टाइम बचेगा। लेकिन दोस्तों, इसका एक फायदा यह भी है कि सब रजिस्ट्रार ऑफिस पर काम का बोझ कम होगा। इससे पहले यह होता है कि रजिस्ट्रेशन के लिए लोगों की भीड़ लगी रहती थी और रजिस्ट्रार ऑफिस में काम का लोड भी बड़ा रहता था।

कोरोना संक्रमण काल में बेहतर सुविधा

जैसा कि आप जानते हैं कि यह कोरोना संक्रमण का काल चल रहा है एक दूसरे से दूरी बनाए रखने में ही सावधानी है। ऐसे समय में संपत्ति के रजिस्ट्रेशन की ऑनलाइन सुविधा मिलने से फायदा यह भी है कि आम आदमी रजिस्ट्रार ऑफिस में भीड़ का हिस्सा बनने से और संक्रमण से बचा हुआ है। वरना पहले के हालात होते तो संक्रमण की स्थिति निश्चित रूप से और बदतर होती। यह तो आपको मालूम ही है कि कोरोना से बचाव के लिए हाथों को नियमित अंतराल पर धोना और नाक पर मास्क का प्रयोग करना जितना आवश्यक है, उतना ही जरूरी है दूसरे व्यक्ति से कम से कम दो गज की दूरी बरतना।

इस समय जिस तरह से कोरोना संक्रमण की स्थिति चल रही है उसे देखकर यह कहा जा सकता है कि आने वाले समय में हालात और खराब हो सकते हैं। जैसे-जैसे टेस्टिंग बढ़ रही है वैसे-वैसे कोरोना संक्रमितों की संख्या भी बढ़ रही है। और अच्छी बात यह भी है लोगों के ठीक होने की दर में भी इजाफा हो रहा है।

इसके बावजूद स्थिति बहुत खुश करने वाली नहीं है। देश में प्रतिदिन हजारों की संख्या में नए मरीज सामने आ रहे हैं। ऐसे में जरूरी है कि एहतियात बरती जाए। ऑनलाइन सुविधाएं इस सावधानी में बहुत सहूलियत भरी साबित हुई हैं। बिहार ई सेवा पोर्टल भी ऐसी ही एक सुविधा मुहैया करा रहा है।

जन सेवा केन्द्र भी निभाएंगे अहम भूमिका

बिहार ई सेवा पोर्टल के जरिए ऑनलाइन संपत्ति के रजिस्ट्रेशन की सुविधा तो दी गई है, लेकिन इसके लिए आपको या तो स्मार्टफोन की जरूरत पड़ेगी या फिर आपको किसी साइबर कैफे में जाना होगा। ग्रामीण क्षेत्रों में ऐसी स्थिति में आप कॉमन सर्विस सेंटर (CSC) यानी जन सेवा केंद्र की भी मदद ले सकते हैं जन सेवा केंद्र की भूमिका भी इसलिए है क्योंकि ग्रामीण क्षेत्रों में जहां लोगों के पास बहुत सुविधाओं का अभाव है, वह इन केंद्रों के जरिए संपत्ति के रजिस्ट्रेशन के लिए अपना आवेदन करा सकते हैं।

दोस्तों, यह थी बिहार में जमीन की रजिस्ट्री के नियम और अन्य दस्तावेजों से संबंधित जानकारी। उम्मीद है कि आपको यह जानकारी पसंद आई होगी। यदि आप किसी अन्य विषय के संबंध में हमारे से जानकारी चाहते हैं तो हमें नीचे दिए गए कमेंट बॉक्स में लिखकर भेज सकते हैं। आपके सुझाव और प्रतिक्रियाओं का हमें हमेशा की तरह इंतजार रहेगा। ।।धन्यवाद।।

Spread the love

अनुक्रम

Leave a Comment