BDO Kaise Bane? ब्लाक डेवलपमेंट ऑफिसर कैसे बने? BDO Exam का Syllabus

इन दिनों युवाओं का पढाई पूरी करने के बाद जब नौकरी करने का वक़्त आता है तो उनके दिमाग में पद और package जैसे शब्द चक्कर काटने लगते हैं। लेकिन एक हकीक़त यह भी है कि मल्टीनेशनल कंपनियों में ऊँचे पद और पैसे के स्कोप के बावजूद अभी तक सरकारी नौकरियों का जबरदस्त क्रेज है। ऐसा इसलिए क्योंकि सरकारी पदों को भविष्य की सुरक्षा की गारंटी माना जाता है। उस पर पद हनक वाला हो तो बात ही क्या। एक ऐसा पद जिस पर क्षेत्र के विकास की जिम्मेदारी हो, उस पर आसीन होना किसकी इच्छा नहीं होगी। BDO का पद एक ऐसा ही पद है। एक BDO के ऊपर block यानी खंड के विकास की पूरी जिम्मेदारी होती है।

BDO Kaise Bane? ब्लाक डेवलपमेंट ऑफिसर कैसे बने? BDO Exam का Syllabus

यही वजह है कि इस पद के लिए हर साल लाखों अभ्यर्थी आवेदन करते हैं। अगर आप भी BDO बनकर अपना और दूसरों का जीवन सुधारना चाहते हैं तो आज हम आपको बताएँगे कि आप BDO कैसे बन सकते हैं? BDO की परीक्षा में बैठने के लिए जरूरी योग्यता क्या है? इस पद के लिए परीक्षा कैसे होती है? BDO के लिए ली जाने वाली परीक्षा का syllabus क्या है? आदि आदि बिन्दुओं से जुडी अहम् जानकारी। आपको बस करना इतना है कि इस पोस्ट को पूरा पढ़ जाना है।

BDO की full form क्या है –

BDO की full form है Block Development Officer यानी ब्लॉक डेवलपमेंट ऑफिसर। इसे हिंदी में खंड विकास अधिकारी भी पुकारा जाता है।

Block का प्रमुख अधिकारी होता है BDO –

BDO का पद प्रदेश की सरकार के अधीन ग्रामीण विकास विभाग का तहसील स्तर का पद है। BDO का यह पद Group ‘B’ यानी गजेटेड लेवल का पद होता है। एक BDO उस block का प्रमुख अधिकारी होता है, जिसमें की उसकी नियुक्ति होती है।

BDO का क्या काम होता है –

एक BDO की जिस क्षेत्र या block में नियुक्ति होती है, वह उसमें विकास की योजनाओं के क्रियान्वयन को अंजाम देता है। क्षेत्र में होने वाले सभी विकास कार्यों की देख-रेख भी उसी के जिम्मे होती है। BDO के काम में PWD, FOREST, PHE, HEALTH आदि विभागों की ओर से किये जाने वाले कार्य शामिल नहीं हैं। जैसा कि हम ऊपर बता चुके हैं एक BDO का काम block स्तर पर ग्रामीण विकास योजनाओं के क्रियान्वयन मसलन-नरेगा, वृद्धावस्था पेंशन योजना, विकलांग लाभ, सार्वजनिक वितरण प्रणाली, निर्धन आवास, कृषि योजनाओं, आदि के सम्बन्ध में बहुत अहम् है। कुल मिलाकर कहें तो BDO का काम प्रदेश और केंद्र सरकार के विभिन्न अधिकारियों के साथ block level पर कार्यों एवं नीतियों के क्रियान्वयन में co-operate करना है।

BDO के लिए कौन exam कराता है –

हम आपको बता दें कि हर राज्य में BDO की अलग परीक्षा होती है। प्रदेश में यह exam कराने का जिम्मा PSC यानी Public Service Commission के पास है, जिसे हिंदी में लोक सेवा आयोग भी पुकारा जाता है। कहने का मतलब यह है कि अगर आप BDO बनना चाहते हैं तो आपको भी अपने राज्य के लोक सेवा आयोग की ओर से आयोजित किया जाने वाला exam क्लियर करना होगा।

BDO Kaise Bane? BDO बनने के लिए शैक्षिक योग्यता और किस उम्र तक के अभ्यर्थी कर सकते हैं इस पद के लिए आवेदन –

BDO बनने के लिए अभ्यर्थी को किसी भी मान्यता प्राप्त university से graduate होना चाहिए। अभ्यर्थी का यह graduation किसी भी विषय में होना चाहिए। exam में बैठने के लिए अभ्यर्थी की न्यूनतम आयु 21 वर्ष निर्धारित की गयी है। अधिकतम 35 वर्ष तक इस exam में बैठा जा सकता है। कुछ राज्यों जैसे UP में यह उम्र 40 वर्ष भी है। यह सीमा General Category के अभ्यर्थियों के लिए रखी गयी है। इस पद की परीक्षा में बैठने के लिए OBC और SC/ST के आवेदकों को उम्र में छूट दी गयी है। जो OBC के लिए 3 साल, जबकि SC/ST के लिए 5 साल है।

अभ्यर्थियों के selection का आधार क्या है –

BDO पद के लिए राज्य लोक सेवा आयोग लिखित परीक्षा (Preliminary), लिखित परीक्षा (mains) और Personal Interview आयोजित करता है। लिखित priliminary exam पास करने वालों को mains के लिए बुलावा आता है। जो अभ्यर्थी mains clear करते है, केवल उन्हीं को Personal interview के लिए आयोग call करता है। परीक्षा के इन तीनों चरणों में हासिल अंकों के आधार पर ही लोक सेवा आयोग एक merit list तैयार करता है, जिसके आधार पर BDO पद पर selection होता है।

लिखित Preliminary Exam –

जैसा कि हम आपको इस पोस्ट में ऊपर बता चुके हैं कि BDO पद के लिए आवेदन करनें वाले अभ्यर्थियों को लोक सेवा आयोग की ओर आयोजित की जाने वाली Preliminary परीक्षा में सम्मिलित होना पड़ता है। बता दें कि इस परीक्षा में 2 paper होते हैं। पहला paper General Studies का होता है, जबकि दूसरा paper CST। इन दोनों papers को हल करने के लिए दो घंटे का समय मिलता है। पहले paper में 150, जबकि दूसरे में 100 प्रश्न होते हैं। दूसरा paper CST एक qualifying paper है। इसमें पास होने के लिए अभ्यर्थी को केवल 33 प्रतिशत अंक लाने होते हैं।

पेपर विषय टोटल अंक टोटल प्रश्न
पेपर -1 जनरल स्टडीज 200 150 प्रश्न
पेपर -2 सीएसएटी 200 100 प्रश्न

Preliminary exam paper-1 (General Studies) का syllabus –

  • राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय महत्व तथा वर्तमान घटनाक्रम
  • भारतीय इतिहास और भारतीय राष्ट्रीय आंदोलन
  • भारतीय और विश्व भूगोल, भारत की भौतिक, सामाजिक, आर्थिक स्थिति
  • भारतीय राजनीति और प्रशासन – संघटन, राजनीतिक प्रणाली, पंचायती राज, सार्वजनिक नीति, अधिकार मुद्दे
  • आर्थिक और सामाजिक विकास-सतत विकास, गरीबी, समावेश, जनसांख्यिकी, सामाजिक क्षेत्र की पहल
  • पर्यावरण पारिस्थितिकी, जैव-विविधता और जलवायु परिवर्तन पर सामान्य मुद्दे ( जिन्हें विषय विशेषज्ञता आवश्यकता नहीं होती)
  • सामान्य विज्ञान

Preliminary exam paper-2 (CST) का syllabus –

  • सामान्य मानसिक क्षमता से सम्बंधित प्रश्न
  • तार्किक तर्क और विश्लेषणात्मक क्षमता से सम्बंधित प्रश्न
  • निर्णय लेने और समस्या सुलझाना
  • संचार कौशल सहित पारस्परिक कौशल
  • (इस paper में कक्षा 10 के स्तर तक preliminary maths, general english के साथ ही इसी level के general हिंदी से जुड़े प्रश्न होंगे।)

Main Exam paper-1 (General Studies) –

  • भारत का इतिहास – प्राचीन, मध्यकालीन, आधुनिक
  • भारतीय राष्ट्रीय आंदोलन और भारतीय संस्कृति
  • भारतीय संदर्भ में जनसंख्या, पर्यावरण और शहरीकरण
  • विश्व भूगोल, भारत का भूगोल और इसके प्राकृतिक संसाधन
  • राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय महत्व की वर्तमान घटनाएं
  • भारतीय कृषि, व्यापार और वाणिज्य

Main Exam paper-2 (General Studies) –

  • भारतीय राजनीति (इसमें भारत और भारतीय संविधान में राजनीतिक व्यवस्था से सम्बंधित प्रश्न पूछें जायेंगे)
  • भारतीय अर्थव्यवस्था (इस भाग में भारत में आर्थिक नीति की व्यापक विशेषताओं के बारें में प्रश्न पूछें जायेंगे)
  • सामान्य विज्ञान (विज्ञान सहित भारत के विकास में विज्ञान और प्रौद्योगिकी की भूमिका)
  • सामान्य मानसिक क्षमता
  • सांख्यिकीय विश्लेषण, आलेख और आरेख

एक BDO का वेतन क्या होता है –

दोस्तों, आप BDO बनने की इच्छा तो रखते हैं, लेकिन क्या आपको जानकारी है कि एक खंड विकास अधिकारी का वेतनमान कितना होता है? हम आपको बताते हैं। इस प्रतिष्ठित  पद के लिए छठें वेतन आयोग के पे-बैंड-3 अर्थात रु. 15600- रु. 39100 + ग्रेड पे रु. 5400 के अनुसार वेतन दिए जाने का प्रावधान किया गया है। जहाँ सातवां वेतन आयोग लागू हो चुका है वहां समकक्ष ग्रेड के मुताबिक ही BDO पद पर वेतन दिया जाता है। यह वेतन इतना होता है कि एक व्यक्ति प्रतिष्ठा के साथ अपने करियर की इसे बेहतर शुरुआत मान सकता है।

इसके अलावा इस पद पर दी जाने वाली वहां आदि सुविधाएँ तो अलग से हैं ही। समय-समय पर वेतन पुनरीक्षण और अन्य सभी विभागों की तरह निश्चित समय अंतरालों पर प्रमोशन का भी मौका मिलता है।  लेकिन जैसा कि  हम पहले बता चुके हैं कि छात्र सरकारी नौकरी की सुरक्षा और प्रतिष्ठा से प्रभावित होकर इस पद के लिए आवेदन करने को आगे आते हैं। ज्यादातर परिवारों में आज भी एक बच्चे को सरकारी नौकरी में भेजने की इच्छा माँ-बाप पीला हुए रहते हैं।

विभाग refer करता है पद, PSC निकालता  है notification –

अब हम आपको बताएंगे कि BDO के पदों को भर्ती के लिए refer कौन करता है। तो जान लीजिये कि  ग्राम्य या ग्रामीण विकास विभाग अपनी जरूरतों को देखते हुए राज्य लोक सेवा आयोग यानी PSC को अपने पदों के बारे में सूचना भेजता है, जिसके आधार पर PSC notification निकालता है। इसमें भर्ती किये जाने वाले पदों की संख्या, उनके लिए जरूरी शैक्षिक और आयु सम्बंधित योग्यता, वेतनमान, exam process वगैरह सभी बिन्दुओं की जानकारी रहती है। इसके लिए सारी जानकारी सम्बंधित राज्य के लोक सेवा आयोग की website पर भी upload कर दी जाती है।

BDO के exam में कैसे सफलता पायें –

BDO की परीक्षा में कामयाबी हासिल करने के लिए अन्य किसी भी परीक्षा की ही तरह कड़ी मेहनत की ही जरूरत है। इसका कोई भी विकल्प नहीं। सबसे पहली बात अपनी General Knowledge दुरुस्त करें। खास तौर पर current affairs पर ध्यान दें। इसके लिए हर रोज एक national और एक local news paper पढ़नें की आदत डाल लें। इसके साथ ही international घटनाक्रम पर नज़र रखें। एक हिंदी और एक english news paper पढना फायदेमंद रहेगा। खुद को tv channels की news देखकर भी update रख सकते हैं।

इसके अलावा किसी भी subject की फौरी जानकारी के लिए internet की मदद ले सकते हैं। सभी news channels की websites इन दिनों पल पल के updates flash करती हैं। notification alert लगा सकते हैं और मौका मिलने पर एक नज़र इन पर डाल सकते हैं self study को तरजीह दें। विषय से सम्बंधित किताबों का अध्ययन करें। जरूरी points नोट करें और foot notes तैयार करें।

BDO परीक्षा की तैयारी करने वाले coaching संस्थान कितने मददगार –

बहुत से coaching संस्थान इन दिनों BDO के exam के लिए तैयारी भी कराते हैं। ये उस नज़रिए से फायदेमंद होते हैं कि Exam paper का pattern जानकर उसके हिस्साब से अपनी तैयारी को आगे बढाया जा सकता है। इसके अलावा निर्धारित समय में paper को हल करने की प्रैक्टिस बहुत काम आती है। coaching के जरिये आपको यह तो जानकारी मिलती ही है कि paper को किस तरह solve करना है, लेकिन इसके साथ ही यह भी पता चलता कि सवालों का जवाब देते हुए आपको कौन सी गलतियाँ नहीं करनी हैं। इसके अलावा extra class भी कई संस्थान लगते हैं, भावी प्रतियोगियों की तैयारी जांचने के लिए।

ये भी बहुत लाभकारी सिद्ध होती हैं। लेकिन फायदा तभी है, जब आप खुद भी यहाँ पूरा ध्यान दें और जहाँ अटक रहे हों, उसे coaching के मास्टर से clear करें। coaching में केवल टाइम पास करने के लिए नाम लिखवा लेना किसी काम न आएगा। जो यहाँ पढ़ें उसे घर पहुंचकर दोहराएँ भी और मुश्किल या समझ न आने वाले पार्ट्स को underline करें। अगले दिन coaching में उस हिस्से को जरूर समझ लें। subjects के notes लेकर step – by – step आगे बढ़ें।

कोशिश करने से पा सकते हैं कामयाबी –

BDO बनने का अगर आपने भी सपना देखा है तो वह थोड़ी सी कोशिश से पूरा हो सकता है। खास बात यह कि आपकी तैयारी मजबूत हो। इसके लिए जरूरी है कि आप कम से कम साल भर का समय अपनी तैयारी को दें। graduation से पहले ही अगर अपने अपना target BDO बनना निर्धारित कर लिया है तो बेहतर यही रहेगा कि graduation से पहले ही तैयारी भी शुरू कर दें। पुराने papers को solve करने का तरीका सबसे कारगर रहता है। एक तो paper हल करने की प्रैक्टिस होती है, दूसरे pattern की समझ हो जाती है। आप अपने क्षेत्र के BDO से मिलकर भी exam clear करने से जुड़े tips हासिल कर सकते हैं। यह बेहद कारगर साबित होगा।

इसके साथ ही जरूरी यह भी है कि आप पढने का एक निर्धारित रूटीन बनाएं। यह समय 2 घंटे का भी हो सकता है और 4 घंटे का भी। आपकी सहूलियत के हिसाब से इसे निर्धारित करें। time table बनाकर focus होकर तैयारी करें। general studies को पक्का करें, resaoning को भी दुरुस्त करें। यह मान लें कि आपका आप ही जैसे लाखों युवाओं से परीक्षा में मुकाबला होगा। चयन सबका नहीं हो सकता। आगे वही जाएगा, जिसकी तैयारी उम्दा होगी।

बेहतर planning करने के साथ ही उसका execution भी करें। Time table बनाकर उसे follow जरूर करें। ऐसा न हो कि आप सुबह जल्दी उठकर पढ़ने के लिए alarm लगाएं, alarm तो बजे लेकिन आप उठें ही नहीं। discipline के साथ तैयारी में जुटें। Personal interview में खास तौर पर आपके personality traits आपका attitude जांचा जाता है। इसलिए इस पक्ष को भी नज़र अंदाज़ न करें। planning के साथ तैयारी करेंगे, तभी आप यह exam clear करने का और BDO बनने का अपना सपना पूरा कर पाएंगे।

Leave a Comment