Artificial Intelligence Kya Hai? How AI works in Hindi | कृत्रिम बुद्धिमत्ता का उपयोग, फायदे व नुकसान!

टेक्नोलॉजी ने हमारा जीवन ही बदल दिया है। और इसे संभव करने में इंसान का बहुत बड़ा हाथ है। Human Brain और टेक्नोलॉजी ने मिल के कई सारे अविष्कार किये जिसमें से एक है। कम्प्यूटर और स्मार्टफोन। इन के अविष्कार से हमारे जीवन बहुत ही सरल हो गया है। और ये हमारे सारे काम आसानी से कर देते है। scientist हमेशा नयी खोज में लगे रहते है। जिसमें से एक है। Artificial Intelligence जिसे हम कहते है। कृत्रिम बुद्धिमत्ता। सन १९५६ में इस टेक्नोलॉजी के बारे में John McCarthy ने Dartmouth conference में दुनिया को बताया था। आज इस टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल बहुत सी जगह होता है। और खासकर के वह जहाँ भूल की कोई जगह नहीं होती।

Artificial Intelligence Kya Hai? How AI works in Hindi | कृत्रिम बुद्धिमत्ता का उपयोग, फायदे व नुकसान!

कृत्रिम बुद्धिमत्ता क्या है? What is Artificial Intelligence in Hindi –

AI एक ऐसा सिमुलेशन है। जिसके द्वारा आप एक ऐसी मशीन या रोबोट बनाते है। जो एक व्यक्ति की तरह सोच सकता है। और काम कर सकता है। आपने हमेशा सुना होगा की मशीन को चलाने के लिए भी मनुष्य दिमाग का इस्तेमाल होता है। पर यह एक ऐसा सिस्टम है। जो मनुष्य की तरह सोचने की क्षमता रखता है। इस टेक्नोलॉजी द्वारा मशीन से मनुष्यो के काम जैसे की प्रॉब्लम सॉल्विंग, स्पीच recognition अदि करवा सकते है। इस प्रक्रिया में कुल मिल के ३ प्रोसेस होते है। जिसमें सबसे पहले है। learning जहाँ मशीन को इंस्ट्रक्शन अनुसार कार्य को पूरा करना होता है। दूसरा है। Resoning जहाँ rules के हिसाब से सिस्टम को conclusion हासिल करना होता है। और आखिर में self –correction।

Types Of Artificial intelligence / AI के प्रकार –

Artificial Intelligence के कई प्रकार में divide किया गया है। उनके काम करने की क्षमता के अनुसार जो नीचे दर्शाया गया है :-

1) Weak AI (कमजोर कृत्रिम बुद्धिमत्ता) –

इस प्रकार के AI को इस तरह से डिज़ाइन किया गया है। की समय में केवल एक ही काम कर सकते है। इनका ज्यादातर इस्तेमाल Virtual Personal Assistant के तौर पे होता है। जैसे एप्पल में siri या ludo गेम।

2) Strong AI (शक्तिशाली कृत्रिम बुद्धिमत्ता) –

इन सिस्टम में मनुष्य की तरह बुद्धिमता होती है। जो कोई भी कार्य आसानी से कर सकते है। इनको मनुष्य की बुद्धि क्षमता के अनुसार डिज़ाइन किया है। जो कोई भी difficult task का solution जल्द से जल्द ला सके। इस सिस्टम से यह तय साबित हो गया था की मशीन भी इंसान की तरह सोच सकती है।

3) Reactive Machines –

यह बहुत basic AI सिस्टम है। जिसमें मैमोरी स्टोर नहीं होती और इसका इस्तेमाल सिर्फ तुरंत reaction के लिए जाता है। इसमें कोई भी past expereince सेव नहीं होता जिसकी वजह से इसका कोई फ्यूचर यूज़ नहीं है। लेकिन फिर भी इसका इस्तेमाल होता है। उदाहरण के तौर पे IBM का deep blue है। जो की एक चैस प्रोग्राम है।ये आपने और opponent क मूव को analyze करता है। और उसके हिसाब से आपने मूव लेने की क्षमता रखता है।

4) Limited Memory –

यह एक ऐसा सिस्टम है। जो फ्यूचर decision के लिए इस्तेमाल होता है। क्योंकि इसमें पास्ट एक्सपीरियंस स्टोर रहता है।यह ज्यादातर decision -making के काम आता है। लेकिन इसमें लिमिटेड मैमोरी है। इसलिए ये किसी भी औब्जर्वेशन के परमानेंटली स्टोर नहीं करता। इसका इस्तेमाल autonomous व्हीकल या सेल्फ-ड्राइविंग कोर्स में होता है।

5) Self Awareness –

यह एक बहु ही बेहतरीन सिस्टम है। जिसमें खुद का conscious,Self -awareness और intelligence है। इनको इस प्रकार डिज़ाइन किया गया है। के आपको ये human mind ही लगेगा जो condition को समाज कर इनफार्मेशन का इस्तेमाल करके decision लेता है।

6) Theory of mind –

यह एक ऐसा प्रकार है। जिसमें मनुष्य की तरह इमोशंस,थॉट्स,एक्सपेक्टेशन और यहाँ तक की बात करने की क्षमता होगी। इस्पे खूब research किया जा रहा है। लेकिन अभी तक ऐसा कोई सिस्टम सामने नहीं आया है।

Artificial Intelligence Ke Upyog In Hindi –

  • डाक्यूमेंट्स प्रोसेसिंग सबसे ज्यादा समय लगाने वाले कार्य है। और इन्हें बहुत ध्यान से करना होता है। लेकिन आज AI की मदद से ये आसान हो गया है। डाक्यूमेंट्स प्रोसेसिंग बहुत चिंता करक काम था जो AI द्वारा बहुत सरल और कुशल हो गया है।
  • AI ने education के सहित में भी बड़ा कमाल दिखाया है। और इसलिए आज ग्रेडिंग सिस्टम का काम ऐसी मशीन संभालती है। Artificial intelligence Tutors की द्वारा बच्चे घर बैठे किसी भी टॉपिक पे जानकारी आसानी से ले सकते है। और इससे जनरल नॉलेज अच्छा हो गया है।
  • AI की मदद से आज patients का इलाज बेहतर होगा है। Healthcare Industry में AI की मदद से सभी बीमारियों का इलाज करना आसान हो गया है। आज डॉक्टर बीमारी आसानी से पकड़ लेते है। और वक़्त पे diagnose करने से इंसान को एक सेहतमंद जिंदगी दे पा रहे है।
  • Repetative टास्क को अच्छी तरह से सँभाल ने के लिए AI से बेहतर कोई विकल्प नहीं है। AI एल्गोरिदम के द्वारा ऐसा टास्क आसानी से संभल सकते है। और ऐसे कामों के लिए ज्यादा बुद्धिमत्ता की ज़रुरत नहीं होती। Artificial intelligence मशीन द्वारा आप multi-tasking करवा सकते है। जिससे प्रोडक्टिविटी भी बेहतर हो सकती है।
  • AI मशीन इंसानो की तरह सोच और समाज सकती है। लेकिन इन्हे ब्रेक की आवश्यकता नहीं होती और इसलिए आप इन्हें लम्बे समय तक इस्तेमाल कर सकते है। आप मशीन से २४/७ काम करवा सकते है। और ये मनुष्य से बेहतर रिज़ल्ट दे सकते है।

कृत्रिम बुद्धिमत्ता के उदाहरण / Artificial Intelligence Examples –

AI ने कई सारे क्षेत्रों में अपना कमल दिखा रहा है। और आज भी इनको फ्यूचर के लिए तैयार किया जा रहा है। Artificial intelligence की काम करने की क्षमता को देख कर कम्पनी ने मशीन लर्निंग में अच्छा निवेश किया जिसके कारण AI प्रोडक्ट्स और यहाँ तक की AI अप्प्स दुनिया को मिली। तो देखते AI के कुछ बेहतरीन उदाहरण जो हम आम जिंदगी में इस्तेमाल करते है। :

Tesla –

यदि आप कार geek है। तो आपने tesla के बारे में सुना होगा जिसमें सैल्फ ड्राइविंग का फीचर है। ये AI का सबसे बेहतरीन ऑटोमोबाइल का उदाहरण है। जहाँ इनोवेशन के द्वारा कैपेबिलिटीज भी बढ़ गई है। जिससे ड्राइविंग ओर भी बेहतर हो गई है। आज इसकी सफलता को देख के ओर भी कई सैल्फ ड्राइविंग कर बन रही है। जोकि ओर स्मार्ट होगी।

Nest –

ये सबसे पुराण AI स्टार्ट-उप है। जो २०१४ में गूगल ने ख़रीदा था।इसमें Behavioral अल्गोरिथम का इस्तेमाल किया है। जिससे हमारे सचेडूले ओर व्यवहार के आधारित ऊर्जा को बचा सकते है। ये Nest Learning थर्मोस्टेट सभी के लिए बहुत उपयोगी है। ओर ये आपने आप टर्न ऑफ ओर ऑन हो जाता है।

Google Map –

गूगल ने बहुत से क्षेत्र में AI का इस्तेमाल करता है। जिसमें से एक है। Google Map। Artificial intelligence टेक्नोलॉजी आज रास्ता बताने के लिए बहुत ही उपयोगी है।इसमें AI मैपिंग के साथ giant's टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल हुआ है। जो सड़क को scan करता है। ओर साथ ही अल्गोरिथ्म्स का इस्तेमाल करके सही से रूट बताता है। इसके अविष्कार से आप किसी भी अंजान जगह आसानी से पहुंच सकते है। गूगल ने इसमें voice assistant भी ऐड कर दिया है। जिससे ये आपको बोल के रास्ते बताती है। ओर यह एक बहुत बड़ी तरक्की है।

Siri –

यह apple फ़ोन द्वारा सभी users को पर्सनल असिस्टेंट प्रदान करती है।यह AI का सबसे बेहतर अविष्कार है। जिसके द्वारा आपको सिर्फ Hey Siri बोल कर आपने बहुत से काम इनके द्वारा करवा सकते है। यदि आपको किसी को मैसेज करना है। या कॉल करना है। तो भी Siri से करवा सकते है। सिर्फ इतना ही नहीं ये आपके लिए इंटरनेट से इनफार्मेशन भी ढूंढ सकती है। ओर आपके आदेश अनुसार काम करती है।

आज इसके बढ़ते इस्तेमाल को देख Alexa डिवाइस भी उपलब्ध है। जो आपको सभीकाम में असिस्ट करती है। यह सब में मशीन लर्निंग टेक्नोलॉजी ओर AI का इस्तेमाल होता है। ओर इन सब से हमारा जीवन बहुत ही आसान हो गया है। ऐसे बहुत से क्षेत्र है। जहाँ AI के साथ दूसरी टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल करके बहुत से अविष्कार हुए है। जिन्होंने मनुष्य का काम आसान ओर सरल कर दिए है।

कृत्रिम बुद्धिमत्ता AI का लक्ष्य –

Artificial Intelligence एक ऐसी टेक्नोलॉजी है। जो मनुष्य की तुलना में अधिक काम और वो भी कम समय में आसानी से कर सकती है। यह बात भी सही है। की ऐसी मशीन को मनुष्य ने ही विकसित किया है। लेकिन इनकी capability मनुष्य से ज्यादा है। Artificial intelligence एक मशीन है। जो इंसानो की तरह थकती नहीं है। और इसलिए ये बिना रुके तेजी से सारे काम कर सकती है। ऐसी बहुत सी फील्ड है। जहाँ ऐसी मशीन इस्तेमाल हो रही है। और बहुत पे रिसर्च चल रहा है।

इंसान के काम में भूल की गुंजाइश होती है। पर अगर वो ही काम कोई मशीन करे तो चांस काम होते है। इंसान थक जाये तो ब्रेक भी चाहिए और कई बार आलसी भी हो जाता है। लेकिन AI मशीन में ऐसा कुछ नहीं होता और इसलिए इनकी काम करने की क्षमता मनुष्य से अधिक है। मशीन काम कुशलता पूर्वक करते है। जहाँ fault के आसार कम होते है। इन machines में decision पावर होता है। जिसकी मदद से ये कोई भी सवाल के जवाब आसानी से और तेज़ी से देते है। जैसी की Alexa, सीरी।

Artificial intelligence का मुख उद्देश्य एक ऐसी सिस्टम बनाना है। जो की तेजी से मनुष्य जैसे सारे काम कर सके। Artificial intelligence सिस्टम ऐसी है। जो सामान्य मनुष्य जैसे व्यवहार कर सके और उनकी तरह सोचने, समझने यहाँ तक की कुछ सिखने की क्षमता रखे। कृत्रिम बुद्धिमत्ता का इस्तेमाल बढ़ता जा रहा है। और ऐसी बहुत सी फील्ड है। जहाँ इन्हें लागू कर दिया है। और बहुत से area में रिसर्च चल रहे है। इससे सारे कठिन काम भी आसानी से और जल्द पूरे किया जा सकते है। फ्यूचर में AI के द्वारा इंसान से बेहतर काम ये मशीन कर पाएंगी।

कृत्रिम बुद्धिमत्ता AI की ज़रुरत क्यों है?

इंसान में सोचने और समझने की क्षमता होती है। लेकिन जब आपको कोई काम accuracy और तेजी से चाहिए तो मशीन का मुकाबले कोई नहीं कर सकता। इसलिए मनुष्य की बुद्धि और कंप्यूटर की स्पीड को एक साथ लाने के लिए AI का निर्माण हुआ। इस प्रकार के मशीन से सभी काम आसान हो जाते है। और ये आपके बहुत से काम सरल कर देता है।

Artificial intelligence का इस्तेमाल बहुत से क्षेत्र में किया जाता है। जैसे की यदि कोई कार स्पीड लिमिट क्रॉस करती है। तो कैमरा में उस कार का नंबर प्लेट के द्वारा नंबर लिया जाता है। फिर उसे मशीन द्वारा convert करके उस कैन ओनर का नाम और बाकी इनफ्रामेंशन प्राप्त हो जाती है। जिससे चलन उनके घर पंहुचा दिया जाये। Artificial intelligence की वजह से ये सब बहुत आसान हो गया है। लेकिन यहि काम यदि मनुष्य को करना पड़े तो काफी टाइम चाहिए।

इससे ये स्पष्ट है। की AI द्वारा काम तेजी से वो भी पूरी accuracy के साथ कर सकते है। ऐसा बहुत सी field है। जहाँ इनका इस्तेमाल किया जा रहा है। और आज भी इस पे रिसर्च चल रही है।

तो दोस्तों यह थी Artificial Intelligence Kya Hai? How AI works in Hindi | कृत्रिम बुद्धिमत्ता का उपयोग, फायदे व नुकसान  की जानकारी । यदि आपको यह जानकारी अच्छी लगे तो अपने दोस्तों के साथ शेयर करें। साथ ही यदि आपका किसी भी प्रकार का सवाल हो तो नीचे कमेंट बॉक्स में कमेंट करें। हम जल्द ही आपके सवालों के जवाब देगें।। धन्यवाद ।।

Spread the love

Leave a Comment