स्मार्ट कैसे बनें? स्मार्ट बनने के 10 टिप्स। 10 tips to become smart

|| स्मार्ट कैसे बनें? स्मार्ट बनने के 10 टिप्स, How to be smart? 10 tips to become smart, चेहरे को स्मार्ट कैसे बनाये, सुंदर और स्मार्ट कैसे दिखे, पढ़ाई में स्मार्ट कैसे बने, चेहरे को स्मार्ट कैसे बनाये girl, स्मार्ट कैसे दिखे लड़के, स्मार्ट दिखने के लिए कैसे कपड़े पहने, सबसे अलग कैसे दिखे ||

इस जमाने में जहां फोन तक स्मार्ट हैं, वहां इंसान का स्मार्ट होना तो बनता ही है। अपनी ओर से हर कोई स्मार्ट बनना चाहता है। कंपनियां भी अपने यहां स्मार्ट कर्मचारियों को नौकरी देने को प्राथमिकता देती हैं। स्मार्ट वर्क करने वाले कर्मचारी उनकी पहली पसंद होते हैं।

हर जगह स्मार्ट लोगों की मांग है। आखिर स्मार्ट कैसे बना जा सकता है? आज इस पोस्ट में हम आपको स्मार्ट बनने के टिप्स बताएंगे। इन के माध्यम से आप अपने जीवन को बेहतर बना सकते हैं। आइए, शुरू करते हैं-

स्मार्ट शब्द का क्या अर्थ है? (What is meaning of word smart?)

मित्रों, इससे पूर्व कि हम स्मार्ट बनने के तरीके जानें, आइए पहले स्मार्ट का अर्थ जान लेते हैं। यदि शाब्दिक अर्थ की बात करें तो प्रयोग के आधार पर स्मार्ट के कई अर्थ होते हैं। जैसे-होशियार, बुद्धिमान, चतुर, स्वच्छ, सुव्यवस्थित आदि।

स्मार्ट कैसे बनें? स्मार्ट बनने के 10 टिप्स। How to be smart? 10 tips to become smart

स्मार्ट कैसे बनें? स्मार्ट बनने के टिप्स क्या क्या हैं? (How to be smart? What are the tips to become smart?)

दोस्तों, यह तो आप जानते ही हैं कि इन दिनों स्मार्ट लोगों का जमाना है। हर कोई स्मार्ट व्यक्ति को पसंद करता है। कई लोग स्मार्ट बनने के लिए दूसरे लोगों को कॉपी (copy) करते हैं। लेकिन दोस्तों, इससे बात बनने वाली नहीं है। यदि आप स्मार्ट बनना चाहते हैं तो हम आपको ऐसे टिप्स (tips) बताएंगे, जिन्हें आजमा कर आप स्मार्ट बन सकते हैं। ये टिप्स इस प्रकार हैं-

1. चेहरे पर हमेशा स्माइल बनाए रखें (always keep smile on your face)-

एक स्मार्ट व्यक्ति हमेशा अपने चहेरे पर स्माइल (smile) रखता है। कोई भी व्यक्ति रोती-बिसूरती चेहरा नहीं देखना चाहता। हर कोई ऐसी शक्ल देखना चाहता है, जिस पर हमेशा मुस्कान यानी स्माइल हो।

यही एक स्मार्ट व्यक्ति की पहचान है कि वह अपने मन के भावों को अपने चहेरे पर नहीं आने देता। प्रत्येक परिस्थिति (every circumstances) में मुस्काना जानता है। हर कोई एक हंसने-खिलखिलाने व्यक्ति का दोस्त बनने को बेताब रहता है।

2. अपने ड्रेसिंग सेंस पर ध्यान दें (focus on your dressing sense)-

कोई भी व्यक्ति जो आपको नहीं जानता वह आपके कपड़ों से आपके व्यक्तित्व (personality) का अंदाजा लगाता है। आपका ड्रेसिंग सेंस (dressing sense) अच्छा होना चाहिए। आपके कपड़े कहीं से उधड़े अथवा अस्त-व्यस्त न हों। महंगे अथवा ब्रांडेड कपड़े पहनना आवश्यक नहीं, लेकिन आप जो भी पहनें, वह साफ-सुथरा, प्रेस किया हुआ हो।

दूसरी महत्वपूर्ण बात यह है कि आपको अवसर के अनुसार वस्त्रों का चुनाव करना चाहिए। जैसे कि यदि आप किसी ऑफिशियल मीटिंग (official meeting) में जा रहे हों तो वहां यदि आप भड़कीले कपड़े पहनकर जाएंगे तो आपका अच्छा इंप्रेशन (impression) नहीं पड़ेगा। तो ध्यान रखें कि आपको अपने ड्रेसिंग सेंस पर ध्यान देना होगा।

3. किसी को भी कॉपी न करें, ओरिजिनल रहें (don’t copy anyone, be original)-

आप जैसे हैं, वैसे ही रहें। किसी को भी कापी करने की कोशिश में अपनी ओरिजिनैलिटी (originally) न खोएं। इससे आपका मूल व्यक्तित्व (basic personality) कहीं गुम हो जाता है। जैसे फिल्म स्टार्स की कापी करने वाले कलाकारों को ही ले लीजिए।

कलाकार हमेशा याद रहते हैं, लेकिन उनके कापी करने वालों को लोग याद नहीं रखते। जैसे दिलीप कुमार, शत्रुघ्न सिन्हा जैसे कलाकारों की अदायगी लोग सालों साल याद रखेंगे, लेकिन उनको कापी करने वालों को कोई ठीक से जानने की भी जहमत नहीं उठाएगा।

4. कोई नया स्किल डेवलप करें (develop any new skill)-

दोस्तों, कुछ ऐसा करने की कोशिश करें, जिससे आपकी पहचान बने। आप ऐसा किसी खास स्किल को डेवलप करके भी कर सकते हैं। जैसे कि मान लीजिए आप किसी कार्यालय में काम करते हैं, तो आप कोई साफ्टवेयर स्किल सीख सकते हैं।

अथवा गिटार बजाने जैसा कोई ऐसा स्किल सीख सकते हैं, जो आपके सहकर्मियों एवं सामाजिक दायरे के बीच आपको एक नई पहचान दिलाए। हर कोई आपके स्किल को सराहे।

5. त्वरित निर्णय लेने की क्षमता विकसित करें (develop ability to make quick decision)-

एक स्मार्ट व्यक्ति प्रत्येक परिस्थिति में त्वरित निर्णय लेने की क्षमता रखता है। वह परिस्थितियों का तेजी से विश्लेषण (analysis) करने में सक्षम होता है। यदि आप भी स्मार्ट (smart) बनना चाहते हैं तो आपको यह खास गुण अपने भीतर डेवलप करना होगा।

6. पाजिटिव एटीट्यूड अपनाएं (keep positive attitude)-

प्रत्येक चीज के दो पहलू होते हैं। सकारात्मक एवं नकारात्मक (positive and negative)। अब यह आपके ऊपर होता है कि आप इसे कैसे लेते हैं। सकारात्मक यानी पाजिटिव अथवा नकारात्मक यानी निगेटिव। हमारी सलाह यह है कि निगेटिव विचारों (negative thoughts) को अपने ऊपर हावी न होने दें।

अपना एटीट्यूड हमेशा पाजिटिव बनाए रखें। जैसे यदि आपका अच्छे काम के बावजूद प्रमोशन नहीं हुआ है तो आपको बजाय इस बात पर निराश होने के अथवा अपनी स्थिति स्वीकारने के, अपने आपको किसी अन्य कंपनी में जाब के लिए तैयार करना होगा, ताकि आप आगे बढ़ सकें।

7. अपने बोलने के अंदाज पर काम करें (work on your style of speaking)-

यदि आप स्मार्ट बनना चाहते हैं तो आपको अच्छा दिखने और अपने ड्रेंसिंग सेंस पर काम करने के साथ ही अपने बोलने के अंदाज (speaking style) पर भी काम करना होगा। आपने देखा होगा दोस्तों कि कई लोग अपने कपड़े कैरी करने के अंदाज से प्रभावित करते हैं, लेकिन वे जैसे ही मुंह खोलते हैं, सब गुड़ गोबर हो जाता है।

यहां हम आपको सलाह देंगे कि आप कभी भी अपनी बात को चिल्लाकर न कहें। अपनी आवाज को इतना तेज भी न रखें कि दूसरों को अप्रिय लगे और इतना धीमा भी न रखें कि लोगों तक आपकी बात न पहुंचे। जहां तक हो सके अपने उच्चारण (pronounciation) को साफ रखें।

यदि आप किसी से बात कर रहे हैं, तो उसकी बात काटें नहीं। पहले दूसरे व्यक्ति को अपनी बात परी करने दें। फिर अपनी बात रखें। स्टेज शाई (stage shy) न बनें। आप चाहें तो पब्लिक स्पीकिंग (public speaking) का क्रैश कोर्स (carsh course) भी कर सकते हैं। यह आपको वाइस माड्यूलेशन (voice modulation) में भी मदद करेगा। लोग आपके बोलने के अंदाज को कापी करेंगे।

8. अपनी बाडी लैंग्वेज भी सुधारें (improve your body language)-

मित्रों, यदि आप स्मार्ट बनना चाहते हैं तो आपको अपने बोलने के अंदाज और ड्रेसिंग सेंस के साथ ही आपको अपनी बाडी लैंग्वेज (body language) को भी सुधारने की बेहद जरूरत है। जैसे-यदि आप किसी इंटरव्यू (interview) में बैठे हैं तो क्रॉस लेग (cross leg) यानी पैर पर पैर रखकर न बैठें।

यदि आप किसी से बात कर रहे हैं तो उस दौरान अपने हाथ बांधकर न रखें। इससे पता चलता है कि आप उस बातचीत में इंटरेस्ट (interest) नहीं ले रहे। इसके साथ ही किसी से बातचीत करते हुए उससे आई कांटेक्ट (eye contact) रखें, ताकि दूसरे के पास संदेश (message) जाए कि आप बातचीत पर पूरा ध्यान केंद्रित कर रहे हैं।

9. निगेटिव लोगों अपने आप से दूर रखें (keep distance from negative people)-

बहुत से लोग केवल निगेटिविटी फैलाने के लिए जाने जाते हैं। उनकी संगत में आए लोग भी उनके इस प्रभाव से स्वयं को बचा नहीं पाते। आपको ऐसे लोगों से दूरी बनाने की सख्त आवश्यकता होगी।

ये वे लोग हैं, जो बगैर बादलों के बरसात आने के भय से परेशान रहते हैं। ऐसे लोगों के साथ रहना आपको स्मार्ट नहीं बनाएगा, बल्कि आपके व्यक्तित्व (personality) को और उलझाव से भर देगा।

10. अपने आपको चलता फिरता एनसाइक्लोपीडिया बनाने की कोशिश करें (try to make yourself a moving encyclopaedia)

ज्ञान की शक्ति से तो आप सभी परिचित हैं। हर कोई ऐसे व्यक्ति के सानिध्य में रहना चाहता है, जो ज्ञान का भंडार हो। यदि आप भी स्मार्ट बनना चाहते हैं और यह चाहते हैं कि सभी लोग आपके प्रति आकर्षित हों तो इसके लिए आपको अपनी जानकारी को बढ़ाना होगा।

आप किताबों के जरिए अपनी जानकारी को बढ़ा सकते हैं। इसके अतिरिक्त इन दिनों यूट्यूब (YouTube) पर तमाम विषयों (subjects) पर जानकारी का खजाना उपलब्ध है। आप अपनी बेहतरी के लिए इस खजाने का सदुपयोग कर सकते हैं।

अच्छी सेहत कैसे बनायें? [How to make good health?]

दोस्तों, आपने यह अवश्य सुना होगा कि तंदुरूस्ती हजार नियामत है। आपकी स्मार्टनेस (smartness) का लाभ आपको तभी मिलेगा, जब आप सेहतमंद होंगे। यहां हम शारीरिक स्वास्थ्य (physical health) के साथ ही मानसिक स्वास्थ्य (mental health) की भी बात कर रहे हैं। यदि आप बार बार बीमार होते हैं, अथवा मन से अच्छा महसूस नहीं करते तो निश्चित रूप से इसका असर आपके व्यक्तित्व (personality) पर पड़ेगा।

स्मार्टनेस छोड़िए, आप ठीक से चीजों का आनंद भी नहीं ले पाएंगे। यदि आप दूसरों की नजर में स्मार्ट दिखना चाहते हैं तो आपको उसके लिए सबसे पहले स्वयं को स्वस्थ रखने की कवायद करनी होगी। इसके लिए आपको न केवल पौष्टिक भोजन (healthy diet) लेना होगा, बल्कि रेगुलर एक्सरसाइज (regular exercise) करनी होगी।

साथ ही योगाभ्यास (yoga practice) भी आपको स्वस्थ रखने में सहायता करेगा। अब हम आपको सेहतमंद (healthy) रहने के कुछ सामान्य टिप्स (general tips) बताएंगे, जो कि इस प्रकार से हैं-

1. संतुलित एवं पौष्टिक भोजन करें (eat balanced and healthy diet)-

संतुलित एवं पौष्टिक भोजन आपके शरीर को सेहतमंद रखेगा। अपने खाने में प्रोटीन (protein), विटामिन (vitamin), कैल्शियम (calcium) आदि प्रचुर मात्रा में शामिल करें। दूध, हरी सब्जियों का सेवन अवश्य करें। साथ ही सीजनल फलों को भी अपनी डाइट में अवश्य शामिल करें।

दिमागी सेहत के लिए ड्राईफ्रूट्स (dry fruits) भी सीमित मात्रा में अवश्य लें। चाहें तो किसी अच्छे डाइटीशियन (dietician) से अपना डाइट प्लान (diet plan) तैयार करा लें।

2. नियमित एक्सरसाइज अथवा व्यायाम करें (do regular exercise)-

यदि आप लगातार बैठने का काम करते हैं तो नियमित एक्सरसाइज (regular exercise) की आदत अवश्य डालें। अलग अलग अंगों की सेहत के लिए अलग अलग कसरत करें। जितनी देर व्यायाम करें, उतनी देर अपने मन को एकाग्र (concentrate) करने का प्रयत्न करें।

3. सुबह जल्दी उठने की आदत डालें (make it a habit to rise up early in the morning)-

आपको सुबह जल्दी उठने की आदत डालनी चाहिए। सुबह का वातावरण एकदम ताजा एवं प्रदूषण रहित होता है। स्वच्छ वातावरण का आपकी सेहत पर सकारात्मक प्रभाव (positive effect) पड़ता है। यदि आप सुबह सवेरे सैर को जाते हैं, तो निश्चित रूप से इसका आपकी सेहत पर अच्छा असर पड़ेगा।

4. कम से कम सात घंटे की नींद अवश्य लें (take atleast 6-7 hours sleep)-

बहुत से लोग होते हैं, जो रात को देर तक जागते रहते हैं। कभी वे अपने मोबाइल फोन से उलझे रहते हैं तो कभी टीवी से चिपके रहते हैं। लेकिन लंबे समय तक यह अवस्था आपको कई परेशानियों से रूबरू करा सकती है। बेहतर यही है कि आप अपने बिस्तर पर जाने का एक समय नियत कर लें और उसे फालो भी करें।

कम से कम छह से सात घंटे की नींद अवश्य लें। इससे आपकी आंखों एवं मस्तिष्क (eyes and mind) को भरपूर आराम मिलेगा और आप सुबह बगैर किसी तनाव के तरोताजा होकर उठेंगे।

5. दिन में भरपूर पानी पिएं (take enough water at day time)-

आपको दिन के वक्त भरपूर पानी पीना चाहिए। छह-सात गिलास तो आवश्यक रूप से। संतुलित मात्रा में पानी का सेवन आपकी त्वचा (skin) को कांतिमय (shining) भी बनाता है।

दूसरे आपके शरीर में पानी की कमी भी नहीं होती। गर्मियों में आपको खास तौर पर खूब पानी पीना चाहिए। रात के वक्त अधिक पानी पीने से बचना चाहिए।

6. अपना स्क्रीन टाइम घटाएं (reduce your scree time)-

बेशक इंटरनेट (internet) के इस दौरान कंप्यूटर एवं मोबाइल फोन (computer and mobile phone) आपके जीवन की आवश्यकता बन गए हों, लेकिन यदि आवश्यक न हों तो आप अपने इन गैजेट्स (gadgets) से दूर रहें।

अपना स्क्रीन टाइम कम करें (reduce your screen time)। इससे आपकी आंखों की सेहत (health of eyes) भी ठीक रहेगी, दूसरा आप भी सिरदर्द जैसी परेशानियों से बचे रहेंगे।

7. तनाव को पास न फटकने दें (don’t let tension ride on you)-

यदि आप अच्छा स्वास्थ्य (good health) चाहते हैं तो उसके लिए आवश्यक है कि आप किसी भी प्रकार के तनाव (tension) से दूर रहें। कोशिश करें कि आपके जीवन में जो भी अच्छा-बुरा घटता है आप उसका अपने ऊपर अधिक प्रभाव न पड़ने दें। इसके लिए आप अध्यात्म का भी सहारा ले सकते हैं।

अपने सभी कर्मों को ईश्वर को समर्पित करके कार्य करें। स्वयं को कर्ता भाव से मुक्त कर दें। निश्चित रूप से यह प्रक्रिया आपको तनाव से दूर रखेगी। आप चाहें तो तनावमुक्त रहने के लिए अच्छे संगीत अथवा अच्छी किताब की भी सहायता ले सकते हैं।

8. भावनात्मक सेहत पर भी ध्यान दें (keep focus on your emotional health too)-

हम लोग अक्सर स्वस्थ रहने का संबंध केवल शरीर (body) से समझते हैं, जबकि हमें भावनात्मक रूप (emotionally) से भी सेहतमंद रहने की बेहद आवश्यकता है। इसके लिए हमें अपनी भावनाओं को नियंत्रण में रखना सीखना होगा।

इस कार्य में योगाभ्यास भी हमारी मदद कर सकता है। इसकी सहायता से हम एकाग्र होने की तकनीक सीख सकते हैं। एकाग्रता बेकार के मन के भटकाव से हमें दूर रखेगी।

9. अपनी सीमाओं को पहचानें (identify your limits)-

बहुत सारे लोग दूसरों की जीवनशैली (life style) से प्रभावित होकर उनके जैसा बनने की अंधाधुंध दौड़ में लग जाते हैं। वह भी बगैर अपनी सीमाओं को जानें। ऐसा करना उन्हें मानसिक तनाव (mental tension) तो दे ही सकता है।

उनके शरीर को भी प्रभावित कर सकता है। बेहतर यही है कि अपनी सीमाएं पहचान लें और इस तथ्य (fact) को स्वीकार करें कि सभी लोग सभी कुछ नहीं कर सकते।

10. पैसा आवश्यक है, लेकिन संतुष्टि उससे भी जरूरी (money is necessary but satisfaction is more necessary)

बहुत से लोग अपने स्वास्थ्य की अनदेखी कर केवल पैसे के पीछे भागते हैं। यदि आप भी ऐसे ही लोगों में हैं तो समझ लीजिए कि पैसा बेशक आवश्यक है, लेकिन संतुष्टि उससे भी अधिक आवश्यक। यदि आप जो आपके पास है, उसमें संतुष्ट नहीं रहते तो आप हमेशा असंतुष्टि के भाव भरे रहते हैं।

यह भाव आपको परेशान किए रहता है और आप दूसरों जैसा बनने की होड़ में अपने स्वास्थ्य से हाथ धो बैठते हैं। ऐसा न करें। अपने लिए भविष्य के लक्ष्य (target for future) अवश्य निर्धारित करें, लेकिन किसी भी प्रकार की अंधी होड़ (blind race) का हिस्सा न बनें। यह आपके बेहतर जीवन (better life) के लिए बेहद आवश्यक है।

स्मार्ट का क्या अर्थ होता है?

स्मार्ट का अर्थ चतुर, बुद्धिमान, होशियार होता है।

स्मार्ट व्यक्ति बनने के क्या क्या टिप्स है?

ये टिप्स हमने आपको ऊपर पोस्ट में बताए हैं। आप वहां से जानकारी ले सकते हैं।

क्या स्मार्टनेस ब्रांडेड कपड़ों से आती है?

जी नहीं, स्मार्टनेस ब्रांडेड कपड़ों से नहीं आती, बल्कि इसके लिए अच्छा ड्रेसिंग सेंस आवश्यक है।

इन दिनों कंपनियां किस तरह के कर्मचारियों को पसंद करती हैं?

इन दिनों कंपनियां स्मार्ट वर्क करने वाले कर्मचारियों को पसंद करती हैं।

क्या आपका बोलने के अंदाज भी आपकी स्मार्टनेस को प्रभावित करता है?

जी हां, यह भी स्मार्टनेस को प्रभावित करने वाला एक बड़ा कारक है।

दोस्तों, हमने आपको इस पोस्ट (post) में बताया कि स्मार्ट कैसे बनें? पोस्ट में दिए टिप्स को अपनाकर आप भी अपने दोस्तों और समाज के बीच स्मार्ट व्यक्ति की छवि बना सकते हैं। यदि आपको यह टिप्स पसंद आए हैं तो इन्हें अपने मित्रों, परिचितों संग शेयर करना न भूलें। आपका हमसे कोई सवाल है तो नीचे दिए गए कमेंट बाक्स (comment box) में कमेंट (comment) के जरिए उसे हम तक पहुंचा सकते हैं। ।।धन्यवाद।।

——————-

Contents show
Spread the love:

Leave a Comment

सुकन्या समृद्धि योजना के नियम अपने बिज़नेस को ऑनलाइन कैसे करे? मुख्यमंत्री गौमाता पोषण योजना फ्लेक्स प्रिंटिंग का बिज़नेस कैसे करें? जिम कैसे खोले? | नया जिम खोलने की लागत, मुनाफा व मशीनें