आयुष्मान सहकार योजना ऑनलाइन आवेदन, पात्रता, उद्देश्य | Ayushman Sahakar Yojana Apply Hindi

Ayushman Sahakar Yojana Apply In Hindi, आयुष्मान सहकार योजना ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन, लाभ व उद्देश्य, NCDC Ayushman Sahakar Yojana, आयुष्मान सहकार योजना के लाभ

आप जानते ही हैं कि भारत की 70 फीसदी जनसंख्या आज भी गांवों में ही निवास करती है। यहां स्वास्थ्य सेवाओं की हालत बदतर है। यह किसी से छिपा नहीं है। धनी मानी लोग शहरों के अस्पतालों में महंगा इलाज करा लेते हैं, लेकिन गांवों की आबादी अच्छी स्वास्थ्य सेवाओं के अभाव में बड़ी संख्या में अपने हाल मरने को मजबूर है। कोरोना संक्रमण काल में हालात बद से बदतर हो गए। ढेरों, ग्रामीण स्वास्थ्य सेवा के अभाव में दम तोड़ गए।

अब केंद्र सरकार ने आयुष्मान सहकार योजना का शुभारंभ किया है। इससे ग्रामीण इलाकों में स्वास्थ्य सेवाओं में सुधार की उम्मीद जताई जा रही है। दोस्तों, आज इस पोस्ट में हम आपको आयुष्मान सहकार योजना के संबंध में विस्तार से जानकारी देंगे। आइए, शुरू करते हैं-

आयुष्मान सहकार योजना का अर्थ – NCDC Ayushman Sahakar Yojana 2020

दोस्तों, आपको बता दें कि आयुष्मान सहकार योजना कृषि और किसान कल्याण मंत्रालय की पहल है। इस योजना का शुभारंभ 19 अक्टूबर, 2020 को कृषि राज्य मंत्री परसोत्तम रूपाला ने किया। उन्होंने इस योजना को ग्रामीण भारत में स्वास्थ्य सेवा पहुंचाने के तरीके में क्रांतिकारी बदलाव लाने वाली करार दिया। बता दें कि योजना का ब्लू प्रिंट शीर्ष स्वायत्त विकास वित्त संस्थान राष्ट्रीय सहकारी विकास निगम यानी एनसीडीसी ने तैयार किया है।

जैसा कि नाम से ही स्पष्ट है, यह आयुष्मान सहकार पर आधारित है। ग्रामीण क्षेत्रों में स्वास्थ्य सेवाओं में सुधार के लिए केंद्र सरकार हेल्थ केयर इंफ्रास्ट्र्क्चर बनाने में सहकारी समितियों को शामिल करेगी। इन समितियों के काम में सेवाओं की देखभाल का जिम्मा भी शामिल होगा। आपको बता दें कि एनसीडीसी कृषि उपज के उत्पादन, प्रोसेसिंग, मार्केटिंग, स्टोरेज, एक्सपोर्ट, इंपोर्ट, औद्योगिक माल पशु और अन्य कुछ अधिसूचित सेवाओं के लिए सहकारी समितियों के वित्त पोषण का कार्य करता है।

आयुष्मान सहकार योजना ऑनलाइन आवेदन, पात्रता, उद्देश्य | Ayushman Sahakar Yojana Apply Hindi

आयुष्मान सहकार योजना का उद्देश्य – The objective of Ayushman Sahakar Yojana

इसका उद्देश्य देश के ग्रामीण क्षेत्रों में स्वास्थ्य सेवाओं और सुविधाओं के बुनियादी ढांचे में सुधार करना है। चिकित्सा तंत्र को मजबूत करना है। इसके तहत राष्ट्र्ीय सहकारी विकास निगम ग्रामीण इलाकों में अस्पताल और मेडिकल काॅलेज खोलने के लिए सहकारी समितियों को दस हजार करोड़ का कर्ज मुहैया कराएगा। यह कर्ज उन्हें सस्ती और किफायती दरों पर उपलब्ध कराया जाएगा।

खुद एनसीडीसी के प्रबंध निदेशक संदीप नायक ने प्रेस कांफ्रेंस के माध्यम से मीडिया को इस संबंध में जानकारी दी। उन्होंने बताया कि आयुष्मान सहकार योजना का फोकस ग्रामीण क्षेत्रों में चिकित्सा सेवाओं के ढांचे को मजबूत बनाना है। कोरोना संकट के बाद से यह जरूरी हो गया है। देश में 16 लाख सहकारी संस्थाएं हैं, जो कृषि, एग्रो प्रोसेसिंग आदि क्षेत्रों में अच्छा कार्य कर रही हैं। आयुष्मान सहकार योजना के माध्यम से इन समितियों को चिकित्सा एवं दवा के क्षेत्र में कार्य के लिए किफायती लोन मुहैया कराए जाएंगे।

इन संस्थाओं को मेडिकल कालेज काॅलेज खोलने की भी अनुमति होगी। इससे ग्रामीण इलाकों में लोगों को बेहतर इलाज मिलना संभव हो पाएगा। इसके साथ ही यह योजना राष्ट्रीय स्वास्थ्य नीति-2017 पर भी ध्यान केंद्रित करेगी।

अभी तक 52 अस्पतालों का संचालन सहकारी संस्थाओं के जिम्मे –

दोस्तों, आपको बता दें कि इस समय में देश के कुल ऐसे 52 अस्पताल हैं, जिनके संचालन का जिम्मा सहकारी संस्थाएं उठा रही हैं। इन अस्पतालों में बिस्तरों की संख्या 5000 से भी अधिक है। लेकिन अभी तक कोई ऐसी योजना नहीं थी, जो स्वास्थ्य सेवाओं के लिए सहकारी संस्थाओं की मदद करे। आवेदन प्राप्त होने के साथ ही सहकारी संस्थाओं को लोन उपलब्ध कराने का कार्य प्रारंभ कर दिया जाएगा।

सरकार का मानना है कि जिन स्थानों पर सरकारी सेवाएं नहीं हैं या कम हैं, उन स्थानों पर निजी अस्पतालों और मेडिकल काॅलेजों की तुलना में सहकारी सेवाएं बेहतर विकल्प साबित हो सकती हैं। इन संस्थाओं के हाथों में संचालन होने से निजी क्षेत्र की तरह मनमानी नहीं हो सकेगी।

आयुष्मान सहकार योजना की खास बातें – Highlights of Ayushman Sahakar Scheme

  • इस योजना का लाभ केवल ग्रामीण क्षेत्रों को ही मिलेगा।
  • योजना के अंतर्गत एनसीडीसी की ओर से दस हजार करोड़ रूपये का कर्ज सहकारी समितियों को दिया जाएगा।
  • कोई भी सहकारी समिति, जिसके उप नियमों में स्वास्थ्य देखभाल से संबंधित गतिविधियां संचालित करने के लिए उपयुक्त प्रावधान हैं, एनसीडीसी निधि से राशि प्राप्त कर सकेगी।
  • सहकारी समितियों की ओर से अस्पताल, मेडिकल काॅलेज, आयुष अस्पताल, लैब, डायग्नोस्टिक सेंटर, दवा केंद्र आदि खोले जाएंगे। इससे ग्रामीण इलाकों का विकास होगा।
  • एनसीडीसी की ओर से मिलने वाले लोन की ब्याज दर 9.6 रहेगी।
  • आयुष्मान सहकार योजना के तहत अस्पतालों के निर्माण, आधुनिकीकरण, विस्तार, मरम्मत, नवीकरण, स्वास्थ्य सेवा और शिक्षा का बुनियादी ढांचा शामिल किया है।

इसके अलावा अस्पताल/मेडिकल काॅलेज/आयुष/दंत चिकित्सा/नर्सिंग/फार्मेसी/ पैरामेडिकल/फिजियोथेरेपी काॅलेजों में स्नातक/स्नातकोत्तर कार्यक्रम, योग कल्याण केंद्र, आयुर्वेद/एलोपैथी/यूनानी सिद्ध/होम्यापैथी और अन्य पारंपरिक चिकित्सा स्वास्थ्य केंद्र, बुजुर्गों के लिए स्वास्थ्य देखभाल सेवाएं, उपशाम देखभाल सेवाएं, विकलांग व्यक्तियों के लिए स्वास्थ्य देखभाल सेवाएं, मानसिक स्वास्थ्य देखभाल सेवाएं, आपातकालीन चिकित्सा सेवाएं और आघात केंद्र, फिजियोथेरेपी सेंटर, मोबाइल क्लीनिक, हेल्थ क्लब और जिम, आयुष फार्मास्युटिकल्स विनिर्माण, औषधि परीक्षण प्रयोगशाला, डेंटल केयर सेंटर, नेत्र देखभाल केंद्र, प्रयोगशाला सेवाएं, ब्लड बैंक, पंचकर्म, क्षार सूत्र चिकित्सा केंद्र, यूनानी चिकित्सा पद्धति की रेजीमेंटल थेरेपी, मातृ एवं शिशु देखभाल सेवाएं, प्रजनन और बाल स्वास्थ्य सेवाएं भी इसमें शामिल होंगी।

दोस्तों, आपको बता दें कि आयुष सहकार योजना योजना के तहत इन सेवाओं को भी एनसीडीसी की ओर से सहायता के लिए उपयुक्त माना जा सकता है-जैसे कि टेलीमेडिसिन, डिजिटल हेल्थ से संबंधित सूचना औरकम्युनिकेशन टेक्नोलाजी, इंश्योरेंस रेगुलेटरी एंड डेवलपमेंट अथाॅरिटी यानी आईआरडीए की ओर से मान्यता प्राप्त स्वास्थ्य बीमा आदि।

साथियों, इस प्रकार आपने देखा कि आयुष्मान सहकार योजना के जरिये गांवों के इलाकों में स्वास्थ्य सेवाओं में बेहतरी लाने और वर्तमान स्थिति में आमूलचूल परिवर्तन की तैयारी है। यदि यह योजना अपने मकसद में खरी उतरती है तो कोविड-19 जैसी महामारी की स्थिति में भी लोगों को बेहतर स्वास्थ्य सेवाएं हासिल हो सकेंगी।

आयुष्मान सहकार योजना की पात्रता – Eligibility for Ayushman Sahakar Yojana

  • किसी भी राज्य में सहकारिता अधिनियम के तहत पंजीकृत सहकारी समितियां।
  • एनसीडीसी सहायता सीधे नहीं ली जा सकेगी।
  • एनसीडीसी की मदद केंद्र सरकार या राज्य सरकार या संघ शासन के माध्यम से प्रदान की जाएगी।

आयुष्मान सहकार योजना के लिए ऑनलाइन पंजीकरण प्रक्रिया – The online registration process for Ayushman Sahakar Scheme

दोस्तों, आयुष्मान सहकार योजना का लाभ पाने के लिए online registration प्रक्रिया का पालन करना होगा, जो कि बेहद आसान है। आपको इस योजना के लिए आवेदन करने को यह स्टेप्स फाॅलो करने होंगे-

आयुष्मान सहकार योजना के लिए ऑनलाइन पंजीकरण प्रक्रिया - The online registration process for Ayushman Sahakar Scheme

  • इसके बाद आपके सामने एनसीडीसी का होम पेज खुल जाएगा। इस पेज पर आपको काॅमन लोन एप्लिकेशन फाॅर्म का विकल्प दिखाई देगा।
  • आप इस विकल्प पर जैसे ही क्लिक करेंगे, आपके सामने अगला पेज खुल जाएगा।

आयुष्मान सहकार योजना के लिए ऑनलाइन पंजीकरण प्रक्रिया - The online registration process for Ayushman Sahakar Scheme

  • इस पेज पर आपको पूछी गई सारी जानकारी मसलन गतिविधि/लोन का मकसद, लोन का प्रकार आदि जवाब भरने होंगे।
  • सारी जानकारी भरने के बाद आपको सबमिट के विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • इस तरह आपका आवेदन पूरा हो जाएगा।

देश के गांवों में स्वास्थ्य के क्षेत्र में बड़े सुधार की उम्मीद –

देश के गांवों में आज जो स्वास्थ्य सेवाओं के हाल हैं, इस योजना के बाद उसमें बड़े सुधार की उम्मीद जताई जा रही है। दरअसल, कोरोना काल में स्वास्थ्य तंत्र के हाल देख आयुष्मान सहकार योजना को लांच किया गया है। देखा गया कि निजी क्षेत्रों में स्वास्थ्य सेवाएं प्रदान करने में जमकर लूट मचाई। ऐसी संस्थाओं की जरूरत महसूस की जा रही थी, जो ऐसी जगहों पर स्वास्थ्य सेवाओं का हाल दुरूस्त कर सकें, जहां सरकारी स्वास्थ्य सेवाएं कम या न के बराबर हैं।

इसीलिए सरकार ने एनसीडीसी से इस तरह की योजना का ब्लू प्रिंट तैयार करने को कहा, जिसके बाद यह आयुष्मान सहकार योजना सामने आई। अब सरकार की कोशिश इस बात की रहेगी कि अधिक से अधिक सहकारी समितियां आगे आएं और ग्रामीण क्षेत्रों में स्वास्थ्य सुधार की दिशा में लगकर कार्य कर सकें। इसके लिए वह कोई कोर कसर बाकी नहीं रख रही है।

आयुष्मान सहकार योजना हेल्पलाइन नम्बर – Ayushman Sahakar Yojana Helpline Number

दोस्तों, यदि आप इस आयुष्मान सहकार योजना के संबंध में अधिक जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं तो उसके लिए एनसीडीसी के हौज खास, नई दिल्ली-110016 स्थित कार्यालय में संपर्क कर सकते हैं। इसके अलावा आप टेलीफोन पर भी योजना के संबंध में मालूमात हासिल कर सकते हैं। एनसीडीसी के कार्यालय के टेलीफोन नंबर 011-26962478, 26960796 हैं। कार्यालय का फैक्स 011-26962370 है।

यदि आप ईमेल के जरिये आयुष्मान सहकार योजना के संबंध में जानकारी चाहते हैं तो आप mail@ncdc.in पर ईमेल कर सकते हैं। इसके माध्यम से आयुष्मान सहकार योजना के संबंध में अपने सवाल पूछ सकते हैं और बदले में जवाब पा सकते हैं। यह इस योजना के संबंध में जानकारी हासिल करने का सर्वाधिक सहूलियत भरा माध्यम है। यह केंद्र सरकार की महत्वाकांक्षी योजना है, इसलिए सभी अधिकारी इस योजना को कामयाब करने के कार्य में जी जान से जुटे हुए हैं।

अंतिम शब्द –

योजना का प्रचार प्रसार भी बेहद सधे हुए तरीके से किया जा रहा है। इसके लिए तमाम प्रचार माध्यमों का इस्तेमाल किया जा रहा है, ताकि कोई कोर कसर बाकी न रह जाए। एनसीडीसी वित्त पोषित राशि, क्योंकि राज्य सरकारों के जरिये दी जाएगी, इसलिए इस राशि का इस्तेमाल इसी कार्य में ही होगा, यह माना जा सकता है। दोस्तों, उधर खुद ग्रामीण भी इस योजना की ओर बड़ी आस भरी नजरों से देख रहे हैं। वह इस बात की उम्मीद लगाए बैठे हैं कि इस योजना के माध्यम से उनके क्षेत्रों में अच्छे अस्पताल होंगे। अच्छे मेडिकल कॉलेज होंगे। अच्छे चिकित्सा केंद्र होंगे, जिनसे उन्हें अच्छी स्वास्थ्य सुविधाओं का लाभ मिल सकेगा और वह और उनके परिजनों को इलाज के लिए किसी बड़े शहर में नहीं जाना होगा।

साथ ही वह निजी अस्पतालों की लूट खसोट से बच सकेंगे। वह और उनके परिजन कम से कम इलाज के अभाव में दम नहीं तोडेंगे। इलाके में ही वक्त जरूरत, रात बेरात उनका इलाज हो सकेगा। दोस्तों, आपको बता दें कि भारत में दूरस्थ गांवों की भी संख्या कम नहीं। आज भी शहर जाने के लिए मुख्य मार्ग तक पहुंचने में ग्रामीणों को कई किलोमीटर पैदल चलना पड़ता है। कई गर्भवती महिलाओं को तो इस क्रम में कई दफा जान से हाथ धोना पड़ता है।

मित्रों, यह थी आयुष्मान सहकार योजना के संबंध में जानकारी। उम्मीद करते हैं कि यह जानकारी आपके बेहद काम आएगी। यदि आप सहकार योजना के तहत लाभार्थी हों तो भी और यदि आप किसी प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कर रहे हों तो भी यह जानकारी आपके लिए उपयोगी साबित होगी। यदि आप किसी अन्य महत्वपूर्ण सरकारी योजना के विषय में हमसे जानकारी चाहते हैं तो नीचे दिए गए कमेंट बाॅक्स में योजना का नाम लिखकर हमें भेज दें। आपकी प्रतिक्रियाओं और सुझावों का हमें इंतजार रहेगा। ।।धन्यवाद।।

Spread the love

Leave a Comment