कंप्यूटर आपरेटर कैसे बनें? योग्यता, सिलेबस, सैलरी 2022

|| कंप्यूटर आपरेटर कैसे बनें? योग्यता, सिलेबस, सैलरी, Computer Operator Kya Hai, कंप्यूटर ऑपरेटर कैसे बने, कंप्यूटर ऑपरेटर बनने की चयन प्रक्रिया क्या है, What Is Computer Operator Course, कंप्यूटर ऑपरेटर का मतलब क्या होता है ||

इन दिनों युवाओं में बेेरोजगारी की दर ज्यादा है। ऐसे में युवा ने कोई रोजगारपरक कोर्स न किया हो तो नौकरी मिलना बेहद मुश्किल हो जाता है। कंप्यूटर एक ऐसा ही कोर्स है, जो युवा सर्वाधिक करना पसंद करते हैं। इसके पश्चात वे किसी भी सरकारी अथवा निजी संस्थान में कंप्यूटर आपरेटर, डाटा एंट्री आपरेटर, प्रोग्रामर आदि बन सकते हैं।

दरअसल, प्रत्येक सरकारी अथवा निजी संस्थान में कंप्यूटर से जुड़े कार्यों को सुचारू रूप से पूरा करने के लिए कंप्यूटर आपरेटर की भर्ती की जाती है। यदि आप भी कंप्यूटर आपरेटर बनना चाहते हैं तो इसके लिए आवश्यक योग्यता, सिलेबस, सैलरी आदि की जानकारी आज हम आपको इस पोस्ट के माध्यम से देंगे। आइए, शुरू करते हैं-

कंप्यूटर आपरेटर कौन होता है, क्या करता है (who is a computer operator, what he does)

इन दिनों लगभग प्रत्येक विभाग में कंप्यूटर आपरेटर (computer operator) की नियुक्ति होती है। जैसा कि नाम से ही स्पष्ट है एक कंप्यूटर आपरेटर कंप्यूटर को आपरेट यानी उसके संचालन का कार्य करता है। उसका मुख्य जिम्मा कंप्यूटर पर डाटा शीट (data sheet), डाॅक्यूमेंट (documents) आदि तैयार करना होता है।

इसके लिए वह विभिन्न साफ्टवेयर एप्लीकेशन (software application) का प्रयोग करता है। जैसे-एमएस वर्ड (MS word), एमएस एक्सेल (MS Excel) लोटस (Lotus) आदि। इसके लिए उसकी टाइपिंग स्पीड तो अच्छी होनी ही चाहिए, इसके साथ ही कंप्यूटर से लिंक्ड हार्डवेयर जैसे कीबोर्ड, प्रिंटर आदि की भी अच्छी जानकारी बेहद आवश्यक है।

किस की (key) का क्या फंक्शन है, किस कमांड का शार्टकट है आदि, जिससे वह तेजी से काम कर सके। बहुत से रिसर्च (research), प्रोजेक्ट वर्क (project work) आदि में भी कंप्यूटर आपरेटर की भी बहुत महत्ता है।

कंप्यूटर आपरेटर कैसे बनें? योग्यता, सिलेबस, सैलरी

कंप्यूटर आपरेटर बनने के लिए आवश्यक योग्यता (essential qualification to be a computer operator)

यदि आप किसी सरकारी विभाग में कंप्यूटर आपरेटर बनना चाहते हैं तो उसके लिए अभ्यर्थी के पास कुछ योग्यताएं होना आवश्यक हैं। जैसे यूपीएसएसएससी में निकली कंप्यूटर आपरेटर की भर्ती की बात करें तो ग्रेड बी (grade b) के इस पद के लिए निम्न योग्यताएं निर्धारित की गईं –

  • ग्रेजुएशन की डिग्री।
  • कंप्यूटर साइंस में डिप्लोमा अथवा डीओई (DoE) यानी डिपार्टमेंट आफ इलेक्ट्रानिक्स (department of electronics) से ओ सर्टिफिकेट (O certificate)।
  • डाटा एंट्री (data entry) की जानकारी। हिंदी (hindi) एवं इंगलिश (english) में क्रमश 25 एवं 40 शब्द प्रति मिनट टाइपिंग स्पीड (typing speed)। हिंदी की टाइपिंग अंग्रेजी से कठिन मानी जाती है।
  • अभ्यर्थी की उम्र न्यूनतम 21 से लेकर अधिकतम 40 वर्ष के बीच हो।
  • आरक्षित वर्गों (reserved category) के उम्मीदवारों को अधिकतम सीमा (maximum age limit) में छूट प्रदान की जाती है।

कंप्यूटर आपरेटर कैसे बनें? (process to become a computer operator)

यदि आप किसी सरकारी विभाग (government department) में कंप्यूटर आपरेटर बनना चाहते हैं तो उसके लिए आपको एक निर्धारित भर्ती प्रक्रिया का पालन करना पड़ता है। इसके लिए विभाग की ओर से निकलने वाले विज्ञापनों पर ध्यान देते रहें। उसमें पद के साथ ही उसकी आवश्यक योग्यता, सैलरी आदि प्रत्येक बिंदु का ब्योरा होता है।

अधिकांश पदों पर भर्ती के लिए लिखित परीक्षा (written exam) का आयोजन किया जाता है। इसमें चयनित अभ्यर्थियों को टाइपिंग टेस्ट (typing test) एवं इसके बाद साक्षात्कार (interview) के लिए बुलावा (call) भेजा जाता है। इसके पश्चात सभी शैक्षिक योग्यताओं के दस्तावेजों (documents) का सत्यापन (verification) किया जाता है।

इसके पश्चात प्रक्रिया में सफल हुए अभ्यर्थियों की सूची जारी कर दी जाती है एवं नियुक्ति पत्र संबंधित अभ्यर्थियों के पते पर भेज दिए जाते हैं। प्राइवेट संस्थानों में भर्ती अधिकांशतः साक्षात्कार के आधार पर हो जाती है। इस दौरान अभ्यर्थी के दस्तावेज भी देख लिए जाते हैं। आवेदक को संस्थान की आवश्यकतानुसार ज्वाइनिंग करने के लिए कह दिया जाता है।

कंप्यूटर आपरेटर को कितनी सैलरी मिलती है? (what is the salary of a computer operator)

कंप्यूटर आपरेटर को कितनी सैलरी मिलती है, इसका कोई एक नियत जवाब नहीं। सरकारी विभाग में सैलरी ज्यादा होती है, जबकि प्राइवेट संस्थान में कम। एक औसत की बात करें तो सरकारी विभाग में शुरूआती सैलरी के रूप में 15 हजार रूपये से लेकर 25 हजार अथवा इससे अधिक भी सैलरी मिल जाती है, जबकि एक प्राइवेट विभाग की बात करें तो 10 से लेकर 15 हजार तक सैलरी आम तौर पर मिल जाती है।

अधीनस्थ सेवा चयन आयोग से होती है विभिन्न पदों पर भर्ती (subordinate service selection commission recruits for different posts)

यदि उत्तर प्रदेश एवं उत्तराखंड, हिमाचल आदि राज्यों की बात करें तो यहां राज्य अधीनस्थ सेवा चयन आयोग के माध्यम से विभिन्न सरकारी विभागाें में कंप्यूटर आपरेटर पद के लिए भर्तियां निकलती हैं। वही परीक्षा का आयोजन कर डाक्यूमेंट वेरिफिकेशन के पश्चात फाइनल सेलेक्शन लिस्ट जारी करता है।

कई बार ऐसा भी होता है कि धांधली के आरोप में भर्ती निरस्त हो जाती हैं। कई बार परीक्षार्थी पुरानी भर्ती के नतीजे का ही इंतजार करते रह जाते हैं। इसके बावजूद सरकारी नौकरी का अपना अलग क्रेज है। लोग प्राइवेट के स्थान पर सरकारी नौकरी को प्राथमिकता देते हैं।

यही वजह है कि कई दफा एक अनार, सौ बीमार वाली स्थिति उत्पन्न हो जाती है। यानी पद (post) तो कम होते हैं और आवेदक (applicants) हजारों। ऐसे में इनमें से जो परीक्षा में बेहतर प्रदर्शन करता है, उसी का चयन कंप्यूटर आपरेटर के पद के लिए होता है।

कंप्यूटर आपरेटर पद के लिए परीक्षा पैटर्न/सिलेबस (exam pattern and syllabus for computer operator post)

दोस्तों, कंप्यूटर आपरेटर की परीक्षा में आपसे कंप्यूटर (computer) एवं सामान्य ज्ञान (general knowledge) के प्रश्न तो पूछे ही जाएंगे। इसके साथ ही सामान्य हिंदी (general hindi) एवं रीजनिंग (reasoning) से जुड़े सवाल भी आपको हल करने होंगे। आम तौर पर लिखित परीक्षा का पैटर्न/सिलेबस इस प्रकार रहता है-

कंप्यूटर (computer)-

कंप्यूटर की बेसिक (basic) एवं अहम कुंजियों (important keys) की जानकारी, एमएस वर्ड, एमएमस एक्सेल, पावर प्वाइंट (power point), विंडोज (windows), लोटस, स्मार्ट सूइट साॅफ्टवेयर (smart suit software) की जानकारी, इंटरनेट (internet) से संबंधित प्रश्न।

सामान्य ज्ञान (general knowledge)-

राष्ट्रीय मामले, अंतर्राष्ट्रीय मामले (international affairs), इतिहास (history), भूगोल (geography), सामान्य विज्ञान (general science), महत्वपूर्ण पुस्तकें एवं उनके लेखक।

रीजनिंग (reasoning)-

कोडिंग-डिकोडिंग (coding-decoding), डायरेक्शन सेंस (direction sense), ब्लड रिलेशन (blood relation), युक्तियां, असमानता, राइडल्स एंड सिटिंग अरेंजमेंट (ridles and sitting arrangement), आर्डर एंड रैंकिंग (order and ranking), अल्फा-न्यूमेरिक सिंबल सीरीज (alfa-numeric symbol series)

सामान्य हिंदी (general hindi)-

शब्द रचना-प्रत्यय, उपसर्ग एवं परसवर्ग, पर्यायवाची, विलोम एवं अनेकार्थी शब्द, संधि व समास, वर्तनी से जुड़ीं अशुद्धियां, लोकोक्तियां।

कंप्यूटर आपरेटर बनने के लिए आवश्यक टिप्स (important tips to be a computer operator)

दोस्तों, यदि आप भी कंप्यूटर आपरेटर बनने के लिए लिखित परीक्षा (written test) का सामना करने जा रहे हैं तो अब हम आपको उन टिप्स (tips) की जानकारी देंगे, जिनका इस्तेमाल आप कंप्यूटर आपरेटर की परीक्षा में कामयाब बनने के लिए कर सकते हैं। ये इस प्रकार से हैं-

  • कंप्यूटर साफ्टवेयर एवं हार्डवेयर (software and hardware) की अच्छी जानकारी प्राप्त करें।
  • कंप्यूटर पर हिंदी एवं अंग्रेजी टाइपिंग स्पीड बढ़ाएं। इसके लिए किसी टाइपिंग इंस्टीट्यूट में जाकर भी प्रैक्टिस कर सकते हैं।
  • अपने इर्द-गिर्द होने वाले राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय घटनाक्रम पर नजर रखें। इसके लिए टीवी समाचारों एवं अखबारों को रूटीन बेसिस पर पढ़ें।
  • अपनी जानकारी बढ़ाने के लिए आप इंटरनेट का भी इस्तेमाल कर सकते हैं।
  • रीजनिंग के लिए आप घर में ही प्रैक्टिस कर सकते हैं। इसके लिए भी इंटरनेट का इस्तेमाल आपके लिए बहुत फायदेमंद साबित हो सकता है।

कंप्यूटर आपरेटर घर बैठे हजारों की कमाई करने में सक्षम (computer operator can earn good money by work at home)

एक अच्छा कंप्यूटर आपरेटर घर बैठे हजारों की कमाई करने में सक्षम है। इन दिनों गैजेट्स ने घर एवं आफिस की दूरी खत्म कर दी है। मार्केट में ऐसे ढेरों रिसर्चर, एनजीओ, बिजनेसमैन आदि हैं, जिन्हें अपने लिए रिसर्च रिपोर्ट्स तैयार करने, डाटा शीट तैयार करने वाले चाहिए होते हैं। वे आपको आनलाइन काम प्रोवाइड करा देते हैं।

आप घर बैठकर ये रिपोटर्स तैयार कर उन्हें भेज सकते हैं। उनके लिए पावर प्वाइंट प्रेजेंटेशन तैयार कर सकते हैं। इसमें सबसे अच्छी चीज यह है कि आपको आफिस के नियमों में बंधकर काम नहीं करना होता। किसी डेडलाइन (deadline) को फाॅलो नहीं करना होता। आप मर्जी के मालिक होते हैं।

अपने क्लाइंट के समय एवं अपनी सहूलियत के हिसाब से काम करते हैं। आपको बंधी बंधाई तनख्वाह में गुजारा नहीं करना होता, बल्कि आप अपने समय के हिसाब से कमाई कर सकते हैं। जिन लोगों को नौकरी में दिलचस्पी कम है, वे घर बैठे पैसे कमा सकते हैं।

कंप्यूटर के अलग अलग जरूरतों के हिसाब से बाजार में अलग अलग कोर्स (different computer courses for different needs are available in market)

जहां तक कंप्यूटर कोर्स की बात है तो बाजार में अलग अलग कोर्स उपलब्ध हैं। आप अपनी जरूरत एवं रुचि के हिसाब से इनमें से किसी का भी चुनाव अपने भविष्य के रोजगार (employment) के लिए कर सकते हैं। डाटा एंटी का आप्शन तो है ही आप चाहें तो डीटीपी (DTP), टैली (tally), एनिमेशन (animation), ग्राफिक डिजाइनिंग (graphic designing) आदि कोर्स कर अपना अलग काम भी कर सकते हैं।

डीटीपी यानी डेस्क टाॅप पब्लिशिंग के सहारे आप प्रकाशन क्षेत्र में करियर बना सकते हैं तो वहीं, टैली का कोर्स कर आप एकाउंटिंग के क्षेत्र में हाथ आजमा सकते हैं। एनिमेशन के बाद आप कंप्यूटर एनिमेशन के रूप में करियर बना सकते हैं। ग्राफिक डिजाइनर बनकर भी स्वयं अथवा किसी संस्थान के साथ जुड़कर अच्छी कमाई कर सकते हैं।

इसके अतिरिक्त भी कई कोर्स हैं, जो आपके लिए आपके मनपसंद क्षेत्र में कार्य करने के द्वार खोलते हैं। इसके पश्चात आप किसी बड़ी कंपनी में रोजगार प्राप्त कर सकते हैं। स्व रोजगार (self employment) शुरू कर सकते हैं एवं अन्य लोगों के लिए भी आय का जरिया खोल सकते हैं।

हर कोई इन दिनों डाटा के पीछे भाग रहा है, ऐसे में कंप्यूटर आपरेटर बनने के मौके भी बढ़े हैं

दोस्तों, यह तो आप जानते ही होंगे कि वैश्विक स्तर पर आईटी का फील्ड एक तेजी से ग्रो करता हुआ क्षेत्र है। इसके अतिरिक्त जर्नलिज्म हो या अन्य कोई व्यवसाय हर कोई डाटा (data) के पीछे भाग रहा है। डाटा रिपोर्ट्स (data reports), रिसर्च रिपोर्ट्स (research reports) आदि की वैल्यू (value) पहले से कहीं ज्यादा बढ़ी है।

न केवल आफलाइन (offline), बल्कि आनलाइन (online) भी ऐसी संस्थाओं की अच्छी खासी उपस्थिति है। ऐसे में कंप्यूटर आपरेटर बनने के मौके भी बढ़ रहे हैं। निजी क्षेत्र की बात करें तो इनके द्वारा तैयार की गई डाटा शीट, पावर प्वाइंट प्रेजेंटेशन आदि को दुनिया भर तक अपने उत्पाद की पहुंच बताने, अपने आंकड़े बताने के लिए लोग इस्तेमाल कर रहे हैं। डाटा प्रीफरेंस के इस दौर इनके और बढ़ने की संभावना है।

कंप्यूटर आपरेटर का क्या काम होता है?

एक कंप्यूटर आपरेटर के पास कंपनी के लिए डाटा शीट, डाक्यूमेंट, रिपोर्ट, पावर प्रेजेंटेशन आदि तैयार करने की जिम्मेदारी होती है।

सामान्य रूप से एक कंप्यूटर आपरेटर बनने के लिए क्या आवश्यक योग्यता है?

एक कंप्यूटर आपरेटर बनने के लिए उम्मीदवार को ग्रेजुएशन डिग्री होल्डर होने के साथ ही कंप्यूटर साइंस में डिप्लोमाधारी होना आवश्यक है। अथवा वह स्नातक की डिग्री के साथ ही डीओई का ‘ओ’ डिप्लोमाधारी हो तो भी कंप्यूटर आपरेटर बन सकता है।

कंप्यूटर आपरेटर का वेतन कितना होता है?

कंप्यूटर आपरेटर के पद के लिए कोई एक वेतन मानदंड नहीं। सरकारी एवं प्राइवेट संस्थान की दृष्टि से अलग अलग हो सकता है।

कंप्यूटर आपरेटर बनने के लिए निर्धारित उम्र क्या है?

इसकी भी कोई निर्धारित उम्र नहीं। औसतन 21 वर्ष से 40 वर्ष तक के अभ्यर्थी सरकारी विभागों में कंप्यूटर आपरेटर बनने के लिए आवेदन कर सकते हैं। यदि प्राइवेट क्षेत्र की बात करें तो यहां विभिन्न संस्थान पद की आवश्यकता के हिसाब से उम्र निर्धारित कर आवेदन आमंत्रित करते हैं। यह 18 से 30 भी हो सकती है। अथवा 18 से अधिक की कोई भी वय।

क्या कंप्यूटर आपरेटर बनने के लिए अच्छी टाइपिंग जानना जरूरी है?

जी हां, कंप्यूटर आपरेटर बनने के लिए अच्छी टाइपिंग जानना आवश्यक है। सामान्य रूप से अंग्रेजी में 40 शब्द प्रति मिनट एवं हिंदी में 25 शब्द प्रति मिनट मांगे जाते हैं। हिंदी की टाइपिंग अंग्रेजी से कठिन मानी जाती है।

कंप्यूटर आपरेटर के लिए होने वाली लिखित परीक्षा में कैसे प्रश्न आते हैं?

कंप्यूटर आपरेटर के लिए होने वाली लिखित परीक्षा में कंप्यूटर, रीजनिंग, सामान्य ज्ञान एवं सामान्य हिंदी से जुड़े प्रश्न पूछे जाते हैं।

सरकारी विभाग में कंप्यूटर आपरेटर बनने के लिए क्या करना होगा?

इसके लिए आप विभिन्न सरकारी विज्ञागों की ओर से निकलने वाले भर्ती विज्ञापनों पर नजर रखें एवं जैसे ही भर्ती निकले फार्म भरकर इसके लिए आवेदन करें।

दोस्तों, हमने इस पोस्ट में आपको कंप्यूटर आपरेटर कैसे बनें? इससे संबंधित सभी आवश्यक योग्यताओं, सिलेबस एवं सैलरी आदि के संबंध में जानकारी दी। उम्मीद है कि यह पोस्ट आपके लिए उपयोगी साबित होगी। यदि आप अथवा आपका कोई मित्र कंप्यूटर आपरेटर बनना चाहता है तो यह पोस्ट उसके साथ भी अवश्य शेयर करें। यदि आप किसी अन्य जानकारीपरक विषय पर हमसे पोस्ट चाहते हैं तो हमें नीचे दिए गए कमेंट बाक्स में कमेंट करके बता सकते हैं। ।।धन्यवाद।।

————————————

Spread the love

अनुक्रम

Leave a Comment