बैंक पासबुक खो जाने पर एप्लीकेशन कैसे लिखें? नई पासबुक के लिए आवेदन

|| बैंक पासबुक खो जाने पर हिंदी में आवेदन कैसे लिखें? How to write application in hindi for bank passbook, when it is lost? एप्लीकेशन तो पुलिस स्टेशन फॉर लोस्ट ऑफ़ बैंक पासबुक इन हिंदी, आपकी पास-बुक खो गई है। इसकी सूचना देते हुए बैंक अधिकारी को पत्र लिखिए, बैंक ऑफ बड़ौदा एम पासबुक ||

इन दिनों प्रत्येक व्यक्ति का बैंक खाता है। सरकार ने भी इसके लिए अपनी ओर से पूरा प्रयास किया है। जैसे उसने प्रधानमंत्री जन धन योजना का शुभारंभ किया, जिसके माध्यम से देश भर में ऐसे लोगों को बैंक खाते से आच्छादित किया गया, जिनके पास कोई खाता नहीं।

बैंक खाते में कितनी राशि जमा हो अथवा इसमें से कितनी राशि निकाली गई है, इसका ब्योरा संबंधित व्यक्ति की बैंक पासबुक में ही दर्ज होता है। कई बार पर्याप्त सावधानी बरतने के बावजूद पासबुक गुम हो जाती है। खो जाती है।

यदि आपकी बैंक पासबुक भी खो गई है और आप यह नहीं जानते कि नई पासबुक लिखने के लिए आवेदन कैसे लिखें तो हम आपको इसकी जानकारी देंगे। आप पूरी पोस्ट अंत तक ध्यानपूर्वक पढ़ें-

बैंक पासबुक की आवश्यकता क्यों पड़ती है-

किसी भी बैंक खाताधारक (bank account holder) को बैंक पासबुक (Bank passbook) की आवश्यकता इस लिए पड़ती है, क्योंकि इसमें उसके लेन-देन का सारा ब्योरा होता है। इसके अतिरिक्त आपके बैंक खाते को कन्फर्म करने के लिए भी पासबुक का इस्तेमाल किया जाता है।

आपने देखा होगा कि किसी भी प्रकार की सब्सिडी (subsidy) लेने के लिए, विभिन्न योजनाओं (schemes) का लाभ उठाने के लिए भी आपको आपको अपनी बैंक पासबुक की डिटेल्स (details) देनी पड़ती हैं।

बैंक पासबुक खो जाने पर एप्लीकेशन कैसे लिखें? नई पासबुक के लिए आवेदन

बैंक पासबुक खोने पर सबसे पहले क्या करना होगा?

बैंक पासबुक खो जाने पर सबसे पहले बैंक खाताधारक को अपने बैंक की नजदीकी शाखा में जाकर सूचना देनी होगी। यहां से आपको एक फ़ार्म लेना होगा। इसमें आपको पासबुक खोने का कारण साफ साफ लिखकर आवेदन करना होगा।

पासबुक खो जाने पर हिंदी में आवेदन कैसे लिखें-

यह हमने आपको अभी बताया कि बैंक पासबुक खो जाने पर आपको अपनी नजदीकी बैंक शाखा (bank branch) में जाकर इस संबंध में सूचना (information) देनी होगी। इसके साथ ही नई पासबुक लेने के लिए आवेदन (application) लिखना होगा।

अब हम आपको बताएंगे कि यदि आप घर में ही सादे कागज (simple paper) पर आवेदन करना चाहें तो आवेदन कैसे लिख सकते हैं? एक साधारण आवेदन का सैंपल (sample) इस प्रकार से है-

सेवा में,
शाखा प्रबंधक
……..(यहां बैंक का नाम लिखें)
……..(यहां बैंक का पता लिखें)

विषय : बैंक पासबुक खोने के संबंध में।

महोदय,
निवेदन यह है कि प्रार्थी (यहां अपना नाम लिखें) का आपकी बैंक शाखा में खाता (एकाउंट नंबर लिखें) है। दुर्भाग्यवश मेरी पासबुक गुम/खो गई है। निवेदन है कि कृपया मुझे नई पासबुक जारी करने का कष्ट करें।

धन्यवाद।

प्रार्थी
नाम……….
पता………..
बैंक खाता संख्या….
मोबाइल नंबर…….
हस्ताक्षर………

तिथि…..

आवेदन लिखने के बाद आपको क्या करना होगा-

अब आप सोच रहे होंगे कि बैंक पासबुक खोने का आवेदन पत्र लिखने के पश्चात आपको क्या करना होगा? हम आपको स्पष्ट कर देते हैं। आवेदन पत्र लिखने के बाद आपको अपने आधार कार्ड (aadhar card) की फोटो कापी (photo copy) के साथ इसे अपने बैंक की नजदीकी शाखा (nearest branch) में जमा करना होगा।

वहां आपके खाते का वेरिफिकेशन (verification) करने के बाद आपको डुप्लीकेट पासबुक (duplicate pass book) जारी कर दी जाएगी।

क्या बैंक पासबुक खोने के आवेदन के साथ कोई दस्तावेज भी जमा करना होता है-

बैंक पासबुक खोने के आवेदन के साथ साधारण रूप से पहचान पत्र के रूप में आधार कार्ड की फोटो कापी जमा करके काम चल जाता है। लेकिन कई सरकारी/सार्वजनिक बैंकों (public banks) ने कुछ अलग प्रावधान (provision) किया है।

वे बैंक पासबुक खोने के आवेदन के साथ ही इस संबंध की सूचना प्राथमिकी यानि एफआईआर (FIR) की कॉपी भी मांगते हैं।

पासबुक खोने पर एफआईआर कैसे दर्ज कराएं-

जैसा कि हमने आपको बताया, बैंक पासबुक खोने पर आपको एफआईआर की कॉपी भी लगानी होगी। इसके लिए पासबुक खोने पर आपको अपने नजदीकी पुलिस स्टेशन में जाकर इस संबंध में सूचित करना होगा। आपको एक कागज पर पूरा मामला लिखना होगा, जिसका सैंपल कुछ यूं होगा-

सेवा में,
थानाध्यक्ष
थाने का नाम लिखें….
पूरा पता लिखें….

विषय : पासबुक खोने के संबंध में।

महोदय,

निवेदन इस प्रकार है कि प्रार्थी (अपना नाम लिखें) का बैंक एकाउंट (खाता संख्या लिखें) …(बैंक का नाम लिखें) में है। प्रार्थी की बैंक पासबुक कहीं खो गई है। कृपया इस संबंध में सूचना प्राथमिकी दर्ज करने का कष्ट करें।

धन्यवाद।

प्रार्थी
(अपना नाम लिखें)
पता……
मोबाइल नंबर….

तिथि….

इस पर थानाध्यक्ष के हस्ताक्षर कराने होंगे। फिर सूचना प्राथमिकी की फोटो कापी पासबुक गुम होने के आवेदन के साथ लगानी होगी।

क्या पासबुक जारी करने के लिए कोई शुल्क भी लिया जाता है-

यह एक ऐसा प्रश्न है, जो उस प्रत्येक व्यक्ति के दिमाग में आता है, जिसकी बैंक पासबुक गुम/खो हो गई हो। यहां आपको साफ कर दें बहुत से बैंक इसके लिए मामूली सा शुल्क (nominal fee) वसूलते हैं तो बहुत से कोई चार्ज (charge) नहीं लेते।

अब पासबुक अपडेशन की आधुनिक सुविधाएं उपलब्ध-

एक जमाना था, जब पासबुक अपडेट तक कराने के लिए खाताधारकों को लंबी लाइनों में लगना पड़ता था। उनका नंबर घंटों में आता था। बैंक या डाकघर में एकाउंटेंट अपने हाथ से पेन के द्वारा खाताधारक के लेन देन का ब्योरा पासबुक में चढ़ाया करते थे।

अब तकनीक के विकास के साथ बैंकों में पासबुक अपडेशन (passbook updation) की भी आधुनिक सुविधा (modern facility) उपलब्ध है। केवल मशीन में रखकर पासबुक को चुटकियों में अपडेट (update) किया जा सकता है। बहुत से बैंकों ने एटीएम (ATM) केबिन में ही पासबुक अपडेशन की सुविधा भी मुहैया कराई है।

इंटरनेट बैंकिंग (internet banking) के माध्यम से कभी भी आनलाइन (online) अपनी पासबुक को देखा जा सकता है। आसानी से पता किया जा सकता है कि आपके बैंक खाते में कितनी राशि का लेन देन हुआ है। कितनी राशि जमा की गई है तथा कितनी राशि निकाली गई है।

क्या पासबुक देखने के लिए कोई मोबाइल एप भी है-

विभिन्न बैंकों ने अपने ग्राहकों (customers) की सुविधा को देखते हुए मोबाइल एप (mobile app) लांच (launch) किए हैं। ग्राहक इन एप के जरिए आराम से अपने मोबाइल फोन पर ही पासबुक देख सकते हैं। इन्हें mpassbook नाम दिया गया है।

जैसे देश के बड़े सरकारी बैंक पंजाब नेशनल बैंक (punjab national bank) यानि पीएनबी (PNB) की बात करें तो उसने PNB mPassBook मोबाइल एप लांच किया है।

यह एप एंड्रॉयड यूजर्स (android users) के लिए गूगल प्ले स्टोर (Google Play Store) पर उपलब्ध है, इसे वहां से अपने फोन में डाउनलोड (download) किया जा सकता है। केवल 6.5 एमबी के इस एप को यूजर्स ने 4.4 स्टार रेटिंग दी है, जिसे बहुत बेहतर माना जा सकता है।

अभी तक 10 मिलियन (million) से अधिक लोग इसे डाउनलोड कर चुके हैं। इसी प्रकार अन्य तमाम सरकारी एवं निजी बैंकों की ओर से इस प्रकार के मोबाइल एप लांच किए गए हैं।

इंटरनेट बैंकिंग आने के बाद क्या पासबुक के इस्तेमाल में कमी आई है?

यह सच है कि नेट बैंकिंग (net banking) के प्रादुर्भाव के बाद खाताधारक पासबुक का इस्तेमाल कर रहे हैं। वे केवल अपनी यूज़र आईडी (user id) एवं पासवर्ड (password) से लागिन (login) कर घर बैठे कहीं भी अपने लेन देन का सारा ब्योरा देख सकते हैं। उसका प्रिंट ले सकते हैं।

ऐसे में वे पासबुक अपडेट कराने के लिए बैंक का रुख करने से बचते हैं। जब तक बहुत अधिक आवश्यकता न हो, वे पासबुक का इस्तेमाल करने से भी परहेज बरतते हैं।

माइनर्स एकाउंट की पासबुक कौन अपडेट कराता है?

लोग अक्सर अपने बच्चों की भविष्य की आवश्यकताओं जैसे-उनकी उच्च शिक्षा, विवाह आदि के लिए माइनर्स एकाउंट (minors account) खोलते हैं। 18 वर्ष की आयु पूरी होने के बाद ये एकाउंट संबंधित व्यक्ति के सेविंग अकाउंट (savings account) में बदल जाते हैं।

अब वे स्वयं इन खातों का संचालन कर सकते हैं। जब तक वे बालिग (mature) नहीं हो जाते, उनके बैंक खाते (bank account) का संचालन (operation) एवं पासबुक अपडेट (passbook update) जैसा कार्य उसके माता-पिता (parents) अथवा अभिभावक (guardian) द्वारा ही किया जाता है।

बैंक पासबुक खोने पर क्या करें?

बैंक पासबुक खोने पर नई पासबुक जारी करने के लिए आवेदन पत्र लिखें।

बैंक पासबुक खोने पर आवेदन कैसे लिखा जाता है?

हमने ऊपर पोस्ट में आपको पासबुक खोने पर आवेदन का सैंपल दिखाया है। आप वहां से देख सकते हैं।

क्या डुप्लीकेट पासबुक के लिए बैंक कुछ चार्ज भी करते हैं?

डुप्लीकेट पासबुक के लिए बहुत से बैंक मामूली सी फीस चार्ज करते हैं। बहुत नहीं भी करते।

बैंक पासबुक खोने का आवेदन लिखने के बाद क्या करें?

बैंक पासबुक खोने का आवेदन लिखने के बाद उसे बैंक में जाकर जमा कर दें।

क्या आवेदन के साथ कोई दस्तावेज भी लगाना आवश्यक है?

बहुत से सरकारी बैंक आवेदन के साथ बैंक पासबुक खोने की एफआईआर भी मांगते हैं।

क्या अपने मोबाइल पर एप के जरिए भी पासबुक चेक की जा सकती है?

जी हां, इस समय कई बैंक mPassBook मोबाइल एप इस्तेमाल कर रहे हैं। इन पर रजिस्ट्रेशन कर उपभोक्ता अपने मोबाइल पर अपनी बैंक पासबुक देख सकते हैं।

mPassBook एप कहां से डाउनलोड किया जा सकता है?

इस एप को गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड किया जा सकता है।

क्या अलग-अलग बैंकों के अलग-अलग एप हैं?

जी हां, जैसे पीएनबी ने PNB mPassBook मोबाइल एप अपने ग्राहकों की सुविधा को देखते हुए लांच किया है।

पूर्व में पासबुक कैसे अपडेट की जाती थी?

पूर्व में बैंकों में एकाउंटेंट अपने हाथ से पेन के द्वारा ग्राहकों के लेन देन का ब्योरा उनकी पासबुक में अपडेट करते थे।

क्या नेटबैंकिंग आने के बाद पासबुक के इस्तेमाल में कमी आई है?

जी हां, बैंकों की ओर से इस प्रकार का ट्रेंड देखने को मिला है। अब लोग कुछ ही क्लिक में लागिन से अपनी पासबुक देख लेते हैं।

उम्मीद है कि इस पोस्ट से आपके सामने स्पष्ट हो गया होगा कि बैंक पासबुक खो जाने पर हिंदी में आवेदन कैसे लिखें। यह विषय ऐसा है, जो प्रत्येक व्यक्ति से जुड़ा है। ऐसे में यह बेहतर होगा, यदि आप इस पोस्ट को अधिक से अधिक शेयर करें। आपकी इस पोस्ट को लेकर जो भी राय है, उससे हमें अवगत कराना न भूलें। धन्यवाद।

—————————

Contents show
Spread the love:

Leave a Comment

शेयर मार्किट से पैसे कैसे कमाए? जमीन का सरकारी रेट कैसे पता करें? ओटीटी प्लेटफॉर्म क्या है? OTT कैसे काम करता है? सरकारी बैंकों से लोन कैसे लें? इनकम टैक्स चोरी की शिकायत कैसे करें?