बंद बैंक एकाउंट कैसे चालू करें? बंद खाता चालू करने का एप्लीकेशन ऑनलाइन

|| बंद बैंक एकाउंट कैसे चालू करें, बंद खाता चालू करने का एप्लीकेशन ऑनलाइन, बंद अकाउंट कैसे चालू करें एप्लीकेशन in english, खाता चालू करें, बैंक अकाउंट चेक करना है, बंद खाता पुनः सक्रिय करें SBI, भारतीय स्टेट बैंक निष्क्रिय खाते सक्रियण पत्र ||

यदि आपने लंबे समय तक अपने किसी बैंक खाते में लेन-देन अर्थात ट्रांजेक्शन नहीं किया है तो वह बंद हो सकता है अथवा निष्क्रिय हो सकता है। यदि आपका बैंक खाता भी किसी वजह से बंद हो गया है एवं आप इसे चालू कराना चाहते हैं पर उसका तरीका नहीं जानते तो यह पोस्ट आपके ही लिए हैं।

आज हम आपको बताएंगे कि आप अपने बंद बैंक खाते को कैसे चालू करा सकते हैं? इसकी क्या प्रक्रिया है? इसके लिए आपको कौन-कौन से दस्तावेजों की आवश्यकता पड़ेगी आदि-

बैंक एकाउंट क्यों बंद होता है? (why an account becomes dormant)

बंद एकाउंट को चालू कराने की प्रक्रिया से पूर्व हम आपको यह बताना चाहेंगे कि एक बैंक एकाउंट कब और क्यों बंद होता है। सामान्य रूप से यदि आप दो वर्ष तक किसी बैंक में कोई ट्रांजेक्शन (transaction) नहीं करते तो वह बंद खाता अर्थात डोरमैंट एकाउंट (dormant account) कहलाता है।

बहुत से निष्क्रिय एकाउंट (inactive account) एवं बंद एकाउंट (inoperative or dormant account) में अंतर नहीं समझ पाते। आपके लिए हम इस अंतर को स्पष्ट कर देते हैं। देखिए, जब कोई अपने बैंक एकाउंट में 12 माह अर्थात एक वर्ष तक कोई लेन देन अर्थात ट्रांजेक्शन नहीं करता तो इसे निष्क्रिय एकाउंट की श्रेणी में रखा जाता है।

बंद बैंक एकाउंट कैसे चालू करें? बंद खाता चालू करने का एप्लीकेशन ऑनलाइन

बैंक एकाउंट बंद होने से क्या होता है? (what happens if an account is dormant)

दो साल तक किसी भी प्रकार का लेन देन न होने की स्थिति में जब बैंक एकाउंट बंद हो जाता है तो आप उसकी कई प्रकार की सुविधाओं से वंचित हो जाते हैं। यह सुविधाएं निम्नवत हैं-

  • एटीएम से ट्रांजेक्शन संभव नहीं होता।
  • आप नया एटीएम कार्ड (ATM card) जारी नहीं करा सकते।
  • इस खाते से आप कोई नेट बैंकिंग (net banking) की सुविधा नहीं उठा सकते।
  • चेकबुक (cheque) जारी नहीं करा सकते।
  • यदि आपका ज्वाइंट एकाउंट (joint account) है तो खातेदार को हटवा नहीं सकते अथवा किसी नए खातेदार को साथ नहीं जोड़ सकते।

बैंक लेन-देन के दायरे में क्या क्या शामिल होता है? (what is included in a bank transaction)

एक बैंक लेन देन में केवल बैंक खाते में पैसा जमा करना एवं निकालना ही शामिल नहीं होता। इसमें ये तमाम चीजें शामिल होती हैं-

  • बैंक एकाउंट में पैसे जमा करना अथवा निकालना। चाहे आप बैंक जाकर करें अथवा एटीएम, इंटरनेट बैंकिंग के माध्यम से।
  • यदि कोई दूसरा व्यक्ति आपके खाते में पैसा जमा करता है तो उसे भी आपके बैंक अकाउंट से हुआ लेन देन ही माना जाता है, चाहे यह आनलाइन (online) ही क्यों न हो।
  • यदि आपका किसी दूसरे बैंक में सेविंग्स स्कीम (saving schemes) का खाता है, एवं उसका ब्याज (interest) आपके खाते में आता है। यह भी आपका लेन-देन ही होगा।
  • किसी सरकारी योजना का लाभ अथवा शेयर बाजार के लाभ का पैसा यानी डिविडेंड आपके एकाउंट में पहुंचता है तो यह भी आपका ट्रांजेक्शन होगा।
  • यदि आपके एकाउंट से कोई ईएमआई (EMI) कटती है तो वह भी आपके लेन-देन में शामिल मानी जाएगी।

किस तरह का लेन-देन आपका नहीं माना जाएगा (what type of transaction will not be treated as account holder’s transaction)

किसी सेवा के लिए बैंक की ओर से काटा जाने वाला चार्ज एवं बैंक में आपके बचत खाते में जमा पैसे पर यदि बैंक ब्याज भेजता है तो इसे लेन-देन के दायरे में नहीं रखा जाता।

बंद बैंक एकाउंट चालू कराने की क्या प्रक्रिया है (what is the process to open a dormant account)

यदि आपके बैंक में 12 महीने अर्थात एक साल तक कोई ट्रांजेक्शन नहीं हुआ है और वह खाता निष्क्रिय हो गया है तो आप महज एक लेन-देन करके उसे चालू कर सकते हैं।

लेकिन बात बंद बैंक एकाउंट की हो रही है। इसे चालू कराने की एक प्रक्रिया है। बंद बैंक एकाउंट को कैसे चालू कराया जा सकता है, अब हम आपको इसकी प्रक्रिया की जानकारी देंगे, जो कि निम्नवत है-

  • सबसे पहले आपको अपने बैंक की शाखा में संपर्क करना होगा। वहां जाना होगा।
  • यहां आपको बताना होगा कि आपका खाता बंद है एवं आप उसे खुलवाना चाहते हैं।
  • यहां आप से लिखित में (in writen) बंद एकाउंट को खोलने की एप्लीकेशन ली जाएगी।
  • इसके पश्चात आपका पुनः केवाईसी (KYC) कराया जाएगा।
  • आपको अपनी पहचान एवं पते का प्रूफ देना होगा।
  • केवाईसी वेरिफिकेशन के बाद आपका खाता दोबारा चालू कर दिया जाएगा।
  • अब आप इस खाते से जुड़ी सभी बैकिंग सेवाओं का लाभ उठा सकेंगे।

केवाईसी वेरिफिकेशन के लिए किन दस्तावेजों की आवश्यकता पडे़गी (what documents are required for kyc verification)

अब हम आपको जानकारी देते हैं कि आपको केवाईसी वेरिफिकेशन के लिए किन दस्तावेजों की आवश्यकता पड़ेगी-

1. आपकी पहचान का प्रमाण-

अपनी पहचान के प्रमाण के तौर पर आप अपने किसी भी फोटो युक्त दस्तावेज की फोटो काॅपी इस्तेमाल कर सकते हैं। जैसे-आपका आधार कार्ड, ड्राइविंग लाइसेंस, पासपोर्ट, राशन कार्ड आदि।

2. आपके पते का प्रमाण-

अपने पते के प्रमाण के रूप में आप कोई भी ऐसा दस्तोवज (document) जमा कर सकते हैं, जिसमें आपका पता लिखा हो। जैसे आपका आधार कार्ड, राशन कार्ड, आपका ड्राइविंग लाइसेंस, आपका पासपोर्ट, मकान मालिक का टेलीफोन अथवा बिजली का बिल आदि।

यहां यह भी बताना अनुचित न होगा कि कई बैंकों में वीडियो कांफ्रेंसिंग (video conferencing) के माध्यम से केवाईसी प्रोसेस को पूरा करके संबंधित व्यक्ति के डोरमेंट एकाउंट को दोबारा एक्टिवेट कर दिया जाता है।

बैंक खाता चालू करने का एप्लीकेशन इन हिंदी (application sample for re opening the dormant account)

बहुत से लोग होते हैं, जो अपनी बात अच्छे से कह सकते हैं, लेकिन लिख नहीं सकते। उनसे प्रार्थना पत्र लिखने को कह दो तो वे बगलें झांकने लगते हैं। यदि आप भी एप्लीकेशन नहीं लिख पाते हैं तो हम आपको बताएंगे कि आप अपने बंद बैंक खाते को चालू कराने के लिए लिखित में आवेदन कैसे कर सकते हैं। इसका नमूना निम्नवत है-
———————

सेवा में

शाखा प्रबंधक महोदय
बैंक, शाखा का नाम
स्थान का नाम

विषय: बंद खाता चालू कराने के लिए प्रार्थना पत्र

महोदय

निवेदन इस प्रकार से है कि मैं आपके बैंक का खाताधारक था। किंतु आवश्यक लेन-देन न होने के कारण मेरा बैंक खाता (खाता संख्या) बंद हो गया है। अब मैं अपने उसी खाते को पुनः चालू कराना चाहता चाहती हूं। अतः आपसे निवेदन है कि मेरा बंद हुआ खाता पुनः चालू करने का कष्ट करें।

धन्यवाद।
दिनांक-

भवदीय
आवेदक का नाम
बंद बैंक खाता संख्या
मोबाइल नंबर
हस्ताक्षर

——————-

आप बैंक की आधिकारिक वेबसाइट से भी एप्लीकेशन फार्म डाउनलोड कर सकते हैं

यदि आप अपना बंद बैंक खाता चालू कराना चाहते हैं तो बैंक की आधिकारिक वेबसाइट से भी एप्लीकेशन फार्म डाउनलोड कर सकते हैं। उदाहरण के लिए यदि आपका खाता बैंक में था, लेकिन अब बंद है तो एचडीएफसी बैंक में बंद खाता खुलवाने की प्रक्रिया निम्नवत होगी-

  • आपको सबसे पहले बैंक की आधिकारिक वेबसाइट https://www.hdfc.com/ पर जाना होगा।
  • यहां होम पेज पर कार्नर में आपको आस्क ईवा (ask eva) का फीचर दिखाई देगा।
  • आपको इस पर क्लिक करके अपना सवाल डालना होगा-बंद बैंक खाता कैसे चालू करें? (how to open dormant account?)।
  • अब आपके सामने (download application form to open dormant account) आएगा। आपको इस लिंक पर क्लिक करना होगा। अब आपके सामने आवेदन पत्र आ जाएगा।
  • आपको डाउनलोड करके इसका प्रिंट लेकर इसमें अपना नाम, पता, खाता संख्या एवं खाता बंद होने का कारण सही सही भरना होगा।
  • इसके बाद स्व सत्यापित (self attested) आईडी प्रूफ की एक काॅपी लगाकर संबंधित बैंक शाखा में जाकर इस फार्म को जमा कर देना होगा।
  • यहां केवाईसी करके आपसे एक संक्षिप्त ट्रांजेक्शन आपके खाते में कराया जाएगा। इस प्रकार आपका बंद खाता चालू हो जाएगा।

Download ICICI Dormant Account Application PDF Form –

बैंक खाता दोबारा चालू कराने के लिए क्या कोई फीस लगेगी (is there any fee to open dormant account)

यह सवाल अधिकांश खाताधारकों के मन में आता है, जिनका बैंक बंद हो चुका है। वह समझते हैं कि बैंक बंद खाते को दोबारा चालू कराने के लिए उनसे कोई फीस वसूलेगा। जबकि ऐसा बिल्कुल नहीं है। बैंक इसके लिए कोई चार्ज नहीं लेता। एक और बाद बंद पड़े खातों में यदि पहले से कोई राशि है, तो वह लैप्स नहीं होती। मिनिमम बैलेंस न होने पर पेनल्टी कटने पर भी रोक लगा दी जाती है।

बंद बैंक खाता खोलने में बैंक कितना समय लेता है (how much time it takes to open a dormant account)

एक और महत्वपूर्ण सवाल, जो बहुत से खाताधारकों के मन में आता है। बंद बैंक खाता खोलने में बैंक कितना समय लेता है? इसका जवाब है कि केवल एक कार्य दिवस (working day) में बैंक आपके बंद खाते को चालू कर देता है। जैसा कि स्पष्ट है, अवकाश की स्थिति में बैंक इसके बाद वाले कार्य दिवस पर बैंक खाता चालू करने का कार्य कर देगा।

बैंक खाता बंद होने से पहले क्या बैंक सूचना देता है (does bank informs before account becomes dormant)

यदि किसी बैंक में दो साल अथवा इससे अधिक समय से कोई लेन-देन नहीं हो रहा है तो बैंक आपको इस संबंध में अवश्य चेताएगा। वह आपको खाता बंद होने के तीन माह पूर्व सूचना देने लगता है। आपके बैंक के साथ रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर (registered mobile number) एवं ईमेल आईडी (email id) पर भी इस संबंध में सूचना आती है।

आपको तभी अपने खाते को बंद होने से बचाना चाहिए। उसमें कोई न कोई लेन-देन करते रहना चाहिए। यह लेन-देन आपकी किसी ईएमआई का भुगतान, किसी शेयर के डिविडेंड आदि के क्रेडिट होने का हो सकता है। आप चाहें तो सरकारी योजना का लाभ लेने के लिए भी इस खाते को इस्तेमाल कर सकते हैं।

बैंक खाता बंद हो जाने की वजह क्या क्या होती हैं (what are the reasons behind an account becomes dormant)

यह तो हमने आपको बताया कि दो साल तक किसी प्रकार का लेन-देन न होने की स्थिति में बैंक खाता बंद हो जाता है। लेकिन ऐसा क्यों होता है। अब आपको बताते हैं। कई बार यह होता है कि नौकरी बदलने पर बैंक एकाउंट भी बदलना पड़ता है, उसी बैंक में खाता खुलवाना पड़ता है, जहां कंपनी का सेलरी एकाउंट होता है। अथवा किसी दूसरे शहर में ट्रांसफर हो जाने पर लोग अपने पुराने बैंक खाते को भूल जाते हैं। उसमें कोई लेन-देन नहीं होता।

बंद पड़े खातों का क्या नुकसान है? (what are the demerits of a dormant account)

बंद पड़े खातों का नुकसान यह तो है ही कि बैंक अपना ग्राहक खो देता है, लेकिन उससे भी बड़ा नुकसान यह है कि बंद बैंक खातों का इस्तेमाल फ्राड में किया जा सकता है। कई तरह के आर्थिक अपराधों में यह बात सामने आई है कि बंद पड़े खातों का इस्तेमाल करके भारी मात्रा में करेंसी का लेन-देन किया गया।

इसके अतिरिक्त कई बार आईटीआर भरते समय आपको अपने बैंक खातों की जानकारी देनी होती है, ऐसे में मुश्किल होती है।

कोरोना काल में बड़ी संख्या में बंद हो गए बैंक एकाउंट (many accounts become dormant during corona period)

जिस वक्त कोरोना लोगों को अपना ग्रास बना रहा था, उस वक्त उन पर एक मुसीबत यह पड़ी कि लोगों के खाते बड़ी संख्या में बंद हुए। उस समय हजारों लोगों की नौकरियां छूट गई थी। लाखों लोग बेरोजगार हो गए थे। ऐसे में खाते में लंबे समय तक ट्रांजेक्शन नहीं हुआ।

बहुत से लोग ऐसे थे, जो कोरोना के नियमों के कारण बैंक तक नहीं जा सके। तब बहुत से खाते डोरमेंट कर दिए गए। इससे लोगों को बहुत मुश्किलों का सामना करना पड़ा। क्योंकि कई खातों में हजारों रूपये थे। लेकिन वे एकाउंट एक्टिव न होने की स्थिति में अपने ही पैसे नहीं निकाल पा रहे थे।

बैंक खाता किस स्थिति में बंद हो जाता है?

दो वर्ष तक बैंक खाते में किसी प्रकार का ट्रांजेक्शन न होने की स्थिति में वह बंद हो जाता है।

निष्क्रिय एवं बंद बैंक खाते में क्या अंतर है?

यदि बैंक खाते में एक साल में कोई लेन-देन नहीं होता है तो उसे निष्क्रिय माना जाता है, वहीं जब किसी बैंक खाते में दो साल तक कोई ट्रांजेक्शन नहीं होता तो उसे बंद बैंक खाता करार दिया जाता है।

बंद बैंक खाता खुलवाने की क्या प्रक्रिया है?

बंद बैंक खाता खुलवाने के लिए खाताधारक को अपनी नजदीकी बैंक शाखा में जाना होगा। वहां शाखा प्रबंधक के नाम एक लिखित प्रार्थना पत्र देना होगा। केवाईसी वेरिफिकेशन के पश्चात संबंधित बंद बैंक खाता चालू कर दिया जाएगा।

केवाईसी कराने के लिए बैंक में कौन से दस्तावेजों की काॅपी देनी होती है?

केवाईसी कराने के लिए आपको बैंक में अपनी पहचान का प्रमाण एवं पते का प्रूफ देना होता है। यह सेल्फ अटेस्टेड स्वीकृत होते हैं।

क्या बंद बैंक खाता खुलवाने के लिए कोई बैंक फीस पड़ती है?

जी नहीं, इसके लिए बैंक कोई फीस नहीं वसूलता।

क्या निष्क्रिय खाते को चालू कराने के लिए भी केवाईसी कराना होता है?

जी नहीं, इसके लिए खाताधारक को केवल एक लेन-देन मात्र करने की आवश्कता होती है।

बैंक खाता बंद हो जाने की वजह क्या होती है?

कई बार नौकरी अथवा स्थान बदलने की वजह से खाताधारक को नया बैंक एकाउंट खोलना पड़ता है। ऐसे में लेन-देन न होने की वजह से उसका पुराना एकाउंट बंद हो जाता है।

कितने दिनों बाद बैंक खाता बंद हो जाता है?

बैंक एकाउंट में 12 माह अर्थात एक वर्ष तक कोई लेन देन अर्थात ट्रांजेक्शन नहीं करता तो इसे निष्क्रिय एकाउंट की श्रेणी में रखा जाता है।

हमने आपको इस पोस्ट में बंद बैंक खाता चालू कराने संबंधी जानकारी दी। पोस्ट में दी गई प्रक्रिया का पालन करके आप अपने बैंक खाते को आसानी से चालू करा सकते हैं। यदि इस पोस्ट पर आपका कोई सवाल है तो आपका स्वागत है। एक और जरूरी बात, यदि आपको यह पोस्ट काम की लगी है तो इसे अपने दोस्तों, मित्रों, परिचितों संग शेयर करना न भूलें। धन्यवाद।

———————————–

Contents show
Spread the love:

Leave a Comment