बेसिक शिक्षा अधिकारी कैसे बनें? सैलरी, कार्य, अधिकार और BSA परीक्षा की तैयारी कैसे करें?

बेसिक शिक्षा अधिकारी के कार्य और अधिकार (BSA Work & Rights)

सरकारी नौकरी को समाज में आज भी प्रतिष्ठा की नजर से देखा जाता है। यही वजह है कि मामूली सी सरकारी नौकरी पाने के लिए भी लाखों आवेदकों की लाइन लगी होती है। और पद अगर अधिकारी वर्ग का है तो पूछिए मत। एक अनार सौ बीमार वाली स्थिति उत्पन्न हो जाती है। दोस्तों, ऐसे ढेरों युवा हैं, जो ग्रेजुएशन होने के बाद शिक्षा विभाग में टीचर बनते हैं, तो कई युवाओं का रुझान शिक्षा विभाग के प्रशासनिक पदों की ओर होता है। बेसिक शिक्षा अधिकारी का पद भी एक ऐसा ही पद होता है, जिसके लिए लाखों की संख्या में युवा आवेदन करते हैं। 

दोस्तों क्या आपको मालूम है कि बेसिक शिक्षा अधिकारी कौन होता है? वह क्या करता है यानी उसके कार्य क्या क्या हैं? बेसिक शिक्षा अधिकारी यानी बीएसए कैसे बना जा सकता है? इस पद पर भर्ती के लिए तैयारी किस तरह से करते हैं? यदि आपका जवाब नहीं में है तो कोई चिंता वाली बात नहीं। आज हम आपको इस Post के माध्यम से बेसिक शिक्षा अधिकारी पद से जुड़ी जानकारी मुहैया कराएंगे। उम्मीद है कि यह जानकारी आपको पसंद आएगी। आइए शुरू करते हैं –

बेसिक शिक्षा अधिकारी कौन होता है? Who is a Basic Education Officer?

बेसिक शिक्षा अधिकारी कैसे बनें? सैलरी, कार्य, अधिकार और BSA परीक्षा की तैयारी कैसे करें?

दोस्तों, बेसिक शिक्षा अधिकारी का पद विभिन्न राज्यों के शिक्षा विभाग में बेसिक शिक्षा का जिला स्तरीय प्रशासनिक पद है। जैसा कि नाम से ही स्पष्ट है, यह पद प्रशासनिक कार्यों से संबंधित है। यह पद ग्रुप (बी) यानी गजेटेड लेवल का पद है। दोस्तों, गजेटेड यानी राजपत्रित पद होने की वजह से भी युवा इस पद की ओर बड़ी संख्या में इस पद की ओर आकर्षित होते हैं।

बेसिक शिक्षा अधिकारी क्या काम करतें है? What are the duties of a Basic Education Officer?

अब हम आपको बताएंगे कि बेसिक शिक्षा अधिकारी क्या काम करता है। दोस्तों, एक बेसिक शिक्षा अधिकारी अपनी तैनाती के जिले में बेसिक शिक्षा से जुड़े सारे प्रशासनिक कार्यो की देखरेख करता है। वह जिले के सरकारी विद्यालय में अध्यापकों की नियुक्ति करता है। अध्यापकों की उपस्थिति देखता है। बेसिक शिक्षा के विद्यालयों का निरीक्षण करता है और अनियमितता की स्थिति में कार्रवाई करता है। दंड का निर्धारण करता है। 

साथियों, आपको बता दें कि बेसिक शिक्षा से जुड़ी नीतियों और कार्यक्रमों का समुचित पालन सुनिश्चित करना भी बेसिक शिक्षा अधिकारी का ही काम है। अगर एक नजर में देखें तो उसकी यह जिम्मेदारी है-

  • सभी प्राथमिक, जूनियर हाईस्कूलों पर प्रशासकीय नियंत्रण।
  • बेसिक शिक्षा निधि का लेखा-जोखा तैयार कराना। इसमें कोई कमी दिखे तो उसकी निगरानी करना और उसे दूर कराना।
  • अराजपत्रित अधिकारियों के बीच किसी भी तरह के विवाद की जांच करना और समुचित कार्रवाई का निर्धारण।
  • विद्यालयों का निरीक्षण करना तथा अनियमितता या लापरवाही पाए जाने पर उचित कार्रवाई करना।
  • सभी अधीनस्थ कर्मचारियों के वेतन वितरण को मंजूरी देना।
  • सभी अधीनस्थ कर्मचारियों के अवकाश के आवेदन पर विचार करना। अवकाश को मंजूरी देना।

बेसिक शिक्षा अधिकारी का वेतन क्या होता है? What is the salary of a Basic Education Officer?

आइए, अब हम आपको बेसिक शिक्षा अधिकारी के वेतन की जानकारी दें। एक बेसिक शिक्षा अधिकारी को वेतन आयोग के अनुसार वेतन का भुगतान होता है। यदि छठे वेतन आयोग की बात करें तो पे बैंड- 3 में 15600- 39100 ग्रेड पे 5400 के अनुरूप वेतन मिलता है। 

इसके साथ ही साथ भत्ता जिसमें डीए, एचआरए आदि शामिल है, मिलते हैं। दोस्तों, आपको यह भी बता दें कि हमारे देश के कई राज्यों में सातवां वेतन आयोग लागू है। वहां बेसिक शिक्षा अधिकारी सातवें वेतन आयोग के अनुसार वेतन का अधिकारी होगा। 

बेसिक शिक्षा अधिकारी पद की परीक्षा कौन कराता है? Who conducts the examination for the post of Basic Education Officer?

बेसिक शिक्षा अधिकारी के पद के लिए चयन सिविल सेवा परीक्षा के माध्यम से होता है। विभिन्न राज्यों में संबंधित प्रदेशों के राज्य लोक सेवा आयोग इस परीक्षा का आयोजन कराते हैं। इससे पहले उसकी ओर से इस संबंध में एक अधिसूचना विज्ञापन जारी किया जता है, जिसमें इस पद से संबंधित विभिन्न जैसे शैक्षिक, आयु संबंधी योग्यता, पद संख्या, आवेदन तिथि आदि की जानकारी दी जाती है, जिसके आधार पर अभ्यर्थी इस पद पर आवेदन करता है। इसके लिए सारी जानकारी संबंधित राज्य लोक सेवा आयोग की वेबसाइट पर दी गई होती है। 

बेसिक शिक्षा अधिकारी परीक्षा प्रक्रिया क्या है? What is the basic education officer exam pattern?

जैसा कि हम आपको ऊपर बता चुके हैं कि बेसिक शिक्षा अधिकारी पद के लिए राज्य लोक सेवा आयोग परीक्षा का आयोजन करता है। यह परीक्षा तीन चरणों में आयोजित की जाती है। आइए, अब आपको क्रमबद्ध तरीके से बताते हैं कि यह तीन चरण कौन कौन से हैं-

1-प्रारंभिक परीक्षा – Preliminary Examination –

परीक्षा के पहले चरण में एक प्रारंभिक परीक्षा होती है। इसमें ऑब्जेक्टिव या बहुविकल्पीय प्रश्न (multiple choice questions) यानी MCQ आते हैं।

2-लिखित यानी मुख्य परीक्षा – Written i.e. Main Examination –

प्रारंभिक परीक्षा को पास करने वालों को लिखित मुख्य परीक्षा में शामिल होने को बुलावा पत्र भेजा जाता है। इस लिखित मुख्य परीक्षा को conventional परीक्षा भी पुकारा जाता है।

3-साक्षात्कार मतलब व्यक्तित्व परीक्षण- Interview means Personality Test

लिखित परीक्षा का चरण सफलतापूर्वक संपन्न करने वालों को इंटरव्यू के लिए बुलावा भेजा जाता है। इसे personality test भी पुकारा जाता है। इंटरव्यू clear करने पर संबंधित अभ्यर्थियों को नियुक्ति पत्र भेज दिया जाता है।

वैकल्पिक विषय में से करना होता है चुनाव –

लिखित मुख्य परीक्षा में तीन आवश्यक विषय होते हैं। इनमें सामान्य हिंदी, सामान्य अंग्रेजी और सामान्य ज्ञान की परीक्षा होती है। अभ्यर्थियों को वैकल्पिक विषय के रूप में किसी एक विषय का चयन करना होता है। इनसे संबंधित सवाल परीक्षा में उससे पूछे जाते हैं। अभ्यर्थी को जिन विषयों में से चुनाव करना होता है, उसमें शामिल हैं-

कृषि, रसायन विज्ञान, इंजीनियरिंग, फॉरेस्ट्री, हॉर्टिकल्चर, कंप्यूटर एप्लीकेशन, जियोलॉजी, गणित सांख्यिकी, जूलॉजी।

बेसिक शिक्षा अधिकारी परीक्षा की तैयारी कैसे करें? How to prepare for Basic Education Officer Exam?

अब हम आपको बताएंगे कि आप इस परीक्षा के लिए तैयारी कैसे कर सकते हैं- 

  • मित्रों, जैसे कि हम ऊपर बता चुके हैं कि अनिवार्य विषय के तहत सामान्य ज्ञान के भी सवाल पूछे जाएंगे। ऐसे में आप अपनी सामान्य ज्ञान से जुड़ी जानकारी, अपने करंट अफेयर्स को दुरुस्त रखें। इसके लिए आप प्रतिदिन कोई न्यूज़ चैनल देखें। अखबारों का अध्ययन करें और बहुत अच्छा होगा अगर आप इस के नोट्स बनाएं। 
  • पुराने साल के प्रश्न पत्र हल करें। इससे आपको जहां सवालों का पैटर्न पता चलेगा, वहीं आपकी प्रश्न पत्र हल करने की स्पीड भी बढ़ेगी। लगातार प्रैक्टिस से आपको फायदा होगा।
  • इंटरनेट पर यूट्यूब वीडियो के जरिए आप विशेषज्ञ टिप्स हासिल कर सकते हैं। Mock test में शामिल हो सकते हैं। विभिन्न प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कराने वाली मैगजीन की मदद ले सकते हैं।
  • इंटरव्यू यानी personality test में खरा उतरने के लिए इंटरव्यू में सफल अभ्यर्थियों से मिलकर बात कर उनके टिप्स जान सकते हैं। Hypothetical सवालों के जवाब देकर अभ्यास कर सकते हैं।
  • वैकल्पिक विषय का चयन अपनी रुचि के आधार पर करें। इससे आपको संबंधित विषय को पढ़ने में आसानी होगी और निश्चित रूप से आप अपना जवाब भी पुख्ता तरीके से दे सकेंगे।
  • और, अब सबसे अहम बात। दोस्तों, वह बात यह है कि आपको इस पद की परीक्षा के लिए निर्धारित सिलेबस लेकर उसी के अनुसार तैयारी करनी चाहिए। सिलेबस पूरा कवर करें, इस बात का ध्यान रखें। जहां तैयारी में परेशानी हो, उसके लिए इंटरनेट की सहायता ले सकते हैं। आवश्यक हिंदी के लिए भी इसके जरिए तैयारी कारगर होगी।

किस आयु वर्ग के अभ्यर्थी Apply कर सकते हैं? Which age group candidates can apply

अब हम आपको बताते हैं कि किस उम्र के लोग इस परीक्षा के लिए आवेदन कर सकते हैं। तो साथियों, इस परीक्षा के लिए आवेदन करने के लिए अभ्यर्थी की आयु 21 वर्ष से 40 वर्ष के बीच होनी चाहिए। यानी अभ्यर्थी की आयु 1 जुलाई को 40 वर्ष होनी चाहिए। आपको यह भी जानकारी दे दें कि आरक्षित वर्ग को नियमानुसार छूट का प्रावधान किया गया है। यह अलग अलग राज्यों में अलग अलग है।

बेसिक शिक्षा अधिकारी बनने को आवश्यक शैक्षिक योग्यता क्या है? What is the educational qualification required to become a Basic Education Officer?

अब आपको हम यह बताएंगे बेसिक शिक्षा अधिकारी बनने के लिए शैक्षिक योग्यता क्या है। तो साथियों, आप जान लीजिए कि इसके लिए किसी भी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय या संस्थान से ग्रेजुएशन यानी स्नातक की डिग्री जरूरी है। यानी कि यह डिग्री या इसके समकक्ष कोई भी उपाधि हासिल कोई भी युवा इसके लिए आवेदन कर सकता है।

जैसा कि हम बता चुके हैं कि बीएसए यानी बेसिक शिक्षा अधिकारी का पद प्रशासनिक पद है, ऐसे में कोई भी चुके अनियमितता होने पर संबंधित जिला अधिकारी उस पर कार्रवाई का अधिकार रखते हैं। बहुत दूर जाने की जरूरत नहीं। अभी दो ही महीने पहले परीक्षा के दौरान कक्ष निरीक्षकों की कमी होने पर उत्तर प्रदेश में एक जिले के डीएम ने एक बेसिक शिक्षा अधिकारी से जवाब तलब किया। निरीक्षण के दौरान डीएम ने पाया था कि परीक्षा के दौरान शिक्षकों की कक्ष की कमी की वजह से मॉनिटरिंग ढंग से नहीं हो पा रही। 

इसके अलावा कार्रवाई में अनियमितता को लेकर भी कई बेसिक शिक्षा अधिकारी विवादों के लपेटे में आते हैं। उन पर बहुधा पक्षपात के आरोप भी लगते रहे हैं और कई के खिलाफ जांच बैठे जाने पर शिकायत सत्य पाए जाने पर उनके खिलाफ कार्रवाई भी की जाती रही है। विभाग ही कई संबंधित मामलों में जांच बिठाता है और इसके बाद रिपोर्ट जिले में संबंधित उच्च प्रशासनिक अधिकारी को भेजी जाती है, जो आगे की कार्रवाई निर्धारित करता है। दोस्तों, इसके बावजूद अच्छी प्रशासनिक योग्यता वाले व्यक्ति के लिए इस क्षेत्र में आगे बढ़ने और ऊंचाई पर जाने की बहुत संभावना है। 

अंतिम शब्द…

दोस्तों, इस post में हमने आपको बताया कि बेसिक शिक्षा अधिकारी क्या होता है। आप बेसिक शिक्षा अधिकारी कैसे बन सकते हैं और आप इस परीक्षा के लिए तैयारी कैसे कर सकते हैं। दोस्तों, यदि आप इस post में दिए गए बिंदुओं पर अमल कर लें तो आप भर्ती परीक्षा में उत्तीर्ण हो सकते हैं। साथियों, अगर आप तैयारी के संबंध में कुछ और जानना चाहते हैं तो उसके लिए नीचे दिए गए comment box में comment करके हमें भेज सकते हैं। हम आपको संबंधित जानकारी मुहैया कराने का पूरा पूरा प्रयास करेंगे। 

इसके अलावा अगर कोई सुझाव आप हमें देना चाहते हैं तो उसके लिए भी आपका स्वागत है। आप नीचे दिए गए comment box में comment करके अपना सुझाव हमें भेज सकते हैं। हमारी कोशिश रहेगी कि हम उस पर अमल कर सकें। अगर किसी अन्य विषय के बारे में आप जानकारी चाहते हैं तो वह भी आप हमें लिखकर भेज सकते हैं। इसके लिए आपको comment box में comment के जरिए हमें भेजना होगा। हमको आपकी प्रतिक्रियाओं का हमेशा की तरह शिद्दत से इंतजार रहेगा। ।।धन्यवाद।।

Spread the love

अनुक्रम

Leave a Comment